विजय बहुगुणा माला राज्य लक्ष्मी शाह ने आखिर किया क्या !

पूरा भारत आज़ाद हो गया था पर टिहरी नही ओर जब टिहरी आज़ाद हुवा उसके बाद भी टिहरी की जनता को दुख और तकलीफ़ के सिवा कुछ ना मिला गाँव गाँव के हालत आज तक नही सुधरे टिहरी मे नेता और शाही परिवार ने राज तो खूब किया पर अगर टिहरी वासियों के हक हकूक की बात की जाए तो उन्हें उनके अधिकार कोई ना दिला पाया आपको आज हम उस गाँव की ख़बर बता रहे है जो जहा राज्य गठन के बाद से आज तक सड़क ही नही जा सकी आपको बता दे की कालेवन तेगना और मझगांव,के लोगों को आजतक कई सालों के बाद भी सड़क का सुख नहीं मिल पाया है। ओर ये गाँव के लोग आज भी कई किलोमीटर का रास्ता पैदल तय कर बाज़र तक पहुचते है इनका इंतज़ार अब जवाब दे चुका है ओर अब गांव के लोग सड़क की मांग को लेकर धरने पर बैठ गये हैं। आपको बता दे कि
धनोल्टी विधानसभा के अंर्तगत आने वाले कालेवन तेगना और मझगांव के लोगों को राज्य बनने के 18 साल बाद भी सड़क नसीब नहीं हो पाई है। जिसके कारण गांव के लोगों को 15-20 किमी का सफर पैदल ही तय करते है दुख इस बात का है कि इनका दर्द इनकी आवाज़ ना समय समय के टिहरी सांसदों को सुनाई दी और ना समय समय के मुख्यमंत्री को प्रशासन को तो कुछ बोलना बेकार है क्योंकि उनको पहाड़ से सरोकार ही नही पर उन नेताओं को बोलना जरूरी है जो इनके वोट बैंक से विधानसभा से लेकर संसद तक पहुचते है आपको बता दे कि इस यहा के गाँव के लोग सड़क की मांग को लेकर सभी गांवों के ग्रामीण पिछली 9 जुलाई से मरोड़ पुल पर धरने पर बैठे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि 18 साल बीत जाने के बाद भी कालेवन,तेगना और मझगांव तक सड़क नहीं पहुंची है। जिसके कारण लोगों को बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ओर बीमारी या किसी आपात कालीन हालत में तो जनता की जान तक चली जाती है पर हमारी कोई सुनने को तैयार नही फिलहाल बात सीएम के कानो तक पहुँच गई है क्योकि
धनोल्टी के पूर्व भाजपा विधायक महाबीर सिह रांगड़ और भाजपा जिलाध्यक्ष संजय नेगी ने मुख्यमंत्री से बात करके ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि एक महीने के भीतर गांवों को सड़क से जोड़ने के लिये मुख्यमंत्री जीओ जारी कर देंगे।               आश्वासन के बाद ग्रामीणों ने 7 दिन बाद धरना स्थागित कर दिया। बस अब देखना ये है कि सीएम गाँव के लोगो को सड़क का तोफा कब तक देगे यदि डबल इज़न ने गाँव वालों को सड़क का तोफ़ा जल्द दे दिया तो टिहरी मैं आज तक के बने सभी लोकसभा सांसद और क्षेत्र के स्थानीय विधायक को करारा जवाब होगा ओर एक सबसे बड़ी बात ये है कि जो संसद तक इनके वोटों से पहुचे उन्होंंने क्या किया  हम तो यही कहेेंगे की राज्य सभा  सांसद  बलूनी से सिखो

Leave a Reply