कोरोना योद्धाओं की खतरे में जान; IMA ने किया खुलासा, 1017 डॉक्टरों की कोरोना से हुई मौत

हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

कोरोना महामारी की पहली लहर से ज्यादा दूसरी लहर ने कहर बरपाया है। कोरोना की दूसरी लहर में कईयों ने अपनी जान गवां दी। इसमें डॉक्टर, शिक्षक समेत कई लोग शामिल हैं। कोरोना की दूसरी लहर में अब तक 269 डॉक्टरों की मौत हो चुकी है. यह दावा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने किया. आईएमए ने डॉक्टरों की मौत का राज्यवार आंकड़ा जारी किया है. हालांकि, पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर में कम डॉक्टरों की मौत हुई है।

कोरोना की पहली लहर में देश ने 748 डॉक्टरों को खो दिया था.आईएमए की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, दूसरी लहर के दौरान सबसे अधिक डॉक्टरों की जान बिहार में गई है. यहां 78 डॉक्टरों की मौत हुई. इसके बाद उत्तर प्रदेश का नंबर आता है. यहां 37 डॉक्टरों की मौत हुई. दिल्ली में दूसरी लहर के दौरान 28 डॉक्टरों की मौत हुई है। वहीं आंध्र प्रदेश में भी 22 डॉक्टरों की मौत हुई है।
IMA की ओर से जारी किया गया आंकड़ा
हैरानी की बात है कि कोरोना की दूसरी लहर जिस महाराष्ट्र से शुरू हुई, वहां महज 14 डॉक्टरों की मौत हुई. वैक्सीनेशन के शुरू होते हुए सबसे पहले फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाने का फायदा दिख रहा है. फ्रंटलाइन वर्कर्स में डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ आते हैं. इन लोगों का सबसे पहली टीकाकरण किया गया था. यही वजह है कि मौत का आंकड़ा कम है।

IMA के पूर्व अध्यक्ष का भी निधन कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ही हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के प्रेसिडेंट और IMA (इंडियन मेडिकल एसोसिएशन) के पूर्व प्रेसिडेंट पद्मश्री डॉ केके अग्रवाल का सोमवार रात 11.30 बजे निधन हो गया. पिछले कई दिनों से डॉ. केके अग्रवाल कोरोना से जंग लड़ रहे थे।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here