अटल जी कि अस्थि विसर्जन यात्रा पर सियासत क्यो भाई ? अगर वोट बैंक का खेल है तो आप भी लग जाओ साथ मे!

 

पूरा देश जानता है कि अटल बिहारी वाजपेयी हमेशा से ही लोगों के लिए आदर्श रहे , भारत रत्न अटल जी ऐसे नेता थे जिनके सामने विपक्ष तो हर बार था, लेकिन उनका विपक्षी कोई नहीं था। ये अटल जी की व्यवहार कुशलता का ही प्रमाण है कि उनके निधन पर देश की सभी राजनैतिक दलों के लोगों की आंखे नम थी. अटल जी के जाने से भारतीय राजनीति के एक स्वर्णिम युग का अंत तो हो गया है। 
. देहरादून के बीजेपी कार्यालय में अटल के अस्थि कलश को अंतिम दर्शन के लिए कल  रखा गया. जहां पहुंचकर कई स्थानीय लोगों और बीजेपी कार्यकर्ताओं  नेे   अटल जी को श्रद्धांजलि अर्पित की. इसके साथ ही  आज   प्रदेश के अलग-अलग स्थानों बदरीनाथ, बागेश्वर, हल्द्वानी और ऋषिकेश में अटल जी की अस्थियां नदी में प्रवाहित की जाएंगी. जिसमें बीजेपी के कई बड़े नेता शामिल हो रहे है
अब बात अटल जी पूरे देश मे अस्थिया विसर्जन यात्रा की ज़िस पर कांग्रेस ने नेताओ ने बिहार से लेकर उत्तराखंड़ तक हल्ला बोल दिया है कांग्रेस कह रही है कि पीएम मोदी वोट बैंक के चक्कर मे अटल जी की अस्थियां पूरे देश मे घुमवा रहे है जो बीजेपी को नही करना चाइए कही पर तो पीएम मोदी जी कुछ छोड़ देते जैसे जैसे सभी राज्यों में अस्थि कलश यात्रा निकाली जा रही है विसर्जन किया जा रहा है वैसे वैसे सियासत तेज़ हो गई है कांग्रेस कह रही है कि क्या यह जरूरी था? यहा अब मोदी-शाह की भाजपा है जहां राजनीति करने के मौकों को छोड़ने की गुंजाइश ना के बराबर है।

तो वही उत्तराखंड़ मे अटल जी के अस्थि विसर्जन कार्यक्रम को लेकर राज्य सभा संसद अनिल बलूनी से जब पत्रकारो ने सवाल किया कि यहा राजनीति कोन कर रहा है और सियासत कोन तो अनिल बलूनी ने कांग्रेस के नेताओ पर पलटवार करते हुए कहा कि
ये कांग्रेस है जो इसी छोटी राजनीति की वजह से भयंकर घोटालो के कारण ही देश की जनता ने इनको पहले सत्ता से बहार किया और अब कांग्रेस मुक्त भरात जल्द बनाने जा रही है ये कांग्रेस चाहती है कि महान बनना केवल गांधी और नेहरू परिवार के खाते में जाये
जरुरी नही की देश के हर शहर में गांधी और नेहरू परिवार के नाम पर ही हो सड़क और चौराहे बने ।
अटल जी  हमारे सबसे श्रद्धेय नेता रहे है और आज भी सभी के दिलो मे है उन्हें पूरा देश प्यार करता है।
अटल जी की अस्थियों को देश के सभी लोग देना चाहते हैं भावभीनी श्रद्धांजलि
ओर इस पर कांग्रेस को इस प्रकार ये ओछी राजनीति नही करनी चाइए  
आज कन्या कुमारी से लेकर बद्री नाथ तक दूरदराज के गांव वाले व्यक्ति भी अटल जी की अस्थियों को प्रणाम कर रहे है उन्हें श्रदांजलि दे रहे है अब इसमें कांग्रेस को क्या दिक्कत है बलूनी ने कहा कि
अटल जी का तो पूरा जीवन ही रहा है राष्ट्र के नाम समर्पित पर मे कांग्रेस के उन नेताओं से पूछना चाहता हूँ कि क्या सिर्फ
गांधी और नेहरु परिवार ही छू सकता है क्या महानता के शिखर बहराल बलूनी के वार से कांग्रेस के कही नेताओ ने चुपी साध ली है तो कही आगे की बयानबाजी की रणनीति बना रहे है  
बोलता उत्तरखंड ने इस पूरे मामले पर बीजेपी के उस नेता से भी बात की जो बेहद सादगी वाले है और जो कहते है वो  राजनीति से हटकर कहते है जोगेंद्र पुंडीर देहरादून मे बीजेपी के नेता है उनका कहना था कि जब अटल जी की अंतिम यात्रा चल रही थी ओर उसी दौरान सभी राजनीतिक नेताओ ने अटल जी को भावभीनी श्रदांजलि देते हुए कहा कि अटल जी का जाना दुःखद है और अटल जी वो नेता थे जिनके सामने विपक्ष तो हर बार  खड़ा रहता था पर उनका कोई   विपक्षी  था ही नही जब अटल जी बोलते थे तो मुझे याद है हर नेता किसी भी राजनीतिक  दल का उन्हे सुनता था ऐसे मे आज अगर बीजेपी देश के सभी राज्यो मे अटल जी की अस्थि यात्रा निकलाकर विसर्जन कर रही है और जनता जगह जगह उन्हें श्रदांजलि दे रही है तो इसमें गलत क्या है और जो आज अटल जी के जाने के बाद कांग्रेस के नेता हो या अन्य दल के वो टिपणी कर रहे है बयान दे रहे है तो ये उनको शोभा नही देता।

बहराल अब बोलता है उत्तराखंड़ कि अटल जी सर्व स्वीकार्य जननेता थे उनको पूरा भारत अपना नेता मानता था आप ने देखा होगा कि स्वास्थ्य खराब होन के बाद अटल जी राजनीति से अलग ही गए थे और लगभग 10 साल तक दूर रहने के बाद भी जब उनकी अंतिम यात्रा निकली तो कही पर भी जगह नही  थी जहा खड़ा हुआ जा सके हर तरफ से जनता अपने नेता को भावभीनी श्रदांजलि देने पहुच रही थी ओर अटल जी की उस  अंतिम    यात्रा ने बता दिया था कि ये भारत की जनता है जो अभी भी नही बदली वो अपने जन नेता को आज भी पसन्द करती है और आगे भी करती रहेगी पर कोई जन नेता बनकर जनता के दिलो मे राज तो करे और आगे वो नेता जनता को मिल गया है या नही वो तो आने वाले आम चुनाव के परिणाम बोलेगे पर एक बात पहले कह दू कि इस साल के अंत में चार राज्यों में चुनाव होने के साथ-साथ अगले साल आम चुनाव भी होने वाले हैं।

ओर ऐसे मे अब अटल जी के माँ गंगा की गोद मे समा जाने के लिए जो देश की लगभग 100 नदियों में उनकी अस्थि विर्सजन कार्यक्रम बीजेपी ने चलाया है इससे कांग्रेस को लग रहा है कि बीजेपी राजनीतिक लाभ ले लेगी ओर वोट बैंक को बढाने का काम कर रही है तभी कांग्रेस के नेता देश से लेकर विदेश तक भी अटल जी की अस्थि विसर्जन यात्रा पर शोर मचा रहे है ।  
पर उत्तराखंड से एक आम आदमी चाय वाला से लेकर सब्जी बेचने वाला , दूध बेचने वाला तक ये बोल रहा है कि अटल जी बीजेपी के नेता थे लोग उन्हें पसंद करते थे ओर अगर बीजेपी उनकी अस्थि विसर्जन यात्रा देश मे निकाल रही है तो बुरा क्या है भैया उनका अपना खर्चा हो रहा है उनके अपने बीजेपी के नेता व्यस्त है और इससे कांग्रेस और अन्य दलों के नेता को क्या लेना देना। जो अटल जी को मानता है वो व्यक्ति उत्तराखंड का हो या भारत के किसी भी राज्य का वो दो फूल चढ़ाने तो जायेगा ही अटल जी को आखिर ये अवसर फिर कहा मिलने वाला ओर भैया हमको नही मालूम कि आगे हमको  ऐसा जन नेता आगे कभी मिलेगा भी या नही ओर पता नही तब तक हम रहेगे भी या नही। हमको नही मालूम पर जब जब अटल जी का नाम कभी टीवी मे सुनाई देगा तो हम अपने बच्चों को तो कहेगे की हमने भी अटल जी को श्रदांजलि दी थी ओर हम वहा गए  थे          या  यहा आये थे   भइया देखो आप तो पत्रकार हो आप ही बताओ हम गरीब लोगों के पास अपने बच्चों के लिए कुछ कहने सुनाने के लिए यही तो बाते रहती है बाकी जो रोज कामते है उसे रोज खा जाते है । जब बोलता उत्तरखंड ने इन आम लोगो से पूछा कि कांग्रेस तो कह रही है कि बीजेपी अटल जी की अस्थि विसर्जन यात्रा निकलाकर वोट बैंक बड़ा रही है तो फटाक से बोले दूध वाले भाई देखो जी ये वोट बैंक क्या होता है और कैसे बढ़ता है हमको नही मालूम हमको तो सिर्फ ये मालूम है कि गाय का दूध कैसे बढे ओर गाय स्वस्थ कैसे रहे ताकि अपना रोजगार चलता रहे पर जितना हमको समझ है और सुने है कि अटल जी को सभी पार्टी के नेता पसन्द करते थे और वो सबके लिए आर्दश थे तो फिर क्यो नही कांग्रेस हो या अन्य दल वो भी बीजेपी के साथ साथ हर राज्य मे अटल जी की अस्थि विसर्जन यात्रा मे शामिल हो जाते फिर ये जो आप वोट बैंक वाली बात कह रहे हो ना ये दोनों ही पार्टी का तो हो जाएगा। साथ साथ अटल जी    कि  अस्थि विसर्जन कार्यक्रम मे सभी दलो  के नेेता पहुँच जाओ तब तो  ये वोट बैंक जो आप पूछे है या कांग्रेस बोले है तब तो सबका हो जाएगा ना फिर समस्या क्या भैया । ये एक आम आदमी की बात थी जो पड़ा लिखा कम था पर बोलता उत्तराखंड को लगता है कि बहुत गहराई वाली बाते बोल गए भाई जी क्योकि अगर यह पर विपक्ष वाली कांग्रेस हो या सत्ता वाली बीजेपी दोनों धयान से सुन ले अब वोट बैंक किसी दल का नही होता और ना नेता का जो काम करेगा और अच्छा काम करेगा जनता उसको पसन्द करेगी और यदि वो फिर अपना कर्तव्य जनता के प्रति भूल जाएगा तो जिसको कोई अपना या उसका वोट बैंक समझता है वो कही और उसके पास चला जायेगा जो बनेगा जन नेता ओर जन नेता आदमी अपने विचारों से बनता है सबको साथ लेकर चलने से बनता है बड़े छोटे मे फर्क ना करने से बनता है एक विधानसभा क्षेत्र से लेकर राज्य और भारत के विकास के लिए मजबूत सोच लेकर चलने से बनता है , निर्णय लेने की कुशल क्षमता से बनता है, दूर की सोच रखने से बनता है, जातिवाद से दूर रहता है, राजनीति भारत के विकास या राज्य के लिए करता है ना कि एक दुसरे की टांग खिंचाई या कुर्सी से उतारने के लिए नही आदि आदि जैसे अटल जी थे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here