उत्तराखण्ड : उसका दोस्त पत्नी को भड़का रहा था तो उसने दूसरे दोस्त के साथ मिलकर पहले वाले दोस्त की दर्दनाक हत्या कर दी की सिर और एक हाथ अभी तक नहीं मिला ( दर्दनाक मौत दे दी दोस्त को दोस्त ने ही )

उत्तराखंड के काशीपुर में दोस्त की पत्नी को भड़काने और नशेड़ी कहकर क्षेत्र में बदनाम करने की रंजिश में दो दोस्तों ने अपने ही दोस्त विशाल की बेरहमी से हत्या कर दी। गुरुवार को विशाल हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर घटना में प्रयुक्त पाटल और मृतक का मोबाइल बरामद कर लिया है। पोस्टमार्टम के बाद मृतक का शव (धड़) परिजनों को सौंप दिया है, जबकि उसका सिर और एक हाथ अभी नहीं मिला है।
गुरुवार को आईटीआई थाने में एसपी प्रमोद कुमार ने बताया कि 19 नवंबर को आईटीआई थाना क्षेत्र के गांव धीमरखेड़ा निवासी राजकुमार ने पैगा चौकी में तहरीर दी थी। कहा था कि उनका 21 वर्षीय पुत्र विशाल 18 तारीख को लापता हो गया है। उन्होंने अनहोनी की आशंका जताई थी। एसपी ने विशाल की बरामदगी के लिए आईटीआई थाना पुलिस के साथ एसओजी को भी लगाया।

कई सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली और उसके मोबाइल की सीडीआर निकाली। इस बीच पुलिस को पता चला कि लापता होने से पहले विशाल को खोखराताल धीमरखेड़ा निवासी संदीप सिंह और दीक्षानगर धीमरखेड़ा निवासी सचिन उर्फ नन्नू के साथ देखा गया था। शक के आधार पर पुलिस ने संदीप और सचिन से सख्ती से पूछताछ की तो दोनों टूट गए।

यह भी पढ़े :  सांसद अनिल बलूनी पुनः भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख बने, वे ऐसे तीसरे मीडिया विभाग के पदाधिकारी हैं जिन्हें मीडिया प्रमुख के साथ मुख्य प्रवक्ता का भी दायित्व दिया गया

उन्होंने इस वारदात का खुलासा कर दिया। बताया कि उन दोनों ने ही 18 नवंबर को विशाल को धीमारखेड़ा बुलाया था। इसके बाद वह उसे रजपुरा डैम ले गए। वहां हाथ और सिर काटकर उसकी हत्या कर दी। शव घटनास्थल से डेढ़ किलोमीटर दूर दलदल में दबा दिया। आरोपियों की निशानदेही पर बुधवार को पुलिस ने विशाल का धड़ बरामद कर लिया।

मीडिया को एसपी प्रमोद कुमार ने बताया कि घटनास्थल के आसपास ही आरोपियों ने हाथ और सिर भी दबाया है, लेकिन काफी तलाश करने के बाद भी अभी तक हाथ और सिर बरामद नहीं हो सका है। ओर अब गुमशुदगी को धारा 364, 302, 201 और 120 बी में तरमीम कर दिया गया है। पुलिस के अनुसार, संदीप ने पूछताछ में बताया कि मृतक विशाल, नन्नू और वह तीनों दोस्त थे ओर विशाल ज्यादातर संदीप के साथ ही रहता था।
मालूम ये चला है कि कुछ दिनों से विशाल संदीप को नशेड़ी कहकर बदनाम कर रहा था। उसने संदीप की पत्नी से भी उसके नशेड़ी होने की बात कही थी। साथ ही वह संदीप की पत्नी को उसके खिलाफ भड़का रहा था। कहता था कि संदीप अच्छा आदमी नहीं है, नशेड़ी है तुमने संदीप के साथ शादी करके गलती की है। इससे अच्छा तो तुम्हारा पहला पति ही था। इस बात को लेकर उसका पत्नी से झगड़ा भी हुआ था
वही विशाल की इन सब बातों से संदीप को शक हो गया कि अब शायद उसकी दूसरी पत्नी भी उसे छोड़कर चली जाएगी। वह विशाल से इतना चिढ़ गया कि उसने नन्नू के साथ मिलकर उसे मारने की योजना बना ली।

यह भी पढ़े :  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने सडक परिवहन और राजमार्ग मंत्री गडकरी से की मुलाकात, 6 राजमार्गो को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने समेत कई सडक परियोजनाओं की सैद्धांतिक स्वीकृति

18 नवंबर को संदीप और नन्नू ने विशाल को बहाने से धीमरखेड़ा बुला लिया। बाद में उसे बाइक पर बैठाकर रजपुरा डैम ले गए, जहां उन्होंने पाटल से उसका गला और हाथ काटकर हत्या कर दी
एसपी प्रमोद कुमार ने बताया कि मृतक का सिर और हाथ बरामद करने के लिए डॉग स्क्वाइड की मदद ली जा रही है। अभी तक कुछ पता नहीं चल सका है। सिर और हाथ बरामद होना केस में अहम है, इसलिए बरामदगी के लिए कोर्ट से रिमांड लेकर दोनों आरोपियों से दोबारा पूछताछ की जाएगी। उन्होंने कहा कि मामले में साफ है कि धड़ मृतक विशाल का ही है फिर भी अगर जरूरत महसूस होती है तो मृतक का डीएनए टेस्ट भी कराया जाएगा। 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here