हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

आपको बता दे कि दून के आदर्श नगर में अपने ही परिवार के  सभी सदस्यों की बेरहमी से हत्या करने वाले हरमीत सिंह को फांसी की सजा सुनाई गई है।
उसे 302 के तहत फांसी, 307 और 316 में दस साल की कैद व एक लाख रुपये जुर्माना भी लगाया गया है।
पंचम अपर जिला जज आशुतोष मिश्र की अदालत ने ये फैसला सुनाया।
कोर्ट ने कहा, ये रेयर आफ रेयर केस है। उत्तराखंड के पहले बड़े मामले में देहरादून कोर्ट ने ये ऐतिहासिक फैसला सुनाया।

बता दे कि दीपावली के दिन चकराता रोड आदर्श नगर में एक ही परिवार के गर्भवती महिला सहित चार सदस्यों की हत्या करने वाले आरोपित को कोर्ट ने सोमवार को दोषी करार दिया था।

तारीख 24 अक्टूबर ओर साल 2014 को आरोपित हरमीत सिंह ने अपने पिता जय सिंह, सौतेली मां कुलवंत कौर, सौतेली गर्भवती बहन हरजीत कौर और हरजीत कौर की बेटी सुखमणि की चाकू से गोद कर हत्या कर दी थी।
हमले में हरजीत कौर के बेटे कमल को चाकू लगे थे। केस में कमल चश्मदीद गवाह रहा। दिल दहलाने देने वाली इस घटना को दोषी ने प्रॉपर्टी को लेकर अंजाम दिया था।

यह भी पढ़े :  लापरवाही की हद है भाई! बीमार कोई और डायलिसिस कर दिया किसी और का

गौरतलब है कि ये मामला 24 अक्टूबर 2014 को दीपावली की रात का है। इस घटना का पता तब चला जब नौकरानी राजी अगले दिन घर काम करने पहुंची थी। उस वक्त हरमीत घर पर ही था। उसने उसे घर नहीं में मौजूद था। उसने राजी को अंदर नहीं आने दिया और वहां से चले जाने को कहा। इस पर राजी ने जय सिंह के भतीजे और मुकदमे में शिकायतकर्ता अजीत सिंह को फोन कर बताया कि हरमीत घर का काम कराने से मना कर रहा है। अजीत ने जय सिंह को फोन किया, लेकिन फोन कट गया। दोबारा फोन किया तो हरमीत से बात हुई।

यह भी पढ़े :  निःशुल्क नेत्र कुंभ 2021 का उद्घाटन मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने किया,

देहरादून में अपने ही परिवार के पाँच लोगों की निर्मम हत्या के आरोपी हरमीत को फाँसी की सजा 1 लाख जुर्माना। पिता जय सिंह सौतेली माँ कुलवंत कौर गर्भवती बहन हरजीत कौर भाँजी सुखमनी की चाकू से गोद कर की थी हत्या। न्यायालय ने आरोपी हरमीत को माना पाँच हत्याओं का दोषी। न्यायालय ने 302,307 और 316 कि धाराओं में सुनाई सजा। कैंट कोतवाली के आदर्श नगर में 24 अक्टूबर 2014 की थी घटना। परिवार के चार लोगों पर तकरीबन 90 बार किया गया था चाकू से वार। भांजे कंवलजीत को पढ़ाई थी चोरों की झूठी कहानी,बाहर आते ही बच्चे ने बताई सच्चाई। न्यायालय में भी बच्चे और चाकू की धार लगाने वाले के रहे अहम बयान। पंचम अपर सत्र न्यायाधीश आशुतोष कुमार मिश्रा के न्यायालय में सुनाई गई सजा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here