आपको बता दे कि अमृतसर विस्फोट के बाद उत्तराखंड में भी खालिस्तान समर्थकों की सक्रियता बढ़ सकती है। ख़बर है कि खुफिया तंत्र की इस आशंका के बाद देहरादून, ऊधमसिंह नगर और हरिद्वार जिले में पुलिस को सतर्कता बरतने को कहा गया है।
इसके साथ ही सोशल मीडिया पर खास फोकस रखने की सलाह देने के साथ ये बताया गया है कि उनके खिलाफ क्या और किस तरह की कार्रवाई की जाए। ओर कानूनी कार्रवाई रेंज के डीआईजी की अनुमति के बाद ही होगी।
आपको बता दे कि पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी द्वारा विधानसभा सत्र को लेकर बुलाई गई वीडियो कांफ्रेंस में खालिस्तान समर्थकों की गतिविधियों का मुद्दा खूब छाया रहा। खुफिया विभाग से जुड़े अधिकारियों ने कहा कि पंजाब के अमृतसर बम विस्फोट में खालिस्तानी समर्थकों की सक्रियता उजागर हुई है। ओर लगता ये है कि
ऐसे में देशभर में खालिस्तानी समर्थकों को सक्रिय करने की कोशिश जरूर की जाएगी। इस लिहाज से उत्तराखंड भी बेहद संवेदनशील है। पुलिस को बताया कि खालिस्तानी समर्थकों की गतिविधियों को लेकर देहरादून का डोईवाला, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर के इलाके में खास सतर्कता बरतने की जरूरत है,  खुफिया तंत्र के अधिकारियों ने पुलिस को यह टिप्स भी दिए कि किस तरह खालिस्तानी समर्थकाें पर नजर रखी जाए। वही इससे पहले भी खालिस्तानी आंदोलन को हवा देने के लिए सोशल मीडिया का प्रयोग किया गया था।
ओर अब भी सोशल मीडिया का प्रयोग होने की उम्मीद ज्यादा है। ख़बर है कि खालिस्तानी संबंधी पोस्ट डालने वालों की अनिवार्य रूप से कांउसिलिंग जरूर कराई जाएगी ओर अनुमान लगाया जा रहा है कि यह संख्या एक से लेकर दो हजार लोगों तक की हो सकती है। कांउसिलिंग के बाद उनकी सक्रियता पर विराम नहीं लगता तो संबंधित थाना पुलिस रेंज के डीआईजी से अनुमति लेकर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकती है । बहराल राज्य पुलिस सतर्क है।और हर अपडेट के साथ काम कर रही है



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here