आपको बता दे कि उतर भारत के लोकप्रिय 1500 बेड से अधिक वाला  , आधुनिक तकनीक व कुशल डॉक्टरों को टीम वाले श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में ढाई साल की मासूम बच्ची की निःशुल्क काॅकलियर इम्प्लांट सफल सर्जरी हुयी ।


आपको ये भी बता दे कि भारत सरकार दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग की एडिप स्कीम के अन्तर्गत अनुबंधित है उतर भारत का लोकप्रिय श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल।

जानकारी अनुसार निजी रेट पर इस सर्जरी के लिए 10 से13 लाख तक का खर्च होता है (काॅकलियर इम्प्लांट सर्जरी के लिए ) पर यहा निशुल्क सफल सर्जरी हुई है जिसके लिए बोलता उत्तराखंड कि तरफ से डॉक्टरो की पूरी टीम को बहुत सुभकामनाये।
ख़बर विस्तार से:

देहरादून
ख़ुश खबरी ये है कि उत्तर भारत के लोकप्रिय श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के डाॅक्टरों ने ढाई साल की मासूम बच्ची की काॅकलियर इम्प्लांट सर्जरी कर बच्ची की सुनने की शक्ति लोटा दी है। बता दे कि ये मासूम बच्ची जन्मजात से ही बोलने ओर सुनने में असमर्थ थी। इस सफल आपरेशन के बाद बच्ची की स्पीच थैरपी का कोर्स अभी जारी है। ओर जल्द ही ये मासूम बच्ची सामान्य बच्चों व परिवारजनों के साथ बोलने सुनने लगेगी। इस सफल ओर निशुल्क सर्जरी के बाद
बच्ची के माता-पिता ने अपनी खुशी का इजहार किया उन्होंने कहा कि हमने कभी सोचा भी नही था कि हमारे घर की रौनक हमारी लाडली सामान्य बच्चों की तरह ही अब सुनने और बोलने लगेगी।
वे बेहद खुश हैं ओर उन्होंने पहले लोकप्रिय श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के डाॅक्टर की टीम का धन्यवाद किया फिर भारत सरकार की एडिप स्कीम को भी धन्यवाद दे रहे हैं।
बता दे कि लोकप्रिय श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में एडिप स्कीम के अन्तर्गत काॅकलियर इम्प्लांट सर्जरी का यह पहला केस दर्ज किया गया है।

वही श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के चेयरमैन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज जी ने भी इस सफल सर्जरी के लिए डाॅक्टरों की टीम को बधाई दी। श्री महंत जी ने कहा कि यह योजना उतराखण्ड राज्य के कमजोर ओर आर्थिक परिवार के बच्चों के लिए संजीवनी का काम कर रही है। ओर जिन बच्चों को जन्मजात बोलने सुनने की समस्या है वे श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के ईएनटी विभाग में सम्पर्क कर योजना का लाभ ले सकते हैं। इसके साथ ही श्री महंत जी ने अस्पताल के अलग अलग सभी विभागों की टीम के हेड को भविस्य के लिए उचित दिशा निर्देश भी दिए।
एक बार फिर बता दे कि श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल भारत सरकार दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग की एडिप स्कीम (असमर्थ विकलांगजनों के सहायतार्थ भारत सरकार की योजना) के अन्तर्गत अनुबंधित अस्पताल है। इस योजना के अन्तर्गत मासूमो की निःशुल्क काॅकलियर इम्प्लांट सर्जरी की जा सकती ।जबकि प्राईवेट रेट पर काॅकलियर इम्प्लांट सर्जरी का खर्च 10 लाख से 13 लाख रुपये तक आ जाता है।


जिसका अस्पताल मै सफल सर्जरी की गई वो मासूम अवनी की उम्र महज (ढाई साल) है जो पुत्री श्री संन्दीप कुमार व सुमन सैनी निवासी मोहल्ला टाकियान, गणेश चैक, कस्बा गंगो, पो0ओ0 गंगो तहसील नकुड, सहारनपुर के रहने वाले है । अवनी को जन्म से ही न बोल पाने व न सुन पाने की परेशानी थी।
बच्ची के परिजनों ने मीडिया को बताया की उन्होंने कई अस्पतालों से लगातार सम्पर्क किया लेकिन कही जगह उपचार उपलब्ध न हो पाने व जहा उपचार दिखा तो खर्च लाखों में होने के कारण वे बच्ची का उपचार नहीं करवा पा रहे थेे। उन्होंने बताया कि फिर जैसे तैसे हमने श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के नाक-कान-गला रोग विभाग में सम्पर्क किया। ओर उसके बाद श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के ईएनटी विभाग के प्रमुख डाॅ (कर्नल) वी0पी0 सिंह, डाॅ (प्रो0) त्रिप्ती ममगाईं, डाॅ माधुरी, डाॅ तनवी व टीम ने दिनांक 16 मई 2019 को अवनी का सफल आपरेशन किया। लगभग 3 घण्टे तक चले इस आपरेशन में सफलता पूर्वक काॅकलियर इम्प्लांट किया गया।
वही श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के नाक-कान-गला रोग विभाग के प्रमुख डाॅ वीपी सिंह ने कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चे एडिप स्कीम के अन्तर्गत श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में सम्पर्क कर सकते हैं। भारत सरकार दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग की एडिप स्कीम (असमर्थ विकलांगजनों के सहायतार्थ भारत सरकार की योजना) के अन्तर्गत अनुबंधित अस्पताल होने के कारण ऐसे बच्चे काॅकलियर इम्प्लांट की निःशुल्क सर्जरी का लाभ ले सकते हैं। एडिप स्कीम के नियमानुवार 5 वर्ष तक के जन्मजात गूंगे-बहरे बच्चों व जन्म के पश्चात बहरेपन की शिकायत वाले 12 वर्ष तक के बच्चे एडिप स्कीम के अन्तर्गत निःशुल्क काॅकलियर इम्प्लांट सर्जरी का लाभ लोकप्रिय श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में ले सकते हैं।
बहराल बोलता उत्तराखंड की अपील है आपसे कि इस ख़बर को पढ़ कर इसे आगे तक फारवर्ड करे । क्योकि आपके द्वारा प्रदान की जाने वाली ये जानकारी कही उन घरों मै खुशियां ला सकती है जिनको अभी तक जानकारी का अभाव है। चाहे वो भारत सरकार की निशुल्क योजना का लाभ लेने की बात हो या फिर एक उतर भारत के लोकप्रिय महंत इन्दिरेश अस्पताल के बारे मे जानकारी होने की जहा सफल इलाज या सर्जरी होती है।
ओर जो भारत सरकार दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग की एडिप स्कीम (असमर्थ विकलांगजनों के सहायतार्थ भारत सरकार की योजना) के अन्तर्गत अनुबंधित अस्पताल है।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here