रूस ने यूक्रेन की धरती पर पूरे सैन्यबल के साथ हमला बोल दिया है। यूक्रेन के सीमावर्ती क्षेत्रों में यूक्रेन और रूसी सैनिकों के बीच संघर्ष की बातें सामने आई हैं। यूक्रेन का कहना है कि रूसी गोलाबारी में कम से कम 7 लोग मारे गए हैं और नौ अन्य घायल हो गए हैं। उधर, यूक्रेन पर हमला करने से पहले पश्चिमी देश रूस पर कई प्रतिबंध लगा सकते हैं, जिससे अभी तक रूस के साथ भारत का व्यापार अभी तक गंभीर रूप से प्रभावित नहीं हुआ है, लेकिन संभावना है कि रूस पर व्यापक प्रतिबंधों की घोषणा होने पर यह प्रभावित हो सकता है।

वित्त वर्ष 2022 के पहले नौ महीनों में 2.5 बिलियन डॉलर के निर्यात और 6.9 बिलियन डॉलर के आयात के साथ रूस भारत का 25 वां सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है। रूस को भारत के प्रमुख निर्यात में मोबाइल फोन और फार्मास्यूटिकल्स शामिल हैं जबकि रूस से भारत का प्रमुख आयात कच्चा तेल, कोयला और हीरे हैं। चाय भारत से एक प्रमुख निर्यात वस्तु है।

वहीं, भारत का यूक्रेन को निर्यात अप्रैल-दिसंबर की अवधि में फार्मास्यूटिकल्स और मोबाइल फोन में लगभग 372 मिलियन डॉलर था, जबकि लगभग 2.0 बिलियन डॉलर के आयात में सूरजमुखी तेल और यूरिया का प्रभुत्व रहा। इस वित्त वर्ष की पहली तीन तिमाहियों में दोनों देशों को कुल निर्यात भारत के निर्यात का एक प्रतिशत से कम रहा।

यह भी पढ़े :  पूर्व सीएम हरीश रावत ने दी मुख्यमंत्री तीरथ को सलाह, लोगों को दें आर्थिक मदद

वहीं, कच्चे तेल सहित रूसी निर्यात पर प्रतिबंधों को निर्यात की कम संभावना के रूप में देखा जा सकता है, क्योंकि कच्चे तेल की कीमतें पहले से ही आठ साल के उच्च स्तर पर हैं और गुरुवार को कच्चा तेल $100 प्रति बैरल की सीमा को भी पार कर गया।

फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन (फियो) के महानिदेशक और सीईओ अजय सहाय ने कहा कि निर्यातकों को ऑर्डर मिलने में भी देरी हो रही है। वे शिपमेंट के फंसने से चिंतित हैं, क्योंकि हम नहीं जानते कि यह कितने समय तक (संघर्ष के दौरान) किस बंदरगाह पर रहेगा।”

एक दवा कंपनी के एक शीर्ष कार्यकारी ने कहा कि यूक्रेन में शिपमेंट के लिए कार्गो बीमा उपलब्ध नहीं है, यह देखते हुए निर्यातकों को माल के फंसने के जोखिम को ध्यान में रखते हुए आपूर्ति पर अपना निर्णय लेना होगा।” रूस और यूक्रेन दोनों दोनों देशों के साथ आयात और निर्यात बाजार देखने वाली प्रमुख भारतीय दवा कंपनी के एक अन्य शीर्ष कार्यकारी ने कहा कि वर्तमान में किसी भी देश को माल निर्यात करने में कोई समस्या नहीं है।

यह भी पढ़े :  केदारनाथ के रावल और पुजारियों को एक ही छत के नीचे मिलेगी सभी सुविधाएं ! तीन मंजिला इमारत का होगा निर्माण ,10 करोड़ रुपये का बजट हुआ जारी

निर्यातक किस बारे में चिंतित हैं?
विशेषज्ञों के अनुसार, रूस अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद भारत को बड़े पैमाने पर निर्यात जारी रख सकता है। हालांकि संयुक्त राष्ट्र से संभावित प्रतिबंधों के कारण संबंधित क्षेत्र में निर्यात पर महत्वपूर्ण प्रभाव भी पड़ सकता है, क्योंकि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा पूर्वी यूक्रेन में हमला करने से पहले ही अमेरिका प्रतिबंधों की पहली किश्त में वीईबी (रूस के राज्य विकास बैंक) और रूसी सैन्य बैंक पर प्रतिबंधों की घोषणा कर चुका है। फियो के सीईओ अजय सहाय कहते हैं, अधिक चिंता यह है कि युद्ध के बाद इसका वैश्विक प्रभाव निश्चित रूप से पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here