हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

 

उत्तराखंड में अब विद्यार्थियों की सुरक्षा के लिए सभी स्कूली बस व वैन में जीपीएस लगाया जाएगा।

इससे यह पता चल सकेगा कि स्कूल बस व वैन किस रास्ते पर जा रहे हैं और इन्हें पूरे सफर में कितना समय लग रहा है। परिवहन मंत्री ने इसके लिए सचिव शिक्षा को सभी स्कूलों में दिशा-निर्देश भेजने को कहा है। प्रदेश में इस समय तकरीबन पांच हजार से अधिक स्कूली बस और तकरीबन इतनी ही संख्या में वैन संचालित हो रही हैं। कोरोना के कारण अभी इनका बहुत अधिक संचालन नहीं हो रहा था। अब जैसे-जैसे स्कूल खुल रहे हैं, बसों व वैन का संचालन शुरू हो रहा है। स्कूली बसों को टैक्स में कुछ छूट भी दी जाती है। देखने में यह आया है कि कई बार स्कूली बसों व वैन आफ रूट हो जाती हैं। यानी विभाग से छूट लेने के बाद इन वाहनों का प्रयोग व्यवसायिक रूप में भी किया जाता है।

यह भी पढ़े :  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत से मुख्यमंत्री आवास में श्री पंच दशनाम जूना अखाड़ा के वरिष्ठ महामंडलेश्वर स्वामी यतीन्द्रानन्द गिरि जी महाराज के नेतृत्व में हरिद्वार के प्रमुख संतों ने भेंट की, ओर सभी संतो ने मुख्यमंत्री को स्वस्थ और दीर्घायु होने का आशीर्वाद दिया।

इसके अलावा देश के विभिन्न हिस्सों में स्कूली बसों व वैन में विद्यार्थियों के साथ बदसलूकी की घटनाएं सामने आई हैं। इससे अभिभावकों की चिंता बढ़ने लगी है। इसे देखते हुए इन वाहनों पर जीपीएस लगाए जाने की मांग लंबे समय से की जा रही है, ताकि उन पर नजर रखी जा सकेगी। अब सरकार ने वाहनों में जीपीएस लगाना अनिवार्य करने का निर्णय लिया है।

प्रस्तावित योजना के अनुसार जिन वाहनों में जीपीएस लगाए जाएगा, उन्हें परिवहन विभाग के साफ्टवेयर से जोड़ा जाएगा। जरूरत पड़ने पर स्कूलों को भी इस सर्वर का लिंक दिया जाएगा ताकि वे भी वाहनों की सही स्थिति पर नजर रख सकें। परिवहन मंत्री यशपाल आर्य ने विद्यालय शिक्षा सचिव को निर्देश दिए हैं कि छात्रों की सुरक्षा के लिए सभी स्कूली वाहनों में जीपीएस लगाया जाए।
उत्तराखंड में अब स्कूली बसों और वैन में लगेगा GPS, विद्यार्थियों की सुरक्षा को उठाया जा रहा कदम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here