उत्तराखंड में हुई एक कप चाय वाली अनोखी शादी, हरिद्वार से अमेरिका में ऐसे हुआ कन्यादान, पूरी शादी का हुआ लाइव प्रसारण

हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

देहरादून: देश और दुनिया में कोरोना का कहर इस कदर फैला है कि इसने जनजीवन को ही पटरी से उतार दिया है. कोरोना के कारण कई ट्रेंड बदले भी हैं. ऑफिस कल्चर, वर्क फ्राम होम, ऑनलाइन क्लासेस जैसी कई ऐसी चीजें हैं जो कोरोना काल में हुए बड़े बदलाव हैं. शादी-ब्याह जैसे मांगलिक कार्यों में भी कोरोना के कारण बदलते हुए ट्रेंड देखे गये. यहां शादी के तरीकों, पहनावे और न जाने- क्या चीजें बदली. ऐसे ही एक बड़े और सकारात्मक बदलाव के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं, जिसने शादी-ब्याह में सात समुंदर की दूरियों को भी दूर कर दिया है।

आज हम आपको एक ऐसे कपल की कहानी बताने जा रहे हैं जिन्होंने कोरोना के कारण अपनी शादी के लिए दो साल तक इंतजार किया. ये कपल महामारी खत्म होने के बाद नॉर्मल तरीके से शादी का प्लान कर रहे थे. मगर कोरोना के बिगड़ते हालातों ने इनके सपनों पर पानी फेर दिया. जिसके बाद इन्होंने कुछ ऐसा किया कि उनकी ये शादी यादगार बन गई.

साल 2018 में तय हुआ कि दोनों परिवार मिलकर के धूमधाम से शादी करेंगे, लेकिन महामारी ने सारे प्लान पर पानी फेर दिया. ये दोनों भी यूएसए में बैठ कर 2018 से शादी का प्लान बना रहे थे, उम्मीद थी कि 2019 में वह हरिद्वार में रहकर शादी करेंगे. इधर दोनों परिवारों ने शादी की तैयारियां भी शुरू कर दी. सुशांत की मां ने बहू के लिए गहने, कपड़े बनवाने शुरू कर दिए. उधर रेशम के परिवार ने भी बेटी की शादी की तैयारियां पूरी की, लेकिन साल 2018-2019-2020- में महामारी ने इंतजार लंबा कर दिया. लिहाजा इसी महीने दोनों परिवारों ने इस बात पर रजामंदी बनाई की भले ही दोनों बच्चे भारत ना आ पा रहे हैं लेकिन की शादी अच्छे मुहूर्त में होनी चाहिए. लिहाजा सुशांत और रेशम ने यह यह मन बनाया कि वह 3 जून को शादी करेंगे. मगर समस्या यह थी कि भारत में बैठे दोनों ही बच्चों के परिवार इस शादी में कैसे शामिल होंगे? लिहाजा इंजीनियर दूल्हे सुशांत ने इसके लिए अपना दिमाग लगाना शुरू कर दिया.

सुशांत सक्सेना के पिता निखिल वर्मा बताते हैं कि पूरा परिवार इसी बात से परेशान था कि आखिरकार बेटे और बेटी सात समंदर पार शादी कर रहे हैं, इतने बड़े आयोजन में उनका साथ देने के लिए उन्हें आशीर्वाद देने के लिए कोई परिवार का सदस्य नहीं होगा. जिस पर सुशांत ने यूट्यूब पर एक पेज बनाया. जिसका लिंक न केवल लड़की पक्ष बल्कि अपने पिता को भी दिया. तीन और चार जून की रात लगभग 2 बजे दोनों की शादी का मुहूर्त निकला. पूरी शादी का यूट्यूब पर लाइव प्रसारण किया गया. लड़का और लड़की पक्ष यह चाहते थे कि अगर वह वर्चुअल भी अपने बच्चों की शादी देखें तो दोनों परिवार एक साथ रहे. लिहाजा सुशांत सक्सेना के परिवार ने लड़की पक्ष को अपने घर इनवाइट किया.

निखिल वर्मा बताते हैं कि रात के 1 बजे के बाद हम सभी ऑनलाइन हुए. उसके बाद दोनों ही परिवार एक कमरे में बैठे रहे. एक बड़े से टीवी स्क्रीन पर दोनों बच्चों को शादी करता देखा. जिससे दोनों परिवार बेहद खुश दिखे. लड़का पक्ष और लड़की पक्ष से तीन तीन लोग इस शादी में वर्चुअल शामिल हुए. निखिल वर्मा बेहद इमोशनल होकर बताते हैं कि कमरे का माहौल बेहद भावुक था. एक तरफ लड़की की मां तो दूसरी तरफ लड़के की मां इस पल को टीवी पर देखकर बेहद भावुक थी. फेरे और दूसरी सभी रस्मों को उन दोनों ने अकेले ही पूरा किया. पूरी शादी में दूल्हा-दुल्हन के अलावा मात्र एक पंडित ही शामिल था. शादी बिल्कुल हिंदू रीति रिवाज के अनुसार हुई.

शादी की तमाम रस्मों को खत्म करने के बाद वर्चुअल ही निखिल वर्मा और उनकी पत्नी आभा वर्मा ने वर-वधू को आशीर्वाद दिया. इसके साथ ही हरिद्वार में बैठे दोनों ही परिवार के लोगों ने एक-दूसरे को शुभकामनाएं दी. शादी की तमाम रश्म खत्म होने और लाइव फुटेज खत्म होने से पहले कमरे में ठीक विदाई जैसा माहौल था. निखिल वर्मा बताते हैं की लड़की पक्ष बेहद इमोशनल दिखाई दे रहा था.

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here