भारतीय सेना ने दिए देहरादून IMA के इन जवानों पर कड़ी कार्यवाही के आदेश, आखिर क्या है मामला…

हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

भारतीय सेना अपने अनुशासन के लिए जानी जाती है और अनुशासनहीनता सेना में कभी भी बर्दाश्त नहीं की जाती ऐसे में देहरादून IMA (भारतीय सैन्य अकादमी) में कैडेटों के बीच कुछ महीने पहले हुई मारपीट की घटनाओं को सेना ने बड़ी गंभीरता से लिया है इसमे जहाँ कैडेटों पर तो कार्यवाही हो ही रही है वही कर्नल रैंक के एक अधिकारी करियप्पा बटालियन कमांडर को कई चूक के लिए दोषी ठहराया गया है।

देहरादून IMA के इन जवानों पर कड़ी कार्यवाही के आदेश, आखिर क्या है मामला...

सेना ने कारण बताओ नोटिस जारी कर पूछा है कि भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून में जेंटलमैन कैडेट्स  के प्रशिक्षण में शामिल इन सैन्य अधिकारियों को प्रशासनिक सजा क्यों नहीं दी जाए जिसमें कर्नल रैंक के एक बटालियन कमांडर भी शामिल हैं। सेना ने दो समूहों के बीच एक विवाद के बाद ताजिकिस्तान के छह विदेशी जीसी और चार भारतीय जीसी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के आदेश दिए है।
मामला इस साल 24 फरवरी, 2 मार्च और 3 मार्च को आईएमए में हुई तीन घटनाओं से जुड़ा है। सेना ने घटनाओं की कोर्ट ऑफ इंक्वायरी की और करियप्पा बटालियन और हाजीपीर कंपनी के अधिकारियों के आचरण में कमी पाई गई।इसके फल स्वरूप मध्य कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, लेफ्टिनेंट जनरल योगेंद्र डिमरी ने  अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है जो अधिकारियों के आधिकारिक रिकॉर्ड में दर्ज एक प्रशासनिक दंड है।

कर्नल रैंक के एक अधिकारी करियप्पा बटालियन कमांडर को  चूक के लिए दोषी ठहराया गया है। इनमें तीन घटनाओं के प्रभाव और दीर्घकालिक प्रभावों के बारे में “संवेदनशीलता और समझ की कमी” प्रदर्शित करना शामिल है। सूत्रों का कहना है कि अधिकारी ने कोर्ट ऑफ इंक्वायरी में अपने खिलाफ लगे आरोपों से इनकार किया है और कहा है कि ताजिक कैडेटों के अनियंत्रित आचरण के लिए उन्हें गलत तरीके से दोषी ठहराया जा रहा है।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here