ऐसा भी हुआ :फर्जी वेबसाइट बनाकर करते थे केदारनाथ हेलीकॉप्टर बुकिंग के नाम पर ठगी, बिहार से दो गिरफ्तार


केदारनाथ यात्रा के लिए हेलीकॉप्टर टिकटों की फर्जी ऑनलाइन बुकिंग करने वाले गैंग को एसटीएफ ने बिहार से गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के पास से सवा लाख नगद, एक लैपटॉप, पांच मोबाइल फोन, तीन पासबुक, तीन चेकबुक, एक इंटरनेट राउटर, सात एटीएम कार्ड, तीन फर्जी वोटर कार्ड, एक क्यूआर कोड और एक माइक्रो एटीएम बरामद हुआ है।

 

एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि चारधाम हेलीकॉटर टिकट बुकिंग के नाम पर कई लोगों के साथ ऑनलाइन ठगी के मामले सामने आए थे। आरोपी फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों से बुकिंग करवाते थे, लेकिन असल में बुकिंग नहीं होती थी। ऐसे कई लोगों को ये देशभर में ठग चुके थे। साइबर थाने में एक मुकदमा दर्ज करने के बाद इस मामले की जांच की गई। जांच में इस गैंग के मास्टर माइंड बिहार के नवादा जिले के थाना वारिसलीगंज के धनबीगहा गांव में पाए गए, जहां एसटीएफ और साइबर थाना पुलिस ने छापा मारकर आरोपियों को गिरफ्तार किया। इससे पहले भी एसटीएफ पवन हंस हेली सर्विस के नाम से वैष्णो देवी यात्रा की फर्जी बुकिंग के गैंग का पर्दाफाश नालंदा बिहार से किया था।

यह भी पढ़े :  बाॅलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार होंगे उत्तराखंड के ब्रांड एंबेसडर, सीएम पुष्कर सिंह धामी के प्रस्ताव पर हामी

 

केदारनाथ जाने के लिए हेली सर्विस बुकिंग के नाम पर ठगी शुरू हो गई है। ऐसे में लोगों को अलर्ट रहने की जरूरत है। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि वेबसाइट https://heliservices.uk.gov.in/ राज्य सरकार की तरफ से हेली सेवा बुकिंग की आधिकारिक साइट है। इस साइट पर टिकट मिल रहा है तभी बुक कराएं। अगर टिकट उपलब्ध नहीं है तो अन्य साइटों पर न जाएं। उन्होंने बताया कि साइबर ठग फर्जी वेबसाइट बनाकर उन पर हेली बुकिंग दिखाकर लोगों को ठग रहे हैं। इस तरह के मामलों से बचने के लिए लोगों को जागरूक होना होगा। उन्होंने कहा कि आधिकारिक साइट पर पंजीकरण के बाद न तो कोई कॉल की जाती और न ही रकम जमा करने को खाता नंबर दिया जाता है। सीधे बुकिंग पोर्टल पर ही भुगतान होता है। ऐसे में हेली बुकिंग के पंजीकरण के बाद कॉल आई या बुक कराने के लिए रकम भुगतान को खाता नंबर दिया तो समझ जाएं की साइबर ठगी हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here