आपको बता दे कि उतराखण्ड मै तीन साल के बच्चे का दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाले युवक को विशेष पोक्सो न्यायाधीश रमा पांडेय की अदालत ने मृत्युदंड दिया है। अदालत ने इस युवक को चार दिन पहले दोषी करार देते हुए निर्णय सुरक्षित कर लिया था। आपको बता दे कि दोषी पर अलग-अलग धाराओं में कुल 1.25 लाख रुपये जुर्माना भी लगाया गया है। वही शासकीय अधिवक्ता भरत सिंह नेगी ने बताया कि इस मामले में 12 मई 2016 को नेहरू कॉलोनी थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था।
पूरी घटनाक्रम के अनुसार लखीमपुर खिरी का एक मजदूर का परिवार नेहरू कॉलोनी में एक निर्माणाधीन भवन में काम करता था। उनके साथ ही राजेश उर्फ जितेंद्र निवासी अकरौली संभल भी काम करता था।
ख़बर थी कि जितेंद्र शराब पीने का आदि था, जिस पर तंग आकर उसके ठेकेदार ने उसे काम से हटा दिया था। वही घटना के दिन जितेंद्र चुपके से निर्माणाधीन भवन में आया और वहां खेल रहे तीन साल के बच्चे को अपने साथ छत पर ले गया।
वही उस दौरान आसपास के लोगों ने उसे आते और जाते देखा था। कुछ देर बाद जब बच्चा घर नहीं आया तो बच्चे के परिजनों ने उसे तलाशना शुरू किया। इस बीच ही बच्चे का भाई निर्माणाधीन भवन की छत पर गया तो देखा कि वह बेहोश पड़ा हुआ था। वही उसने आसपास के लोगों से पूछा तो जितेंद्र के वहां आने की बात लोगों ने कही। इस पर परिजनों ने पुलिस को सूचना दी और कुछ देर बाद जितेंद्र को गिरफ्तार कर लिया गया। आपको बता दे कि उसके खिलाफ रायपुर थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 364, 302 व 377 और 6पोक्सो अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। वही
चार्जशीट दाखिल होने के बाद अभियोजन की ओर से कुल 12 गवाह पेश किए गए। जिसके आधार पर न्यायालय ने आरोपी को दोषी करार दिया। भरत सिंह नेगी ने बताया कि दोषी को बृहस्पतिवार को अदालत ने फांसी की सजा सुनाई है।
बहराल ये सबक है उनके लिए जो अपराध करने की सोचते है लिहजा सावधान हो जाइए अब ना बचेगा कोई जो अपराध करते है।कानून दे रहा तेज़ी से सजा।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here