विधानसभा चुनाव 2022 में मतगणना 10 मार्च के लिए अब नौ दिन ही शेष बचे हैं। दस मार्च को होने वाली मतगणना में अंतिम राउंड के बाद प्रत्येक विधानसभा में पांच – पांच बूथ से वीवीपीएट पर्चियों की रैंडम जांच की जाएगी। प्रत्याशी भी किसी बूथ से वीवीपीएट पर्चियों की जांच की मांग कर सकते हैं।

ईवीएम को लेकर बीते कुछ चुनावों में विवाद देखने को मिले हैं, इस कारण अब आयोग सभी ईवीएम के साथ वीवीपीएट जोड़ चुका है। जिसमें प्रत्येक मत की पर्चियां जमा होती हैं। पिछले लोकसभा चुनाव के समय कुछ दलों ने ईवीएम के साथ वीवीपीएट में दर्ज सभी मत गिने जाने की मांग उठाई थी, लेकिन आयोग ने इस प्रक्रिया में अनावश्क समय लगने का तर्क देते हुए, प्रत्येक सीट पर किन्हीं पांच बूथ की पर्चियां की गिनने की व्यवस्था लागू की थी।

यह भी पढ़े :  बड़ी ख़बर : हरिद्वार में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट जल्द बने उसे लेकर केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री से मिले महाराज, ओर हरिद्वार में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के लिए भूमि चयन की प्रक्रिया प्रारंभ भी हो चुकी है

यही नियम मौजूदा विधानसभा चुनाव में भी लागू होंगे। इसके तहत मतगणना के दौरान ईवीएम ओर वीवीपीएट में दर्ज मतों की संख्या का ही मिलान किया जाएगा। अंतिम राउंड समाप्त होने के बाद, रिटर्निंग अधिकारी किन्हीं पांच बूथों की वीवीपीएट पर्चियों की रैंडम जांच करवाएंगे। इसमें सभी पांच वीवीपीएट में कुल दर्ज मतों के साथ ही प्रत्याशी वार मिले मतों का मिलान संबंधित ईवीएम से किया जाएगा।

इस दौरान प्रत्याशी चाहें तो उनकी पसंद के बूथ की वीवीपीएट की भी जांच कराई जा सकती है। यदि किसी वजह से वीपीपीएट ओर ईवीएम में दर्ज मतों में अंतर आता है तो फिर प्रिंट पर्चियां ही अंतिम मानी जाती है। हालांकि आयोग के सामने अभी इस तरह का कोई प्रकरण सामने नहीं आया है। सहायक मुख्य निर्वाचन अधिकारी मस्तू दास के मुताबिक पूरी मतगणना प्रक्रिया सीसीटीवी निगरानी में सम्पन्न होगी।

यह भी पढ़े :  उस जिले के 3 हज़ार लोग आज खुश है वो भी 70 साल बाद

इस बार मॉक पोल का समाधान
यदि किसी बूथ पर वीवीपीएट और ईवीएम में मॉक पोल के मत भूलवश दर्ज रह जाते हैं तो इस बार उन मतों को कुल मतों से हटा दिया जाएगा। इसके लिए पोलिंग अधिकारी की हैंडबुक में दर्ज विवरण की सहायता ली जाएगी। पिछली बार उत्तराखंड में यह समस्या पेश आई थी, इस बार आयोग ने इसके लिए अलग से दिशा निर्देश जारी किए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here