मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने चारधाम यात्रा के प्रवेश एवं पंजीकरण स्थल पर ही हेल्थ स्क्रीनिंग की सुविधा आरम्भ कर दी है अब बिना हेल्थ स्क्रीनिंग और बिना रजिस्ट्रेशन के अब चारधाम यात्रा नहीं कर पाएंगे यात्री

 

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा में हो रही श्रद्धालुओं की मौत के बाद राज्य सरकार पूरी तरह से अलर्ट मोड में आ गई है। केन्द्र सरकार के रिपोर्ट तलब करने के बाद स्वास्थ्य महकमा चारधाम यात्रा मार्गों पर विशेष इंतजाम करने में जुटा हुआ है। इस बीच चारधाम यात्रा के अहम पड़ावों पर हेल्थ स्क्रीनिंग की सुविधा शुरू की गई है। जिसमें फिट पाए जाने के बाद ही यात्रियों को आगे जाने दिया जाए

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने चारधाम यात्रा के प्रवेश एवं पंजीकरण स्थल पर ही हेल्थ स्क्रीनिंग की सुविधा आरम्भ कर दी है। स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. शैलजा भट्ट ने बताया कि ऋषिकेश आईएसबीटी रजिस्ट्रेशन स्थल पर यात्रियों की हेल्थ स्क्रीनिंग आरम्भ कर दी गयी है। यमुनोत्री व गंगोत्री के यात्रा मार्ग पर क्रमशः दोबाटा एवं हिना और बदरीनाथ धाम के यात्रियों के लिए पाण्डुकेश्वर में हेल्थ स्क्रीनिंग शिविर लगाया गया है।उन्होंने बताया कि हेल्थ स्क्रीनिंग के बाद जिन यात्रियों में किसी भी प्रकार की शारीरिक अस्वस्थता पायी जा रही है, उन्हें विश्राम करने अथवा स्वास्थ्य के अनुकूल होने के बाद ही यात्रा पर जाने का परामर्श दिया जा रहा है। महानिदेशक डॉ. भट्ट ने जानकारी दी कि आपातकालीन स्थितियों में हताहत प्रभावित यात्रियों के लिए 24×7 हैली एम्बुलेंस की सुविधा रखी गयी है। यात्रियों को हेल्थ एडवाईजरी के माध्यम से अनुकूल स्वास्थ्य की परिस्थितियों में ही यात्रा जारी रखने के बारे में जागरूक किया जा रहा है। हैल्थ एडवाईजरी को पर्यटन विभाग, स्थानीय प्रशासन एवं स्वास्थ्य इकाइयों के अलावा यात्रा मार्गों पर होर्डिग्स के द्वारा भी जगह-जगह पर प्रसारित किया जा रहा हैं।
बीते 12 दिनों में चारधाम यात्रा के दौरान 31 तीर्थ यात्रियों की मौत
बीते 12 दिनों में चारधाम यात्रा के दौरान 31 तीर्थ यात्रियों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग इन मौत की वजह हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट अटैक बता रहा है। इसके बाद चारधाम यात्रा करने आ रहे लोगों को स्वास्थ्य संबंधी एडवाइजरी का पालन करने को क​हा जा रहा है। जिसके लिए पुख्ता इंतजाम भी किए जाने के साथ ही स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने का दावा किया जा रहा है। हफ्ते भर में पहले 23 फिर 28 और अब मौत का आंकड़ा 12 दिन बाद 31 पहुंच चुका है। इसके लिए प्रधानमंत्री कार्यालय भी संज्ञान ले चुका है। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट मोड में है। केन्द्र सरकार ने राज्य की सहायता के लिए एनडीआरएफ और आईटीबीपी जवानों को मुस्तैद किया है। ऐसे में चारधाम को लेकर केन्द्र से लेकर राज्य सरकार दोनों ही पूरी तरह से नजर बनाए हुए हैं।

यह भी पढ़े :  कोरोना का असरः एक बार फिर उत्तराखंड की जेलों से पैरोल पर छोड़े जाने लगे कैदी

 

पुलिस सख्त, चेकपोस्ट पर बिना रजिस्ट्रेशन के आगे नहीं जाएंगे यात्री
चारधाम यात्रा को लेकर पुलिस उपमहानिरीक्षक गढवाल करन सिंह नगन्याल ने मुनिकीरेती में सम्बन्धित अधिकारियों को जरुरी दिशा-निर्देश दिए। पुलिस उपमहानिरीक्षक ने निर्देश दिए कि चारधाम यात्रा के लिए कोई भी यात्री बिना रजिस्ट्रेशन के यात्रा पर निर्धारित चैकिंग प्वाईंट से आगे नहीं जाय। इसके लिये चारधाम यात्रा प्रवेश द्वार भद्रकाली, तपोवन, व्यासी, देवप्रयाग और यमुना ब्रिज विकासनगर पर बैरेकेटिंग लगा कर सघन चैकिंग की जाये। उन्होंने साफ किया कि जो व्यक्ति बिना रजिस्ट्रेशन के है उसे रजिस्ट्रेशन करवाये​बिना आगे न जा सके। इसके लिए उन्होंने प्रचार-प्रसार पर भी जोर देने को कहा। उन्होंने कहा कि टूर ऑपरेटरर्स को स्पष्ट निर्देशित किया जाए कि श्रद्वालुओं द्वारा रजिस्ट्रेशन नहीं कराया गया है उनको चारधाम यात्रा के लिए न ले जायें। पुलिस उपमहानिरीक्षक ने यात्रामार्ग पर किसी प्रकार की ओवर रेटिंग न होने की सख्त हिदायत दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here