हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड के केदारनाथ क्षेत्र में ‘श्री शंकराचार्य स्टडी सेंटर एंड म्यूजियम’ स्थापित करने का फैसला किया है।

18 जून को केदारनाथ भेजी जाएगी शंकराचार्य की प्रतिमा

इसे ध्यान में रखते हुए शंकराचार्य की विशाल प्रतिमा बनाने के लिए देशभर से कई मूर्तिकारों को आमंत्रित किया गया था. इस परियोजना के लिए कर्नाटक के चार मूर्तिकारों के नामों का उल्लेख किया गया था, आखिरकार मैसूर के मूर्तिकार अरुण योगीराज को शंकराचार्य की मूर्ति बनाने का मौका दिया गया. शंकराचार्य की प्रतिमा 18 जून को मैसूर से केदारनाथ  भेजी जाएगी.

आदि शंकराचार्य की  इस 12 फीट ऊंची मूर्ति का जानें क्या है केदारनाथ धाम से कनेक्शन

शंकराचार्य की मॉडल प्रतिमा देख प्रभावित हाे गए थे पीएम

यह भी पढ़े :  300 से जायदा मर गई भेड़ ओर बकरियां इन गरीब पर पड़ी कुदरत की मार

सितंबर 2020 में अरुण योगीराज ने प्रधानमंत्री मोदी को दो फुट ऊंची मॉडल शंकराचार्य की प्रतिमा भेजी थी. यह देख मोदी ने अरुण योगीराज को शंकराचार्य की मूर्ति बनाने का निर्देश दिया. विभाग के निर्देशानुसार काम शुरू करने वाले अरुण योगीराज सरस्वतीपुरम में बैठ कर शंकराचार्य की मूर्ति तैयार कर रहे हैं. फाइनल टच में बस कुछ ही दिन बाकी है.

आपकाे बता दें कि कृष्णाशिला पत्थर का इस्तेमाल हसन, बेलूर, हलेबिदु की मूर्तियों काे बनाने में किया जाता है. बारिश, धूप, आग या पानी से इसे कोई नुकसान नहीं पहुंचता.शंकराचार्य की प्रतिमा 18 जून को मैसूर  से केदारनाथ भेजी जाएगी. मैसूर में गढ़ी जा रही आदि शंकराचार्य की 12 फीट ऊंची मूर्ति उत्तराखंड के केदारनाथ में अद्वैत वेदांत के प्रतिपादक की समाधि को सुशोभित करेगी. समाधि 2013 में आई आपदा में नष्ट हो गई थी.

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here