चारधाम के हक-हकूकधारियों के अधिकार तय

 

उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड में चारधाम के हक-हकूकधारियों के अधिकार तय कर दिए गए हैं।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में मंगलवार शाम मुख्यमंत्री आवास में हुई बैठक में बोर्ड की ओर से तैयार अधिकारों से संबंधित यह मसौदा रखा गया, जिसे स्वीकृति दे दी गई।
तय गया किया है कि चारधाम के पुजारियों, न्यासियों, तीर्थ पुरोहितों, पंडों और हक-हकूकधारियों को पूर्व की भांति उनके अधिकार मिलते रहेंगे।

इन्हें बोर्ड की नियमावली में शामिल किया जाएगा। इसके लिए मसौदे को पहले शासन को भेजा जाएगा।
फिर इसे नियमावली में शामिल करने के लिए चारधाम देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम में सरकार संशोधन विधेयक लाएगी।

बैठक में बोर्ड के संचालन से संबंधित विषयों पर तैयार मसौदों को भी हरी झंडी दी गई।

देवस्थानम बोर्ड के लोगो के डिजाइन पर भी बैठक में चर्चा हुई। तय हुआ कि कुछ संशोधन के बाद इस बारे में अंतिम निर्णय लिया जाएगा।
इस बैठक में बदरीनाथधाम और आसपास के स्थलों के विस्तारीकरण और सौंदर्यीकरण का निर्णय लिया गया। इसके तहत भविष्य में यात्रियों के लिए दर्शन, यातायात व ठहरने की व्यवस्था के लिए देवस्थानम बोर्ड को कदम उठाने के निर्देश दिए गए।
तय किया गया कि बोर्ड शीघ्र ही प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजेगा। बोर्ड अपने स्तर से इसके लिए तकनीकी व विषय विशेषज्ञों की व्यवस्था कर सकेगा। 

तृतीय केदार तुंगनाथ मंदिर और सभामंडप के जीर्णोद्धार पर भी सहमति बनी।
बताया गया कि इसके लिए अमेरिका के पंकज कुमार ने धनराशि व्यय करने की इच्छा जताई है।
ईशानेश्वर मंदिर का नवनिर्माणकेदारनाथ स्थित ईशानेश्वर मंदिर के नवनिर्माण और केदारनाथ मंदिर के पूरब द्वार की मरम्मत पर भी बैठक में सहमति बनी।
इन कार्यों के लिए मुंबई के मनोज सोलंकी और हरियाणा के यतिन घई ने सहयोग देने पर सहमति दी है। केदारनाथ में रावल, पुजारी आदि के कक्षों की मरम्मत, भविष्य में ऊखीमठ मंदिर के जीर्णोद्धार, बहुमूल्य पांडुलिपियों के डिजिटलाइजेशन, बिंदेश्वर महादेव थलीसैंण का जीर्णोद्धार, कार्तिक स्वामी मंदिर को बोर्ड के अधीन लाने संबंधी निर्णय भी बैठक में लिए गए।

मुख्यमंत्री और बोर्ड के अध्यक्ष त्रिवेंद्र सिंह रावत ने यात्रा मार्गों के साथ ही मंदिर परिसरों में देवस्थानम बोर्ड के साइनेज, होर्डिंग लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने बदरीनाथ, केदारनाथ मंदिरों के पुजारियों, पंडों, पुरोहितों, वाद्ययंत्र वादकों का विवरण तैयार करने को भी कहा, ताकि जरूरत पड़ने पर इन्हें आर्थिक सहायता दी जा सके।चारधाम में 1.72 लाख ने किए दर्शनबोर्ड के सीईओ रविनाथ रमन ने बैठक में बताया कि चारधाम में 25 अक्टूबर तक 1.72 यात्रियों ने दर्शन किए। दो लाख ने पंजीकरण कराया है। इस साल अब तक बदरीनाथ मंदिर को 7.55 करोड़ और केदारनाथ मंदिर को 75 लाख की आय हुई है। बैठक में बोर्ड के उपाध्यक्ष पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, विधायक महेंद्र भट्ट, गोपाल रावत आदि भी मौजूद थे।





LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here