हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

ख़बर उत्तराखंड से जहा मौसम का मिजाज फिर बदल सकता है
आज से तीन दिन तक कई इलाकों में भारी बारिश की आशंका राज्य मौसम विज्ञान केंद्र ने किया येलो अलर्ट जारी
फिलहाल गढ़वाल में सभी प्रमुख मार्ग सुचारू हैं,
मगर कुमाऊं में दुश्वारियां बरकरार हैं। पिथौरागढ़ में भूस्खलन से दो मकानों को खतरा पैदा हो गया है।
दिल्ली-यमुनात्री हाईवे नैनबाग के पास आठ दिन बाद आवाजाही के लिए खुल गया है।
उधर, पिथौरागढ़ जिले के मुनस्यारी में बारिश थमने के बाद भूस्खलन की घटनाएं बढ़ गई हैं। शुक्रवार को निर्तोली गांव में हुए भूस्खलन से दो मकान खतरे की जद में आ गए। भयभीत ग्रामीणों ने प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई है।
दूसरी ओर भू-विज्ञानियों की टीम ने आपदा प्रभावित जुम्मा गांव का भूगर्भीय सर्वेक्षण किया।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड : इस विधानसभा में अब तक पांच सदस्यों का आकस्मिक निधन हो चुका है। जो साढ़े चार साल के कार्यकाल में एक दुखद रिकॉर्ड है।

विकासखंड मुनस्यारी के सैणरांथी गांव के खेता तोक में भूमि पर पड़ी दरारों से खतरे में आए सभी 13 परिवार सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिए गए हैं। चंपावत जिले में बंद चल रहा टनकपुर-चंपावत राष्ट्रीय राजमार्ग शुक्रवार को 12वें दिन दोपहर में यातायात के लिए खोल दिया गया।

राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार अगले तीन दिन देहरादून, नैनीताल, पिथौरागढ़, बागेश्वर, चंपावत, पौड़ी, टिहरी में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। अन्य जिलों में भी गरज के साथ बौछारें पड़ने की आशंका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here