प्रदर्शन के दौरान 300 से अधिक युवा गिरफ्तार, सीएम ने दिए पूरी घटना पर मजिस्ट्रेटी जांच के निर्देश.. पथराव करने वाले बाहरी तत्व, हो रही पहचान : एसएसपी

प्रदर्शन के दौरान 300 से अधिक युवा गिरफ्तार, सीएम ने दिए पूरी घटना पर मजिस्ट्रेटी जांच के निर्देश..
पथराव करने वाले बाहरी तत्व, हो रही पहचान : एसएसपी

 

 

आक्रोश बढ़ता देख ऒर पुलिस के कही बार समझाने के बाद ज़ब नहीं युवा माने तब पुलिस ने लाठीचार्ज किया। इससे भड़के युवाओं ने पुलिसकर्मियों पर पथराव कर उन्हें दौड़ा दिया। पीएसी की मदद से लाठीचार्ज कर युवाओं को तितर-बितर किया गया। इसके बाद भी वे नहीं माने तो करीब 300 युवाओं को गिरफ्तार कर सुद्धोवाला जेल भेजा गया। इस प्रदर्शन और उपद्रव के दौरान कई युवा बेहोश भी हुए। साथ ही पथराव में कई पुलिसकर्मियों को भी चोट आई। युवाओं की पत्थरबाजी से कई दुकानों और पुलिस के वाहनों को भी नुकसान पहुंचा है।

 

पथराव करने वाले बाहरी तत्व, हो रही पहचान : एसएसपी
एसएसपी दलीप सिंह कुंवर ने कहा कि गांधी पार्क के पास युवा प्रदर्शन कर रहे थे। लेकिन, उनके बीच कुछ बाहरी तत्व भी शामिल हो गए और उन्होंने पुलिस पर पथराव किया। इससे पुलिस और आम लोगों के वाहन व दुकानें तो क्षतिग्रस्त हुए ही, पुलिस और प्रशासन के अधिकारी व कर्मचारी भी घायल हो गए। सीसीटीवी फुटेज खंगालकर इन बाहरी तत्वों की पहचान की जा रही है। सभी आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

  1. लाठीचार्ज व पथराव की मजिस्ट्रेटी जांच के निर्देश
    मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्य सचिव डॉ. एसएस संधु को गांधी पार्क में धरने के दौरान पथराव और लाठीचार्ज से उत्पन्न हालात की मजिस्ट्रेटी जांच के निर्देश दे दिए हैं। नामित जांच अधिकारी सभी तथ्यों और परिस्थितियों की जांच कर रिपोर्ट शासन को उपलब्ध कराएंगे। जारी आदेश में कहा गया है कि बुधवार को गांधी पार्क में धरने के दौरान की घटना और बृहस्पतिवार को देहरादून में बेरोजगार संघ के धरने के दौरान हुए पथराव की वजह से कानून व्यवस्था की विषम परिस्थिति उत्पन्न हो गई थी। मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था की इन परिस्थितियों और लाठीचार्ज के पूरे घटनाक्रम की विस्तृत जांच के निर्देश दिए।
    ये हैं प्रमुख मांगें
    हाईकोर्ट के जज की निगरानी में भर्तियों में धांधली की सीबीआई जांच।
    नकलरोधी कानून आने तक कोई भी भर्ती परीक्षा न हो।
    12 फरवरी को होने वाली पटवारी भर्ती परीक्षा टाली जाए।
    नकलचियों के नाम सार्वजनिक किए जाएं।
    आयोग के अधिकारियों-कर्मचारियों की निष्पक्ष जांच हो

 

“हमारी सरकार प्रदेश के युवाओं के हितों की रक्षा के लिए पूरी तरह से सजग है। पहले की तरह हमने किसी भी भर्ती घोटाले को न तो दबाया है और न छुपाया है। जितने भी मामले सामने आए, हमने उनकी जांच कराकर, जितने भी दोषी हैं, सभी को जेल भेजा है। हमारी सरकार ने यह पहले ही तय कर लिया था कि भर्ती परीक्षाओं में नकल को रोकने के लिए कड़ा कानून बनायेंगे। देश का सबसे कड़ा नक़ल विरोधी क़ानून हम लेकर आ रहे हैं। ऐसी पुख्ता व्यवस्था की जा रही है कि भविष्य में होने वाली सारी परीक्षायें पारदर्शी और नक़ल विहीन हों। प्रदेश के युवाओं के साथ किसी तरह का अन्याय नहीं होने दिया जाएगा।
हमारी सरकार युवाओं के हित में फैसले ले रही है। प्रदेश की बहन-बेटियों के लिये हमने महिला आरक्षण भी सुनिश्चित किया है। सभी के हितों को संरक्षित किया जायेगा। युवाओं से अनुरोध है कि किसी के बहकावे में न आये:  पुष्कर सिंह धामी मुख्यमंत्री 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here