हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय मे मनाया गया राष्ट्रीय फार्माकोविजिलेंस सप्ताह एवं विश्व फार्मासिस्ट दिवस

श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय के स्कूल आफ फार्मास्यूटिकल साईसेंस मे पांच दिवसीय राष्ट्रीय फार्माकोविजिलेंस सप्ताह एवं विश्व फार्मासिस्ट दिवस समारोह का आयोजन 21 से 25 सितम्बर 2021 को किया गया,
जिसका उद्घाटन विश्व विद्यालय के कुलपति प्रो. (डा.) उदय सिंह रावत ने किया एवं समापन शनिवार 25 सितम्बर विश्व फार्मासिस्ट दिवस के साथ हुआ।

कार्यक्रम का आयोजन फार्मेसी प्रेक्टिस विभाग एवं भारतीय फार्माकोपिया आयोग द्वारा राष्ट्रीय भेषज सर्तकता सप्ताह समारोह के अवसर पर किया गया था, अपने सम्बोधन के दौरान, कुलपति ने भारतीय स्वास्थ्य प्रणाली मे फार्माकोविजिलेंस के महत्व पर प्रकाश डाला और उल्लेख किया कि आबादी के स्वास्थ्य की रक्षा करना महत्वपूर्ण है परन्तु दवा के उपयोग के लाभ, दवा के उपयोग से जुडे जोखिमो से अधिक यह सुनिश्चित करना आवश्यक है।
उन्होने पेशेवरो और अन्य लोगो को विषय के बारे मे जागरूक करने मे सक्रिय पहल करने के लिए छात्रो एवं उनके मेंटर्स के प्रयासो की भी सराहना की। पहले दिन श्री गुरु राम राय मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. अनिल मेहता ने अपने मुख्य भाषण के दौरान दवाओं की प्रतिकूल प्रतिक्रियाओं को रोकने के लिए प्रारम्भिक चरण मे उनकी पहचान करने के बदलते परिदृश्य का उल्लेख किया। फार्माकोविजिलेंस पर प्रकाश डालते हुए श्री गुरु राम राय मेडिकल कालेज के फार्माकोलोजी विभाग के प्रमुख डा. एम.ए. बेग ने अपने व्याख्यान मे दवा ओैर रोगी सुरक्षा प्रतिकूल दवा प्रक्रिया की पहचान, उनके आकलन एवं बचाव आदि के बारे मे बताया। इस पाँच दिवसीय कार्यक्रम मे विभिन्न इवेन्ट्स आयोजित किये गये जिसमे हेल्थ कैंप क्विज, पोस्टर एवं इन्फोग्राफिक्स प्रतियोगिताओं का आयोजन गया। क्विज मे सुलेमान, आदित्य, रूचि एवं मानसी, पोस्टर मे मिताली अरोरा, शिवानी सैनी, इन्फोग्राफिक्स मे रजत रावत, प्रवेश थपलियाल ने क्रमश प्रथम एवं द्वितीय स्थान प्राप्त किया।
कार्यक्रम के अन्तिम दिवस (25 सितम्बर 2021) पर मेडिसिन विभागाध्यक्ष, श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल, डा. अमित वर्मा ने छात्रों को फार्माकोविजिलेंस प्रतिकूल दवा प्रतिक्रिया मानिटरिगं एवं रिर्पोटिग के तरीको एवं विश्वविद्यालय मे पढ रहे फार्म डी. के छात्रों को उनके कार्य प्रणाली से भी अवगत कराया। इसी क्रम मे इण्डियन रेड क्रास सोसायटी, उत्तराखंड के जनरल सेक्रेटरी डा. एम. एस. अंसारी ने इंण्डियन यूथ रेड क्रास सोसायटी के द्वारा समाज मे किये जा रहे कार्यो से अवगत कराया। श्रीमती सुधा कुकरेती, सीनियर फार्मासिस्ट एवं श्रीमती शंकुन्तला नौटियाल चीफ फार्मासिस्ट दून मेडिकल कालेज ने दुर्गम स्थानो मे फार्मासिस्टो केे द्वारा किये जा रहे अहम योगदानो के बारे मे अवगत कराया। कार्यक्रम में प्रो. (डा.) दीपक साहनी (रजिस्ट्रार), प्रो. (डा.) अलका एन. चैधरी (डीन फार्मास्यूटिकल साईसेस.) ने अपने अपने अभिभाषण मे दवाओं के उपयोग एवं फार्माकोविजिलेस के महत्व के बारे में जानकारी प्रदान की, इसी क्रम में विश्वविद्यालय संमनव्यक प्रों. आर. पी. सिह और डा. मालविका काण्डपाल ने छात्रो को अपने विचारो से प्रोत्साहित किया। इस दौरान कोरोना प्रोटोकाल का पूर्ण रूप से पालन किया गया। कार्यक्रम का संचालन फार्म डी. की छात्रा सुचिता पाण्डेय के द्वारा किया गया एवं समापन सृष्टि गोसांई के धन्यवाद प्रस्ताव के साथ हुआ। समारोह मे प्रो. (डा.) मनोज गहलोत प्रो. (डा.) प्रशांत माथुर, डा. जी गणराजन, डा. मीनू चैधरी, डा. योगेन्द्र बहुगुणा, डा. योगेश जोशी, डा. नीरज कुमार, डा. अर्चना गहतोडी, डा. चन्द्र शेखर टेलर, श्रीमती रिनू जौहरी आदि मोजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here