उत्तराखंड बड़ी ख़बर : चारधाम यात्रा के लिए ऑफलाइन पंजीकरण पर सात दिन की रोक


पर्यटन विभाग ने चारधाम यात्रा का ऑफलाइन पंजीकरण एक हफ्ते के लिए पूरी तरह बंद कर दिया है। इसके बाद जो भी यात्री ऑफलाइन पंजीकरण कराएंगे, उनकी एक हफ्ते बाद की बुकिंग नहीं होगी। अब तक यात्री पूरे सीजन के किसी भी दिन के लिए ऑफलाइन पंजीकरण करा रहे थे। अगले महीनों का आफलाइन पंजीकरण कराकर यात्रियों के धामों में पहुंचने की शिकायतों के बाद यह फैसला लिया गया है

पर्यटन सचिव, दिलीप जावलकर ने बताया कि कुछ लोग ऑफलाइन माध्यम से अगले महीनों के स्लॉट की बुकिंग करा रहे हैं, लेकिन उसी दिन तीर्थयात्रा पर रवाना हो रहे हैं। रास्ते में पुलिस रजिस्ट्रेशन की जांच के दौरान ऐसे वाहनों को रोक रही है। इससे तीर्थयात्रियों को अनावश्यक परेशान होना पड़ रहा है और धामों में भीड़ भी बढ़ रही है। इससे बचने को तय किया गया है कि, अब केवल सात दिन के भीतर का ही ऑफलाइन पंजीकरण शुरू होगा। हालांकि सभी स्थानों पर फिजिकल रजिस्ट्रेशन काउंटर बने रहेंगे।

यह भी पढ़े :  75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सीएम पुष्कर सिंह धामी ने की ये सभी महत्वपूर्ण घोषणाएं पढे, धन्यवाद मुख्यमंत्री जी

ट्रेवल एजेंट कर रहे गोलमाल
सूत्रों ने बताया कि, ट्रेवल एजेंट, हरिद्वार, ऋषिकेश के पंजीकरण केंद्रों में जून, जुलाई, अगस्त के महीनों की बुकिंग करा रहे हैं और इसी स्लिप को लेकर यात्रा पर रवाना हो रहे हैं। जब धामों में तय संख्या से यात्री पहुंचे, तो ट्रेवल एजेंटों का यह गोलमाल सामने आया।

20 केंद्रों पर हो रहे थे ऑफलाइन पंजीकरण
उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद की ओर से ऑनलाइन और फिजिकल काउंटरों के माध्यम से तीर्थयात्रियों का पंजीकरण कराया जा रहा है। तीर्थयात्रियों को यूटीडीबी की आधिकारिक वेबसाइट पर ऑनलाइन पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। इसके साथ ही ऋषिकेश, हरिद्वार, उत्तराखंड की सीमा सहित यात्रा मार्ग पर कुल 18 से 20 केंद्रों में ऑफलाइन पंजीकरण किया जा रहा है।

चारधाम यात्रा में चार यात्रियों की मौत
चारधाम यात्रा मार्गों पर चार यात्रियों को गुरुवार को हार्ट अटैक से मौत हो गई। दो यात्रियों की ऋषिकेश, जबकि एक यात्री की केदारनाथ और एक अन्य के यमुनोत्री मार्ग पर मौत हुई। बुधवार देर रात यमुनोत्री की यात्रा पर आए अरविन्द उमाले (48) पुत्र लक्ष्मण उमाले निवासी बुलडाना, महाराष्ट्र की जानकीचट्टी हॉस्पिटल में हार्टअटैक से मौत हो गई। यमुनोत्री मार्ग पर अब तक 15 यात्रियों की मौत हो चुकी है।

यह भी पढ़े :  उत्तराखंड के सात जिलों आज भारी बारिश और बर्फबारी होने की सम्भवना !

उधर, ऋषिकेश में चारधाम यात्रा से लौटे पश्चिम बंगाल, निवासी डॉक्टर नीमायी चांद की राजकीय चिकित्सालय में हार्ट अटैक से मौत हो गई। मध्य प्रदेश के बलदेव बाग जबलपुर निवासी गोकुल प्रसाद चौबे की राजकीय चिकित्सालय ऋषिकेश मौत हो गई। वहीं, केदारनाथ दर्शन करने आए कर्नाटक निवासी नागारत्ना (57) की हार्ट अटैक से मौत हो गई। केदारनाथ यात्रा पर आए कुल 21 यात्रियों की अब तक मृत्यु हो चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here