शर्मनाक !सहकर्मी टीचर को पहले भेजे गए अश्लील मैसेज, ओर फिर दे डाला ऐसा ऑफर जिसे पढ़कर उफ़ , मामला चौकी तक जा पहुँचा!

ख़बर है कि देवभूमि मे सहकर्मी टीचर को पहले भेजे गए अश्लील मैसेज, ओर फिर दे डाला ऐसा ऑफर जिसे पढ़कर पैरों तले खिसक जायेगी जमीन

आपको बता दे कि जानकारी अनुसार सहकर्मी टीचर के साथ आपत्तिजनक चैटिंग करने के मामले में एक बार माफी मांग चुके उनके बड़े टीचर को दोबारा ऐसी ही गलती करनी भारी पड़ गई। जानकारी अनुसार प्राध्यापिका ने प्राध्यापक की ओर से व्हाट्सएप पर भेजे गए आपत्तिजनक मैसेज के स्क्रीन शॉट पुलिस को सौंपकर कार्रवाई की मांग की है। ओर अब पुलिस मामले की जांच कर रही है।

आपको बता दे कि मेरठ निवासी एक वरिष्ठ टीचर यहां के एक महाविद्यालय में विभागाध्यक्ष है। आपको बता दे कि पीछले वर्ष एक प्राध्यापिका की दैनिक कर्मी के रूप में नियुक्ति हुई है। ओर वह अविवाहित हैं। दोनों के बीच पहचान होने पर उन्होंने एक-दूसरे को अपना अपना फोन नंबर दे दिया या ले लिया।

बस इसके बाद प्राध्यापक ने मैडम को उसके व्हाट्सएप नम्बर पर पहले सामान्य मैसेज भेजने शुरू कर दिए। साथ ही वो मैडम से मिलने की जिद करने लगा। कई बार उसने मैडम को लंच और कॉफी के लिए भी ऑफर किया।

आपको बता दे कि मना करने पर प्राध्यापक ने एकतरफा प्रेम का इजहार करते हुए मैडम को आपत्तिजनक मैसेज भेजने शुरू कर दिए। इतना ही नहीं उसने प्राध्यापिका को कुछ ही मिनटों में एक दर्जन से अधिक कॉल भी किए।
ओर कॉल रिसीव करने के लिए दिया पांच सौ रुपये देने का ऑफर ग़जब है ना !
कॉल रिसीव न करने पर या विरोध करने पर प्राध्यापक ने अपने व्हाट्सएप की डीपी पर मैडम का फोटो अपलोड कर दिया। यह सार्वजनिक होने पर मैडम ने महाविद्यालय की तत्कालीन प्राचार्या से भी शिकायत की।
उस दौरान मामले में कार्रवाई होने के डर से बीते सितंबर में प्राध्यापक ने मैडम से लिखित में माफी मांगी। इस घटना के कुछ दिनों बाद ही उक्त प्राध्यापक ने फिर से मैडम को आपत्तिजनक मैसेज भेजने शुरू कर दिए। इस दौरान वो मैडम साक्ष्य एकत्र करतीं रहीं। रविवार को मैडम ने आईटीआई थाने पहुंचकर प्राध्यापक के खिलाफ शिकायत करते हुए भेजे गए मैसेज के स्क्रीन शॉट भी पुलिस को दिए।
आपको बता दे कि जानकारी अनुसार एसआई वैष्णवी असवाल ने प्राध्यापक को थाने में तलब कर खूब लताड़ा। ओर महिला दरोगा ने मामला आपस में नहीं निपटने पर कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। ख़बर लिखे जाने तक मामले में रिपोर्ट दर्ज नहीं हो सकी है। इधर, थाना प्रभारी कुलदीप अधिकारी ने बताया कि मामले की जांच एसआई वैष्णवी कर रहीं हैं। जांच के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।
क्या क्या हो रहा है उतराखंड मे जिसे देखकर, सुनकर, बोलता उत्तराखंड खुद ये सोच रहा है कि इससे अच्छा तो उत्तरप्रदेश ही था कम से कम देवभूमि शर्मसार तो नही होती ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here