देहरादून ।

संघ के वरिष्ठ पदाधिकारियों के करीबी लोगों की सरकारी नौकरियों में भर्ती वाली सूची को सोशल मीडिया में वायरल करने के विरुद्ध आरएसएस ने कानूनी जबाब दिया है । प्रांत कार्यवाह आरएसएस दिनेश सेमवाल ने एक एफआईआर साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन पर दी है । जिसमे उत्तराखंड प्रांत प्रचारक युद्धवीर यादव द्वारा वर्ष 2017 से 2022 के मध्य पद का दुरुपयोग कर सरकारी नौकरी लगाने का फर्जी, कूटरचित दस्तावेज कुछ लोगो द्वारा भ्रामक सूची बनाकर फेक आईडी द्वारा सोशल मीडिया में प्रसारित किया जा रहा है
उपरोक एफआईआर में कहा गया है की उपरोक्त फर्जी कूट रचित लिस्ट में उल्लेखनीय लोग न तो उक्त स्थान पर नियुक्त है न तो कार्यरत है।उपरोक्त भ्रमित खबर को फैला कर समाज में घृणा और वैमनस्य फैलाया जा रहा है । उपरोक्त सूचना पर सीसीपीएस देहरादून पर धारा 501/505 आईपीसी व 66 आईटी एक्ट में मुकदमा पंजीकृत किया गया है ।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड के सभी जिलों में टीकाकरण 2.0 हुआ शुरू, स्वास्थ्यकर्मियों को लगाई जा रही है वैक्सीन की दूसरी डोज

इसको लेकर अपील भी जारी की गई है कि सोशल मीडिया पर कुछ लोगो द्वारा फेक न्यूज और फर्जी आईडी द्वारा भ्रामक खबरे प्रसारित की जा रही है,ऐसे लोगो को चिन्हित कर आवश्यक कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी और किसी भी ऐसे अपराधियो को बख्शा नही जायेगा जो लोक शांति और कानून का उलंघन करेंगे ।

 

वही इससे  पहले सीएम आवास मे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री   पुष्कर सिंह धामी से भेंट की। उन्होंने मुख्यमंत्री को एक ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि संघ के पदाधिकारियों को बदनाम करने के लिए एक फेक लिस्ट सोशल मीडिया पर प्रसारित की जा रही हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से इसकी उच्च स्तरीय जांच करवाए जाने का अनुरोध किया।
मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक को मामले की पूरी जांच कर समुचित कार्रवाई करने के निर्देश दिये हैं।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड में कोरोना की मार के बीच महंगा हुआ आरटीपीसीआर टेस्ट, जानिए क्या है कोरोना टेस्ट का नया रेट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here