प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार चारधाम परियोजना के लिए सुप्रीम कोर्ट ने हरी झंडी दे दी है। जोकि केंद्र और उत्तराखंड सरकार के लिए अच्छी खबर है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने ऑल वेदर राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना में सड़क की चौड़ाई बढ़ाने की इजाजत दे दी है। इसके साथ ही डबल लेन हाइवे बनाने का रास्ता साफ हो गया है। बात दे कि सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण इस परियोजना को सुप्रीम कोर्ट ने सेनाओं के लिए इसके रणनीतिक महत्व को देखते हुए डबल लेन की रोड बनाने को स्वीकृति दी है।

दरअसल, ऑल वेदर राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना चारधाम जाने वाले यात्रियों के लिए न सिर्फ फायदेमंद साबित होगी बल्कि सामरिक दृष्टि से भी यह राजमार्ग काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि यह राजमार्ग सीधे चीन सीमा से जुड़ेगी। चीन के साथ हाल के दिनों में बढ़े तनाव के मद्देनजर इस सड़क के जरिए सेनाओं को चीन की सीमा तक पहुंचने में आसानी होगी। कोर्ट ने अपने 8 सितंबर 2020 के आदेश को संशोधित करते हुए प्रोजेक्ट को मंजूरी दी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अदालत न्यायिक समीक्षा में सेना के सुरक्षा संसाधनों को तय नहीं कर सकती।

यह भी पढ़े :  बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने से पहले शुरू हुई पंच पूजाएं 20 नवम्बर को बंद होंगे कपाट

हाईवे के लिए सड़क की चौड़ाई बढ़ाने में रक्षा मंत्रालय की कोई दुर्भावना नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हाल के दिनों में सीमाओं पर सुरक्षा के लिए गंभीर चुनौतियां सामने आई हैं। यह अदालत सशस्त्र बलों की ढांचागत जरूरतों का दूसरा अनुमान नहीं लगा सकती है। पर्यावरण के हित में सभी उपचारात्मक उपाय सुनिश्चित करने के लिए पूर्व सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज जस्टिस एके सीकरी के नेतृत्व में एक निरीक्षण समिति भी गठित की गई है। चारधाम प्रोजेक्ट के तहत ऋषिकेश से माणा, ऋषिकेश से गंगोत्री और ऋषिकेश से पिथौरागढ़ तक डबल लेन के रोड बनेंगे। और सेनाओं के लिए ये तीनों ही रोड बेहद अहम हैं, क्योंकि इन तीनों सड़कों से उसे चीन की सीमा तक पहुंचने के लिए सीधी कनेक्टिविटी मिल जाएगी।

यह भी पढ़े :  त्रिस्तरीय पंचायतों के लिए 31.10 करोड़ की राशि स्वीकृत, त्रिवेंद्र सरकार ने लिए कई अन्य महत्वपूर्ण फैसले

इन सड़कों से भारी सैन्य साजो-सामान को भी आसानी से बॉर्डर तक ले जाया जा सकेगा। गौरतलब है कि 11 नवंबर को चारधाम परियोजना में सड़क की चौड़ाई बढ़ाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने विस्तार से सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा था। केंद्र और याचिकाकर्ता की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित था। सुप्रीम कोर्ट ने दोनों पक्षों से दो दिनों में लिखित सुझाव देने को कहा था। सुप्रीम कोर्ट को तय करना था कि करीब 900 किलोमीटर की चारधाम ऑल वेदर राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना में सड़क की चौड़ाई बढ़ाई जा सकती है या नहीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here