महिला उत्थान बाल कल्याण संस्थान, उत्तराखंड की वार्षिक वर्षगांठ पर राजपुर रोड स्थित एक निजी होटल में कार्यक्रम का आयोजन किया गया । कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में उत्तराखंड की राज्यपाल “महामहिम श्रीमती बेबी रानी मौर्य” उपस्थित रहे व विशिष्ट अतिथि के रूप में वन मंत्री हरक सिंह रावत व कृषि मंत्री सुबोध उनियाल उपस्थित रहे।

इस अवसर पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्या ने महिला उत्थान बाल कल्याण संस्थान, उत्तराखंड द्वारा किये गए कार्यो की सरहाना की ।

येलो हिल्स से रुकेगा पलायन मिलेगा रोज़गार, स्वरोजगार में होगा सहायक

“यैलो हिल्स” जो संस्था के समानांतर ही कार्यरत है और जिसका मुख्य उद्देश्य संस्था के कारीगरों व उत्तराखंड के अन्य लोग ,जो कृषि व लघु उद्योगों में संलग्न है, उन्हें बाजार प्रदान करना व उनकी समस्याओं का निराकरण करना है।, उसका विधि पूर्वक शुभारंभ किया गया ।

उत्तराखंड में निर्मित समानो का अपना बाज़ार, ऑनलाइन होगी बिक्री

अब उत्तराखंड में निर्मित सामान और यहाँ की फसल और अन्य कृषि उत्पादों को येलो हिल्स की वेबसाइट से खरीदा जा सकेगा, इस अवसर पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए अनुकृति गुसाईं ने बताया कि येलो हिल्स न सिर्फ उत्तराखंड में नए रोज़गार उपलब्ध करवाने के लिए कार्यरत है बल्कि यहाँ के किसानो, कारीगरों और लघु उद्योगों को विश्व स्तरीय बाज़ार में लांच करने को भी प्रतिबद्ध है, संस्था की ब्रांडिंग यूनिट यहाँ के उत्पादों के प्रचार प्रसार का कार्य कर रही है ।

संभावनाओ का प्रदेश है उत्तराखंड, नयी शुरुवात दिलाएगी पहचान

संस्था की अध्यक्षा “अनुकृति गोसाई रावत” के अनुसार “संस्था ने सर्वे के दौरान पाया कि कई जगह संसाधन है लेकिन लोग उनका उपयोग व उपभोग से अनजान है।

उत्तराखंड के ऐसे लोग, विशेषता जो पहाड़ी इलाकों से है ,की मदद करना चाहती है कि उनके उत्पादों को नई पहचान मिल सके व बाजार तक उनकी पहुंच हो सके। उत्तराखंड में संभावनाएं बढ़ेंगी तो पलायन रोकने में भी मदद मिलेगी। हम उत्तराखण्ड की हस्तकला, ऑर्गेनिक उत्पाद व संस्कृति को अंतरराष्ट्रीय बाज़ार तक पहुंचाना चाहते हैं।

संस्था पिछले 2 वर्षों से महिला उत्थान बाल कल्याण के लिए कार्य कर रही है। कई तरह का परीक्षण प्रशिक्षण व रोजगार संस्था द्वारा महिलाओं को प्रदान किया जा रहा है।

संस्था की अध्यक्षा “अनुकृति गोसाईं रावत” का कहना है” हमारी संस्था द्वारा कई विकल्प प्रदान किए जाते हैं व रूचि के अनुसार विभिन्न क्षेत्रों में महिलाएं बहुत उत्साह पूर्वक न सिर्फ प्रशिक्षण लेती है बल्कि उन्हें रोजगार के अवसर भी प्रदान किए जाते है.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here