हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

उत्तराखंड आप भी जान लो : हरिद्वार आए दर्ज होंगे मुकदमे, ओर 22 से बंद रहेंगे जिले के बॉर्डर पढ़े पूरी ख़बर

कोरोना संक्रमण को देखते हुए रद्द की गई कांवड़ यात्रा में कांविड़यों को हरिद्वार आने से रोकने के लिए प्रशासन ने कड़ी चेतावनी जारी की है। पुलिस प्रशासन का कहना है कि प्रतिबंध के बावजूद भी अगर कोई कांवड़ लेने आता है तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा। 

एसएसपी सेंथिल अवूदई ने निर्देश दिए कि वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण (तीसरी लहर) से आम जनता की जान की सुरक्षा को देखते हुए प्रदेश सरकार ने कांवड़ मेला रद्द कर दिया है। उन्होंने बताया कि कांवड मेले में देश के कोने-कोने से शिव भक्तों का हरिद्वार आवागमन रहता है। इसको देखते हुए जिला प्रशासन से समन्वय बनाकर सभी तैयारियां पूरी कर ली जाएं ताकि कांविड़यों को हरिद्वार आने से रोका जा सके।

इसके लिए बॉर्डर पर पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल तैनात किया जाएगा। एसपी क्राइम, एसपी ग्रामीण और एसपी सिटी को निर्देशित किया कि वे समय से उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जनपदों से बॉर्डर मीटिंग आयोजित करते हुए सूचनाओं का आदान-प्रदान करें। साथ ही नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों को सीज करने की कार्रवाई के बाद पार्किंग स्थलों का समय से चयन किया जाए।

यह भी पढ़े :  एक घंटे में लगभग 3 लाख 50 हजार पौधों का किया गया रोपण, प्रधान एवं क्षेत्रवासी पौधों को गोद लें बोले मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र

इसके साथ ही वहां पर भी पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल तैनात किए जाएं। उधर, बताया जा रहा है कि 24 जुलाई से कांवड़ यात्रा को लेकर बॉर्डर सील कर दिए जाएंगे। हालांकि एसएसपी का कहना है कि अभी जिलाधिकारी से बॉर्डर सील करने को लेकर वार्ता की जाएगी। जैसे ही जिलाधिकारी बॉर्डर सील करने के आदेश जारी करेंगे। 

22 से बंद होंगे जिले के बॉर्डर, तैनात होंगे अधिकारी

कोरोना संक्रमण को देखते हुए स्थगित की गई कांवड़ यात्रा में कांविड़यों को हरिद्वार आने से रोकने के लिए रणनीति तैयार की गई। 22 जुलाई से कांवड़ यात्रा के मद्देनजर जिले क बॉर्डर सील कर दिए जाएंगे। इसके साथ ही बॉर्डर पर अनुभवी अफसरों की तैनाती की जाएगी। एसएसपी ने पुलिस अधिकारियों, इंस्पेक्टरों और थाना प्रभारियों के साथ बैठक करते हुए ये दिशा-निर्देश दिए। 

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन से समन्वय बनाकर सभी तैयारियां पूरी कर ली जाएं ताकि कांविड़यों को हरिद्वार आने से रोका जा सके। इसके लिए बॉर्डर पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल नियुक्त किया जाएगा। उन्होंने एसपी क्राइम, एसपी ग्रामीण और एसपी सिटी को निर्देशित किया कि वे समय से उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जनपदों से बॉर्डर मीटिंग आयोजित करते हुए सूचनाओं का आदान-प्रदान करें।

यह भी पढ़े :  सबसे बड़ी ख़बर : उत्तराखंड में 22180 पहुंची कोरोना संक्रमितों की संख्या, 300 की मौत आज भी कोरोना का तांडव 946 मरीज उत्तराखंड के इन जिलों से ..

साथ ही नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों को सीज करने की कार्रवाई के बाद पार्किंग स्थलों का समय से चयन किया जाए। इसके साथ ही वहां पर भी पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल नियुक्त किया जाए। 22 जुलाई से कांवड़ यात्रा को लेकर बॉर्डर पर पुलिस सख्ती कर देगी। वहीं बॉर्डर पर अनुभवी अफसरों को भी तैनात किया जाएगा। 

कांवड़ यात्रा के लिए बस की न करें बुकिंग

कांवड़ यात्रा के दौरान हरिद्वार आने वाले कांवड़ियों की बुकिंग न लेने के निर्देश बस आपरेटरों को दिए गए हैं। इसके साथ ही ट्रेनों और रोडवेज बसों से आने वाले कांवड़ियों को रोकने के लिए भी कार्ययोजना बनाई जा रही है। 

कांवड़ यात्रा के कांवड़िए परिवहन निगम की बसों के साथ ही ट्रेनों व अपने वाहनों से भी पहुंचते हैं। इसके अलावा निजी बसों को भी बुक कर हरिद्वार लाया जाता है। कांवड़ यात्रा स्थगित होने के बाद कांवड़िए धर्मनगरी में न आएं, इसके लिए तैयारी शुरू कर दी गई है।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here