हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

आज सचिवालय सेवा संवर्ग की वेतन परिलब्धियों, पुरानी ए0सी0पी0 व्यवस्था बहाल किये जाने, कार्मिक शिथिलीकरण नियमावली, 2010 को पुनः प्रभावी किये जाने, सचिवालय भत्ते की दर को मूल वेतन का 10 प्रतिशत किये जाने, समीक्षा अधिकारी एवं अपर निजी सचिवों को 05 वर्ष की सेवा पर नाॅन फक्सनल आधार पर ग्रेड वेतन 5400 दिये जाने, रक्षक संवर्ग को पुलिस पैरिटी के स्थान पर सचिवालय पैरिटी दिये जाने, सचिवालय सहायकों को तृतीय एसीपी के रूप में ग्रेड वेतन 4600 का लाभ दिये जाने, सचिवालय में एसीपी के प्रकरणों में अपनायी जा रही दोहरी व्यवस्था के स्थान पर सभी कामिर्कों हेतु एकसमान नियम व मापदण्ड तय किये जाने तथा दिनांक 01 जनवरी, 2020 से महॅगाई भत्ते का ऐरियर भुगतान किये जाने के महत्वपूर्ण बिन्दुओं व मांगों पर वेतन विसंगति समिति की बैठक हुई

, जिसमें सचिवालय संघ के अध्यक्ष  दीपक जोशी, उपाध्यक्ष  सुनील लखेडा व महासचिव  विमल जोशी द्वारा सचिवालय संघ की ओर से अपना प्रभावी पक्ष व आधार प्रस्तुत किये गये।

लगभग 01 घण्टे चली सुनवाई बैठक में वेतन विसंगति समिति के अध्यक्ष   शत्रुघ्न सिंह  द्वारा वेतन विसंगति समिति के अन्य सदस्यगणों की उपस्थिति में गम्भीरतापूवर्क सभी तर्को व प्रस्तुत दस्तावेजों को सुना व समझा।
 
          समिति के अध्यक्ष को प्रस्तुत 10 सूत्रीय बिन्दुओं पर पृथक-पृथक पत्र सम्पूर्ण तथ्यों एवं आधारों सहित उपलब्ध कराते हुये संघ के अध्यक्ष   दीपक जोशी द्वारा विश्वास जताया गया है कि संघ की ओर से सभी मांगों पर अपना प्रभावशाली प्रस्तुतिकरण वेतन विसंगति समिति के समक्ष आज प्रस्तुत किया गया है,

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड सुनो: कोटद्वार और टनकपुर से दिल्ली के लिए दो नई जनशताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों की सौगात ,सांसद बलूनी ने दी खुशखबरी ...

जिसमें सचिवालय की समस्याओं पर पुरजोर पैरवी के साथ-साथ एम0ए0सी0पी0 व्यवस्था समाप्त कर ए0सी0पी0 की 10, 16, 26 वर्ष की पूर्व व्यवस्था को कार्मिक हित में बहाल किये जाने तथा कार्मिक शिथिलीकरण नियमावली, 2010 को पुनः प्रभावी किये जाने पर विशेष जोर डाला गया।

इन मांगों को पूर्ण कराये जाने की सचिवालय संघ की दृढसंकल्प इच्छाशक्ति से वेतन विसंगति समिति को अवगत कराया गया।
 
          समिति की ओर से सभी मांगों पर विस्तार से चर्चा करते हुये सभी अभिलेख लिये गये हैं तथा कहा गया कि सभी तथ्यों पर समिति अपने सदस्यों एवं सचिवालय प्रशासन, वित्त, कार्मिक के अधिकारियों का भी विभागीय मत लेते हेतु अपने विवेकानुसार सार्थक निर्णय लेगी। आवश्यकता पडने पर पुनः संघ को आमंत्रित किये जाने की वचनबद्धता समिति के अध्यक्ष द्वारा कही गयी।

यह भी पढ़े :  तीरथ सरकार ने पर्यटन कारोबारियों के लिए लिया बड़ा फैसला 49 हज़ार से अधिक कर्मचारियों को सौगात

सचिवालय संघ द्वारा उम्मीद जताई हैं कि पूर्व मुख्य सचिव एवं अध्यक्ष वेतन विसंगति समिति   शत्रुघ्न सिंह एक सकारात्मक दृष्टिकोण से कार्य करने वाले समझदार अधिकारी रहे हैं, निश्चित रूप उनके द्वारा सभी तथ्यों को समझा गया है तथा सकारात्मक निर्णय लिये जाने की उनकी कार्यशैली से सचिवालय संघ वाकिफ है, उनका यह कार्यकाल स्वर्णिम होगा, ऐसी सचिवालय संघ को उम्मीद है तथा यही कामना सदैव रहेगी।
 
          इसके अलावा सचिवालय संघ द्वारा आज से अपनी लम्बित मांगों का सचिवालय प्रशासन के सम्बन्धित अनुभागों से लेकर उच्चाधिकारियों तक मिलकर अनुश्रवण कार्य प्रारम्भ किया है तथा चरणबद्ध आन्दोलन का श्रीगणेश किया है। इसी सन्दर्भ में राज्य सम्पत्ति विभाग से जुडे मामलों में राज्य सम्पत्ति अधिकारी द्वारा देर सांय बुलायी गयी बैठक में भी सचिवालय संघ द्वारा प्रतिभागिता करते हुये सचिवालय परिसर एवं आवासीय कालोनियों में हो रही समस्याओं के समाधान पर अपना पक्ष रखा, जिसके उपरान्त बैठक में तय किया गया है कि संघ के सभी तथ्यों पर प्रमुख सचिव, राज्य सम्पत्ति विभाग की अध्यक्षता में जल्दी ही बैठक करते हुये सभी समस्याओं का समाधान कराया जायेगा।
 
दीपक जोशी अध्यक्ष सचिवालय संघ।
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here