उत्तराखंड : बस गहरी खाई में गिरी, 26 तीर्थ यात्रियाें की मौत,4 घायल ,मध्य प्रदेश के हैं तीर्थ यात्री मुख्यमंत्री धामी ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए अधिकारियों को दिये थे राहत एवं बचाव कार्यों में तेजी लाने के निर्देश हादसे की होगी जांच

यमुनोत्री हाइवे पर रविवार शाम डामटा के पास एक बस के गहरी खाई में गिर जाने से 26 श्रद्धालुओं की मौत हो गई और चालक समेत चार गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को डामटा के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हादसे का प्रथमदृष्टया कारण ओवरस्पीड बताया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए मारे गए लोगों के परिजनों को दो दो लाख और घायलों के परिजनों को पचास, पचास हजार रुपए की सहायता देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।

जानकारी के मुताबिक रविवार को हरिद्वार से बस संख्या- यूके 04- पीए-1541 मध्य प्रदेश के पन्ना जिले के यात्रियों को लेकर यमुनोत्री धाम के लिए रवाना हुई। शाम करीब पौने सात बजे डामटा के पास रिखाऊ खड्ड के पास अचानक अनियंत्रित होकर 200 मीटर गहरी खाई में जा गिरी।

हादसे की सूचना के बाद एसडीआरएफ, पुलिस, आपदा और राजस्व विभाग की टीमों रेस्क्यू शुरू किया। पुलिस अधीक्षक अर्पण यदुवंशी ने बताया कि बस में चालक समेत 30 लोग सवार थे। घटना में 26 लोगों की मौत हुई है, जबकि चार लोग गंभीर घायल हुए हैं। मौके पर मौजूद पुरोला के थानाध्यक्ष ने बताया कि, 8 शवों को खाई से निकाला जा रहा है।

यह भी पढ़े :  दिल्ली से ख़बर आई है उत्तराखंड : 24 अगस्त को केंद्रीय मंत्री डॉ. निशंक करेंगे एनआईटी के अस्थायी कैंपस का शिलान्यास

हादसे का काफी देर बाद चला पता

डामटा के पास यात्रियों की बस ऐसे निर्जन स्थान पर खाई में गिरी कि, कोई इनकी चीख पुकार सुनने वाला तक मौजूद नहीं था। बताया जा रहा है कि, यहां से वाहनों में जा रहे यात्रियों को हादसे का पता चला। इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी। जिस स्थान पर हादसा हुआ, वहां पर दो से तीन गाड़ियां पास हो सकती हैं। समझा जा रहा है कि, शाम की धुंधली रोशनी में संभवत: ओवरस्पीड के कारण यह हादसा हुआ।


मुख्यमंत्री आपदा कंट्रोल रूम पहुंचे

मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने डामटा हादसे के बाद सचिवालय स्थित आपदा कंट्रोल रूम पहुँच कर बचाव कार्यों के बारे में जानकारी ली और मौके पर मौजूद अफसरों को जरूरी निर्देश दिए

डामटा के निकट दुर्घटनाग्रस्त बस के दस्तावेज तो पूरे थे लेकिन सफर बिना रुके ही कर रही थी। परिवहन अधिकारियों के अनुसार बस की यात्रा मार्ग पर बिना रुके यह लगातार तीसरी ट्रिप थी। देर शाम परिवहन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंच गई थी। संपर्क करने पर परिवहन उपायुक्त सनत कुमार सिंह ने बताया कि वाहन के दस्तावेज की प्रारम्भिक जांच कर ली गई है। यमुनोत्री का ट्रिप कार्ड और ग्रीन कार्ड बना हुआ है। ट्रिप कार्ड के अनुसार बस में 27 लोग सवार थे। राहत एवं बचाव कार्य के बाद दुर्घटना के कारण की जांच की जाएगी।

*मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जानकारी मिलते ही किया आपदा कंट्रोल रूम का रुख

*यमुनोत्री यात्रा मार्ग पर डामटा के समीप हुई बस दुर्घटना पर राहत एवं बचाव कार्यों की ली जानकारी।*

यह भी पढ़े :  आपदा प्रभावित 133 परिवारों का शीघ्र होगा पुनर्वास : डॉ. धन सिंह रावत, 9 आपदा प्रभावित गांवों की सूची तैयार

*बस दुर्घटना पर शोक व्यक्त करते हुए अधिकारियों को दिये राहत एवं बचाव कार्यों में तेजी लाने के निर्देश।*

यमुनोत्री मार्ग पर डामटा के समीप रविवार को हुई बस दुर्घटना की जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी सचिवालय स्थित आपदा कंट्रोल रूम पहुंचे। उन्होंने बस दुर्घटना पर शोक व्यक्त करते हुए अधिकारियों को राहत एवं बचाव कार्यो में तेजी लाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने दुर्घटना में मारे गये लोगों की आत्मा की शांति तथा घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की भी ईश्वर से कामना की है। उन्होंने घायलों के उपचार की समुचित व्यवस्था के निर्देश भी जिलाधिकारी उत्तरकाशी को दिए हैं।
मुख्यमंत्री ने आपदा कंट्रोल के संचालन व्यवस्थाओं का भी जायजा लिया तथा ड्यूटी पर तैनात कार्मिकों से भी कंट्रोल रूम के संचालन से सम्बन्धित प्रक्रियाओं की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में यात्रा अपने चरम पर है। यात्रा संचालन में व्यवस्थाओं के साथ ही किसी भी प्रकार की अनहोनी पर त्वरित राहत सम्बन्धी कार्य संचालित हो। इसके लिए कारगर व्यवस्था बनायी जाए। सभी जनपदों से आपदा कंट्रोल रूम को 24 घंटे सूचनाएं उपलब्ध कराये जाने के साथ ही जनपदों के आपदा कंट्रोल रूमों को भी और अधिक सक्रिय किये जाने के उन्होंने निर्देश दिए।
दुर्घटनाग्रस्त हुई बस में सवार लोग मध्यप्रदेश के होने के कारण मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से दूरभाष पर वार्ता कर दुर्घटना की जानकारी प्राप्त की। मुख्यमंत्री ने कहा कि राहत एवं बचाव कार्य तेजी से किये जा रहे है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here