हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

 

रुद्रप्रयाग जिले के विकासखंड जखोली के ललूडी-टेंडवाल गांव निवासी पत्रकार जगदंबा कोठारी की माता अनुसूया देवी (62) देर शाम करीब 6 बजे अपने खेतों में काम कर रही थी कि इसी बीच पीछे से घात लगाए एक गुलदार ने उन पर हमला कर घायल कर दिया। गुलदार के हमले से घायल अनुसूया देवी ने गुलदार के साथ संघर्ष किया और शोर मचाना शुरू कर दिया। शोर सुनकर आसपास के खेतों में काम कर रहे ग्रामीण वहां पहुंचे जिसके बाद गुलदार भाग गया।


इस हमले में महिला के हाथ,पैर सहित पीठ पर गुलदार के पंजों एवं दांतों के गहरे निशान पड़ गए। आसपास के लोगों की मदद से उन्हें घायल अवस्था में घर तक पहुंचाया गया। गांव में सड़क ना होने के कारण देर शाम ग्रामीण उन्हें अस्पताल नहीं पहुंचा जा सके लेकिन सोमवार सुबह उन्हें सीएचसी जखोली में भर्ती कराया गया।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड में सियासी उठापटक के बीच देहरादून पहुंचे सीएम तीरथ, कल हो सकती है विधानमंडल दल की बैठक

जहां उनका उपचार चल रहा है। फिलहाल उनकी स्थिति खतरे से बाहर है। सामाजिक कार्यकर्ता प्रेम प्रकाश कोठारी ने बताया है कि आस-पास के गांव में गुलदार का यह पहला इंसानी हमला है। पिछले कई दिनों से नजदीकी गांवों में गुलदार सक्रिय है और दिनदहाड़े कई पशुओं को निवाला बना चुका है। उन्होंने वन विभाग से तत्काल गांव में पिंजरा लगाने के साथ पीड़ित महिला को उचित मुआवजा देने की मांग करी है।

उधर वन क्षेत्राधिकारी गौरव नेगी ने बताया कि गुलदार के हमले में घायल महिला का मेडिकल कर मुआवजा देने व क्षेत्र में गुलदार के हमले से निजात दिलाने के लिए उच्च विभागीय अधिकारियों को कार्यवाही करने के लिए सूचित कर दिया गया है।

यह भी पढ़े :  पूरे देश में लॉकडाउन, सेना और अर्धसैनिक बल अलर्ट, कही राज्यों में कर्फ्यू।

खेत में काम कर ही महिला पर गुलदार ने घात लगाकर किया हमला और फिर…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here