हिन्दू और हिन्दुत्व पर सवाल खड़ा करने वाली कॉंग्रेस के पाप राहुल के हरकी पेड़ी में डुबकी लगाने से भी नहीं धुलने वाले |
 
सीएम बनाने की सार्वजनिक मन्नत मांगने वाले अब वंचित वर्ग को बरगलाने के लिए यशपाल आर्य को विकल्ल्प बता रहे हैं |
 
NRC और नागरिकता संशोधन की विरोधी कॉंग्रेस बांग्लादेशी घुसपेठियों पर सवाल उठा रही है |
 
देहरादून | भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सुरेश जोशी ने आरोप लगाया कि कॉंग्रेस और उनके वरिष्ठ नेताओं की नीयत में ही खोट है | क्यूंकि कल तक भगवान बद्री केदार के दरबार में खुद को सीएम बनाने की सार्वजनिक मन्नत मांगने वाले हरीश रावत, समाज के वंचित वर्ग को बरगलाने के लिए आज यशपाल आर्य को राज्य संभालने के लिये बेहतर विकल्ल्प बता रहे हैं | उन्होने कहा कि सबने देखा, किस तरह रावत जी स्वयं को कॉंग्रेस पार्टी का सीएम चेहरा घोषित करवाने के लिए अपने आलाकमान के दरबार में माथा टेक रहे थे, उन्होने तो चेहरा नहीं बनाए जाने पर नए साल में सन्यास पर निर्णय लेने की घोषणा तक कर डाली थी | वहीं अब लालकुंआ में अपनी हार होती देखकर यशपाल आर्य की तारीफ कर दलित और पिछड़े समाज के मतदाताओं को भरमाने का कार्य कर रहे हैं | उत्तराखंड की महान जनता हरीश रावत और कॉंग्रेस की मंशा को भाँप चुकी है लिहाजा न वह उनके ब्राहमण आयोग बनाने और न ही यशपाल आर्य को आगे कर वंचित समाज को प्रभावित करने वाली उनकी चाल के झांसे में आएगी | उन्होने आरोप लगाते हुए कहा कि कल तक यशपाल आर्य को लोकतन्त्र के हत्यारों में घोषित करने वाले हरीश रावत उनका नाम आगे भी वहीं करते हैं जहां अनुसूचित वर्ग के वोटरों की बहुतायात होती है |
 
उन्होने राहुल गांधी के हरिद्वार दौरे पर सवाल करते हुए कहा कि राहुल गांधी कितनी भी डुबकी गंगा जी में लगा लें उनके हिन्दू और हिन्दुत्व को लेकर किए पाप नहीं धुलने वाले | उत्तराखंड की जनता उनके नकली जनेऊ धारी के असली रूप को पहचान चुकी है |
 
उन्होने कहा, कॉंग्रेस का दोगला चेहरा एक बार फिर सामने आया  क्योंकि जो कॉंग्रेस बांग्लादेशी घुसपेठियों को बाहर निकालने को लेकर भाजपा पर सवाल करते हैं उनके नेता बताए कि जब एनआरसी कानून का मसला सामने आया था तो उन्होने सदन के अंदर और बाहर विरोध क्यूँ किया था, जब पड़ोसी देशों के हिंदुओं समेत अन्य अल्पसंख्यक समुदाय से पीड़ित लोगों को देश में शरण देने की बात आई तो यही कॉंग्रेस बांग्लादेशी घुसपेठियों को भी शरणार्थियों में शामिल करने के लिए आंदोलन कर रही थी |  
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here