उत्तराखंड में यूक्रेन से अभी तक 86 नागरिक लौटे, जानकारी है कि  200  लोग अब भी फंसे है , ओर मुख्य सचिव के निर्देश पढ़े पूरी ख़बर

 

 

आपको बता दे कि उत्तराखण्ड के मुख्य सचिव एसएस संधू ने वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि परिजनों और पहचान वालों से मिलकर यूक्रेन में फंसे लोगों की लोकेशन का पता लगाया जाए ताकि उनकी जल्द से जल्द सकुशल वापसी हो

बता दे कि यूक्रेन में फंसे नागरिकों का उत्तराखंड लौटने का सिलसिला जारी है। गुरुवार तक राज्य के 86 छात्रों व अन्य लोगों ने वापसी की। अब भी वहां 201 नागरिकों के फंसे होने की सूचना है। जिनकी लोकेशन प्राप्त हो गई है, उन्हें केंद्र सरकार के ऑपरेशन गंगा के तहत स्वदेश लाने के प्रयास हो रहे हैं

सोशल मीडिया पर नजर रखने के निर्देश

मुख्य सचिव ने सोशल मीडिया पर नजर रखने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि फेसबुक और ट्विटर आदि के माध्यम से किसी छात्र या अन्य नागरिक के फंसे होने की जानकारी मिलती है लेकिन लोकेशन ट्रैक नहीं हो पा रही है तो पता लगाया जाए कि ये कहां हैं, इसके लिए एडीजीपी इंटेलिजेंस से संपर्क में रहें।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड: 'राष्ट्रपति पुलिस पदक' और 'पुलिस पदक' से सम्मानित होंगे ये पुलिस अधिकारी..

परिजनों से व्यक्तिगत संपर्क बनाएं अधिकारी

मुख्य सचिव ने कहा कि जो तीन व्हाट्सएप ग्रुप बनाए गए हैं, उनके माध्यम से अधिकारी यूक्रेन में फंसे नागरिकों के परिजनों से व्यक्तिगत रूप से संपर्क साधने का प्रयास करें। बताया गया कि जिला स्तर के अधिकारी व्यक्तिगत रूप से निरंतर संपर्क बनाए हुए हैं।

ठहरने और खाने की व्यवस्था की गई

मुख्य सचिव ने कहा कि दिल्ली एवं मुंबई में राज्य की ओर से यूक्रेन से आने वाले उत्तराखंड वासियों के लिए समन्वय केंद्र बनाया गया है। सभी आगंतुकों के लिए ठहरने एवं खाने की व्यवस्था की गई है। दिल्ली से अपने गंतव्य तक लाने की व्यवस्था राज्य की ओर से की गई है।

 

 

 

 

सोशल मीडिया पर नजर रखने के निर्देश

मुख्य सचिव ने सोशल मीडिया पर नजर रखने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि फेसबुक और ट्विटर आदि के माध्यम से किसी छात्र या अन्य नागरिक के फंसे होने की जानकारी मिलती है लेकिन लोकेशन ट्रैक नहीं हो पा रही है तो पता लगाया जाए कि ये कहां हैं, इसके लिए एडीजीपी इंटेलिजेंस से संपर्क में रहें।

परिजनों से व्यक्तिगत संपर्क बनाएं अधिकारी

मुख्य सचिव ने कहा कि जो तीन व्हाट्सएप ग्रुप बनाए गए हैं, उनके माध्यम से अधिकारी यूक्रेन में फंसे नागरिकों के परिजनों से व्यक्तिगत रूप से संपर्क साधने का प्रयास करें। बताया गया कि जिला स्तर के अधिकारी व्यक्तिगत रूप से निरंतर संपर्क बनाए हुए हैं।

ठहरने और खाने की व्यवस्था की गई

मुख्य सचिव ने कहा कि दिल्ली एवं मुंबई में राज्य की ओर से यूक्रेन से आने वाले उत्तराखंड वासियों के लिए समन्वय केंद्र बनाया गया है। सभी आगंतुकों के लिए ठहरने एवं खाने की व्यवस्था की गई है। दिल्ली से अपने गंतव्य तक लाने की व्यवस्था राज्य की ओर से की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here