मुख्यमंत्री जी चारधाम यात्रा के आगाज के साथ ही इस बार तीर्थ यात्रियों के संख्या करोडो में पहुंचने की संभावना है भीड़ को नियंत्रित करने से लेकर ठहरने, स्वास्थ्य सेवाएं, बिजली, पानी की व्यवस्था करना आपकी सरकार परीक्षा


तीन मई को अक्षय तृतीया के दिन गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने के साथ ही चारधाम यात्रा का आगाज हो जाएगा
छह मई को केदारनाथ धाम और आठ मई को बदरीनाथ धाम के कपाट विधि विधान से खुल जाएंगे।
पिछले दो साल से कोविड महामारी के कारण चारधाम यात्रा का संचालन प्रभावित रहा, लेकिन इस बार तीर्थ यात्रियों के काफी संख्या में पहुंचने की संभावना है। एक माह पहले से होटलों की बुकिंग शुरू हो गई है।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड : नदी मे गिरी गाड़ी, 4 लोगो के निकाले गये शव , गाँव मै कोहराम : दुःखद

कोरोना संक्रमण थमने के बाद इस बार चारधाम यात्रा में भारी संख्या में तीर्थ यात्रियों के पहुंचने की उम्मीद है। जाहिर है कि ऐसे में बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री धाम में तीर्थ यात्रियों की भीड़ को नियंत्रित करने, ठहरने, स्वास्थ्य सेवाएं, बिजली, पानी की व्यवस्था करने में सरकार की परीक्षा होगी।

चार अप्रैल से केदारनाथ धाम के लिए हेली सेवा के टिकटों की ऑनलाइन बुकिंग शुरू हो रही है। वहीं, केदारनाथ धाम में पुनर्निर्माण कार्य जारी हैं। सरकार के सामने पुनर्निर्माण कार्य जारी रखने के साथ चारधाम यात्रा की व्यवस्थाएं करने की दोहरी चुनौती होगी।

हालांकि यात्रा के दौरान सड़क कटिंग के कार्य के चलते यात्री वाहनों को नहीं रोका जाएगा। तीर्थयात्रियों के पंजीकरण की व्यवस्था रहेगी। जिसमें यह तय किया जाएगा एक दिन में कितने लोग यात्रा कर सकते हैं। यात्री वाहनों को जीपीएस सिस्टम से ट्रेक किया जाएगा। सभी विभाग अपने-अपने स्तर पर तैयारियों में जुटे हैं।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड में हमने साबित किया, डबल इंजन की सरकार विकास के लिए क्यूँ जरूरी:चुनाव प्रभारी प्रहलाद जोशी

चारधाम की सभी तैयारियां जोरों पर हैं। केदारनाथ में गढ़वाल मंडल विकास निगम और जिला प्रशासन के माध्यम से तीर्थ यात्रियों को ठहराने के लिए टेंट की व्यवस्था भी की जाएगी। वहीं, केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्य पांच मई तक किया जाएगा। इसके लिए ठेकेदारों को हेलीकाप्टर से निर्माण सामग्री पहुंचाने और श्रमिक बढ़ाने को कहा गया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here