हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

पिथौरागढ़ :

आपको बता दे कि पिथौरागढ़

नगर के निकटवर्ती नैनी सैनी क्षेत्र में गुलदार के हमले में गुलदार से भिड़ा ग्रामीण भारी पड़ा।

उसने अपनी आत्मरक्षा के लिए  गुलदार को मार दिया। नैनी सैनी निवासी नरेश सिंह सौन घर से लगभग 20 मीटर दूरी पर बकरियों को चरा रहा था। इस दौरान गुलदार ने एक बकरी पर झपट्टा मारा। नरेश सिंह बकरी को बचाने गया तो गुलदार ने उस पर ही हमला कर दिया। आत्मरक्षा के लिए नरेंद्र सिंह गुलदार के साथ भिड़ गया। दोनों में गुत्थमगुत्था हुई। नरेश सिंह के हाथ में दराती थी और उसने दराती से गुलदार पर प्रहार किया। दराती के वार से गुलदार की मौत हो गई। इस दौरान ग्रामीण भी घायल हो गया।

यह भी पढ़े :  ख़तरे मे है हमारी लोकभाषा , धाद का 30 साल से प्रयास जारी है , आप भी बचाओ अपनी बोली ओर भाषा

घटना की सूचना वन विभाग को दी गई। वन रेंजर दिनेश जोशी के नेतृत्व में वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। जहां पर गुलदार का शव कब्जे में लिया। इस संबंध में नरेंद्र सिंह सहित यह सब देख रहे ग्रामीणों के बयान लिए गए। वन रेंजर दिनेश जोशी ने बताया कि मामला आत्मरक्षा का साबित हुआ। गुलदार से बचाव के लिए नरेंद्र सिंह ने दराती से उस पर वार किये जिसके चलते गुलदार की जान चली गई। गुलदार के शव का पोस्टमार्टम कर दिया गया है। आत्मरक्षा के मामला होने से किसी तरह की कार्यवाही नहीं की गई है। उन्होंने बताया कि मृत गुलदार दो वर्षीय मादा गुलदार था

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड सरकार को एनजीटी का नोटिस

 

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here