हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

कोरोना काल में शादियों का सीजन चल रहा है। ऐसे में अभी तक कई शादियां पीपीई किट पहनकर हुई है। पहाड़ से लेकर शहर तक लोग कोरोना काल मेंं समारोह कर रहे है। अब रामनगर में दूल्हा-दुल्हन ने कोविंड सेंटर में निकाह किया। जबकि इससे पहले दूल्हा बिना दुल्हन के लौटा तो कही दुल्हन खुद दूल्हे के घर बारात लेकर पहुंची। लेकिन रामनगर में दुल्हन खुद कोविंड सेंटर पहुंची जहां दूल्हा पहले से भर्ती था। इसके बाद मौलवी ने पीपीई किट पहनकर संपन्न करवाया। निकाह कराने में कोविड के नोडल अधिकारी ने भी सहयोग किया।

जानकारी के अनुसार रामनगर के धनुपर के नफीस अहमद की शादी सुल्तानपुर पट्टी निवासी शबनम से 27 मई को तय हुई थी। नई गाइडलाइन के चलते शादी के लिए कोरोना टेस्ट अनिवार्य कर दिया गया है ऐसे गाइडलाइन का पालन करते हुए दोनों पक्षों ने कोरोना टेस्ट कराया तो दूल्हा कोरोना पॉजिटिव निकल गया। शादी के दो दिन पहले उसे कोविंड सेंटर में भर्ती होना पड़ा। लेकिन उन्होंने शादी का इरादा नहीं बदला।

लोगों की राय के बाद दोनों ने कोविड सेंटर में हुए निकाह में परिवार का कोई भी सदस्य नहीं था। नोडल अधिकारी डा. प्रशांत कौशिक ने बताया कि शासन ने विवाह में आरटीपीसी रिपोर्ट अनिवार्य की है। बारात ले जाने से दो दिन पहले दूल्हा आरटीपीसीआर जांच में कोरोना संक्रमित पाया गया। पर युवक ने शादी को नहीं टालना चाहा। ऐसे में मौलाना ने दोनों को पीपीई किट पहनाकर निकाह की रस्म अदा कराई। इसके बाद कोरोना संक्रमित नफीस और शबनम पति-पत्नी बन गए। कोविड सेंटर में हुए निकाह में डॉक्टर और अन्य स्टाफ भी मौजूद रहा।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here