लोकप्रिय श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल
को मिली एनएबीएच की मान्यता

एन.ए.बी.एच. टीम की हर कसौटी पर खरा उतरा श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल

आधुरभूत सुविधाओं, मॉर्डन तकनीकों से उपचार व मरीजों को दी जाने वाली सुविधाओं सहित विभिन्न बिन्दुओं पर हुआ मूल्यांकन

चेयरमैन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने सभी डॉक्टरों व सभी स्टाफ को दी बधाई

 

देहरादून।
लोकप्रिय श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल अब एन.ए.बी.एच. मान्यता प्राप्त अस्पताल बन गया है।
नेशनल एक्रिडेशन बोर्ड फॉर हॉस्पिटल्स एण्ड हेल्थ केयर (एन.ए.बी.एच.) की ओर से श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल को एन.ए.बी.एच. की मान्यता प्रदान की गई है।
यह बेहद हर्ष की बात है कि उत्तराखण्ड की सीमा से लगे राज्यों के मरीजों के बीच लाइफलाइन के रूप में विख्यात श्री मंहत इन्दिरेश अस्पताल की सफलताओं में एक कड़ी और जुड़ गई है।
एन.ए.बी.एच. टीम द्वारा किए गए इंस्पैक्शन में श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल इंस्पैक्शन टीम की हर कसौटी पर खरा उतरा।
श्री महंत इन्दरेश अस्पताल मरीजों को उत्कष्ट स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए कृतसंकल्पबद्ध है।


श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के चेयरमैन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने श्री गुरु राम राय इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एण्ड हेल्थ साइंसेज़ के प्राचार्य डॉ यशबीर दीवान, श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ अजय पंडिता, एन.ए.बी.एच. समन्वयक डॉ गौरव रतूड़ी सहित अस्पताल के सभी डॉक्टरों, नर्सिंग स्टाफ व सहायक स्टाफ को इस उपलब्धि पर बधाई व आशीष दिया है।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड ध्यान दे : आने वाले त्योहारों में लगने वाली भीड़ से खतरा अक्तूबर तक, कोविड प्रोटोकॉल का हो सख्ती से हो पालन, राज्यों को ये दिये निर्देश

काबिलेगौर है जब कोई अस्पताल एन.ए.बी.एच. की सभी गाइडलाइनों व नियमों के अनुसार हर कसौटी पर शत प्रतिशत खरा उतरता है, तभी उस अस्पताल को एन.ए.बी.एच. की मान्यता प्रदान की जाती है।
कुछ माह पूर्व एन.ए.बी.एच. के विशेषज्ञओ ने श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल का निरीक्षण किया था। निरीक्षण के दौरान एन.ए.बी.एच. विशेषज्ञों ने अस्पताल की मूलभूत सुविधाओं, अस्पताल बिल्डिंग, मरीजों की देखभाल की क्वालिटी का बारीकी से मूल्यांकन किया। इसके साथ अस्पताल में मशीनों की क्वालिटी, आईसीयू में मरीजों की देखभाल, इमरजेंसी में उपलबध सुविधाएं, इमरजेंसी रिस्पांस, प्रतिदिन अस्पताल आने वाले मरीजों की संख्या, वार्डों में मरीजों की देखरेख के लिए नर्सों का अनुपात, कुशल व विशषेज्ञ डॉक्टरों की संख्या, अस्पताल के अन्य संस्थानों के साथ हुए अनुबंध, अस्पताल में उपलब्ध मॉर्डन मशीनों, ऑपरेशन थियेटरों की संख्या का परीक्षण व एनएबीएच की गाइडलाइन के अनुसार तुलनात्मक अध्ययन किया गया। ब्लक बैंक, हाईटैक आईसीयू एम्बुलेंस, अस्पताल में साफ सफाई के स्तर को भी बारीकी से जॉचा परखा गया। इसके साथ ही अस्पताल में प्रयोग की जा रही आधुनिक तकनीकों व मॉर्डन मशीनों के इस्तेमाल व मरीजों को दी जाने वाली हर छोटी बड़ी सुविधाओं व सेवाओं का बिन्दुवार बारीकी से मूल्यांकन व अध्ययन किया। एन.ए.बी.एच. की इंस्पैक्शन टीम ने श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल को हर कसौटी पर खरा पाया व श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल को एन.ए.बी.एच. दिया।

यह भी पढ़े :  बड़ी : ख़बर उत्तराखंड से साल 2016 से पीसीएस परीक्षा न कराने पर हाईकोर्ट ने उत्तराखंड सरकार और लोक सेवा आयोग से मांगा जवाब

“श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के सभी डॉक्टरों, नर्सिंग स्टाफ व सहयोगी स्टाफ को बधाई। अस्पताल के सभी कर्मचारियों के कड़े परिश्रम का परिणाम है कि श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल को एनएबीएच की मान्यता मिली है। एन.ए.बी.एच.मान्यता मिलने के बाद अस्पताल से जुड़े प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी अब और बढ़ जाती है। उन्होंने सभी स्टाफ सदस्यों का आह्वान किया कि मरीजों को दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा में आप सभी हर कसौटी पर खरा उतरें व आमजन के विश्वास और उम्मीदों पर खरा उतरकर उनकी सेवा करते रहें। मैं आप सभी के सहयोग और अथक प्रयासों के लिए आप सभी को हार्दिक बधाई देता हूॅ। ”

श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज
चेयरमैन, श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल
पटेल नगर, देहरादून

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here