ऐतिहासिक झण्डे जी मेले का साक्षी बनने को जुटने लगीं देश विदेश की संगतें

रात के समय दूधिया रोशनी में देखते ही बन रही श्री दरबार साहिब की आभा

 


देहरादून।

श्री झंडे जी मेले में शामिल होने के लिए देश-विदेश से बड़ी संख्या में संगतें श्री दरबार साहिब पहुंच गई हैं। रविवार को पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, उत्तर प्रदेश, राजस्थान सहित देश के अलग-अलग हिस्सों से लाखों की संख्या में श्रद्धालु श्री दरबार साहिब पहुंचे। विदेशों से भी संगतों का आगमन शुरू हो गया है।
श्री दरबार साहिब के सज्जादानशीन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने संगतों को दर्शन दिए व आशीर्वाद दिया। श्री गुरु राम राय जी महाराज, श्री झण्डा साहिब महाराज व श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज के जयकारों से श्री दरबार साहिब परिसर गूंज उठा।


रविवार को नित्य पूजा-क्रम के बाद श्री दरबार साहिब के सज्जादानशीन श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने संगतों को दर्शन दिए। उन्होंने संगतों को श्री गुरु महाराज जी के दिखाए रास्ते पर चलने का संदेश दिया। मेले के कुशल संचालन के लिए मेला प्रबन्धन समिति व संगतों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। रविवार दूसरे पहर तक श्री दरबार साहिब परिसर संगतों से लगभग पैक हो गया। श्री दरबार साहिब के व्यवस्थापक के.सी. जुयाल ने जानकारी दी कि मेला प्रबन्धन की ओर से संगतों के भोजन, ठहरने, पानी व स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर विशेष व्यवस्था की गई है।

श्री दरबार साहिब के सेवादार संगतों की आवभगत, उनके रहने और खाने की व्यवस्थाओं में जुटे हैं। श्री गुरु राम राय पब्लिक स्कूल तालाब, श्री गुरु राम राय पब्लिक स्कूल, बांबे बाग मातावाला बाग, श्री गुरु राम राय पब्लिक स्कूल, रेसकोर्स, श्री गुरु राम राय पब्लिक स्कूल, राजा रोड में भारी संख्या में संगतें पहुंच चुकी हैं। दरबार साहिब परिसर दोपहर तक पूरी तरह पैक हो गया। श्री झण्डा जी मेला आयोजन समिति की ओर से संगतों के लिए शहर की विभिन्न धर्मशालाओं और अन्य स्थानों में संगतों के लिए आवासीय व लंगर की समुचित व्यवस्था की गई है।

यह भी पढ़े :  ई0वी0ए0आर0 तकनीक से लोकप्रिय श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में उत्तराखण्ड का पहला सफल आपरेशन .

श्री महाराज जी ने संगतों से कोविड-19
गाइडलाइन का अनुपालन करने की अपील की

श्रीमहंत देवेन्द्र दास जी महाराज ने श्री झण्डा जी मेला में शामिल होने के लिए आने वाली संगतों व श्रद्धालुओं से कोविड-19 गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करने की अपील की है। उन्होंने सभी संगतों व श्रद्धालुओं का आह्वाहन किया है कि मेला आयोजन में शामिल होने के दौरान सभी श्रद्धालु व संगतें मास्क पहनें, गाइडलाइन का पालन करें। उन्होंने दोहराया कि कोरोना अभी गया नहीं है इसलिए सर्तकता जरूरी है, लापहरवारी घातक भी हो सकती है। इसलिए कोविड गाइडलाइन का पूरी तरह पालन करते हुए खुद भी सुरक्षित रहें और दूसरों की भी सुरक्षा के लिए जागरूक करें।


गिलाफ सिलने का काम लगभग पूरा
रविवार को गिलाफ सिलने का काम लगभग पूरा हो गया है।
महिलाएं सिलाई मशीन की मदद से गिलाफ तैयार करने के काम में जुटी हुई हैं। काबिलेगौर है कि श्री झण्डे जी पर तीन तरह के गिलाफों का आवरण होता है। सबसे भीतर की ओर सादे गिलाफ चढ़ाए जाते हैं इनकी संख्या 41 (इकतालीस) होती है। मध्यभाग में शनील के गिलाफ चढ़ाए जाते हैं इनकी संख्या 21 (इक्कीस) होती है। सबसे बाहर की ओर दर्शनी गिलाफ चढ़ाया जाता है इनकी संख्या 1 (एक) होती है। इस साल नई दिल्ली के बलजिंदर सिंह सैनी को दर्शनी गिलाफ चढ़ाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।


दूधिया रोशनी से नहाया श्री दरबार साहिब
श्री दरबार साहिब प्रबन्धन, श्री झण्डा जी मेला आयोजन समिति की ओर से आकर्षक साजो सज्जा का विशेष इंतजाम किया गया है। श्री झण्डा मेला आयोजन समिति के व्यवस्थापक श्री के सी जुयाल ने जानकारी दी कि पूरे दरबार साहिब परिसर में विशेष साजो सज्जा की गई है। खासतौर पर रात के समय श्री दरबार साहिब की आभा देखते ही बन रही है। चारों ओर से पड़ रही दुधिया रोशनी के बीच श्री दरबार साहिब बेहद मनमोहक व आकर्षक दिखाई दे रहा है।

 

गुरु भक्ति में रंगी संगत
देश विदेश से आई संगत गुरु भक्ति में पूरी तरह रम चुकी है। संगतों ने एक से बढ़कर एक गुरु महाराज के भजन गाए व गुरु भक्ति की महिमा में डूबे रहे। बच्चे बड़े महिलाओं ने गुरु महिमा के गुणगान में बढ़चढ़ कर भागीदारी की

यह भी पढ़े :  आज उत्तराखंड में 8390 कोरोना के मामले आये नए सामने, पूरी रिपोर्ट


मेला अस्पताल शुरू
श्री दरबार साहिब परिसर में श्री महंत इन्दिरेश अस्प्ताल ने मेला अस्पताल शुरू कर दिया गया है। रविवार सुबह से डॉक्टरों की एक टीम, नर्सिंग स्टाफ, फार्मासिस्ट स्टाफ व अन्य मेडिकल सदस्यांे के साथ मेला आयोजन स्थल पर उपलब्ध है। देश विदेश से आने वाली संगतों को किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए मेडिकल टीम उपलब्ध है। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल ने आपातकालीन परिस्थितियों के लि 3 एम्बुलंेंस भी मेला आयोजन स्थल पर उपलब्ध करवाई हैं। बाजार कोतवाली की ओर से मेला आयोजन स्थल पर मेला थाना भी शुरू कर दिया गया है। 21 मार्च सोमवार को मेला आयोजन स्थल पर निःशुल्क रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाएग। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल, ब्लड बैंक की टीम रक्तदान शिविर में सहयोग करेगी। संगतों की ओर से बढ़चढ़ कर निःशुल्क रक्तदान शिविर में भागीदारी की जाएगी।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम, सीसीटीवी कैमरे रख रहे नज़र
मेला आयोजन स्थल पर पुलिस दल के साथ साथ प्राईवेट सिक्योरिटी गार्ड भी नज़र रखे हुए हैं। मेला आयोजन समिति की ओर से करीब 2 दर्जन से अधिक सीसीटीवी कैमरों की व्यवस्था की गई है। सीसीटीवी कैमरें से हर गतिविधि को बारीकी से देखा जा रहा है।

बच्चों के मुडंन हुए – ढोल की थाप पर जमकर नृत्य

श्री झण्डे जी मेला परिसर में देश विदेश से आई संगतों ने छोटे बच्चों के मुंडन करवाए। श्री झण्डा जी मेला आयोजन के दौरान विभिन्न मांगलिक अनुष्ठान किये जाते हैं। ऐतिहासिक गुरु की नगरी में श्री झण्डे जी के समक्ष बच्चों का मुंडन कार्य बेहद ही शुभ माना जाती है। रविवार को बहुत से बच्चों के मुंडन कार्य सम्पन्न हुए। इस दौरान बच्चों के माता पिता व नाते रिश्तेदारो ने ढोल की थाप पर नृत्य किया व जमकर खुशियां मनाईं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here