उत्तराखंड में आगामी 11 तारीख को लोकसभा के चुनाव होने हैं जिसकी तैयारियों में भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दल पूरी तरह से जुट चुके हैं ताबड़तोड़ बैठकों का सिलसिला भाजपा से लेकर कांग्रेस में जारी है तो वही दोनों ही राजनीतिक पार्टियों को इंतजार हैं कि पहले कौन अपने प्रत्याशियों के नामों का एलान करता है माना जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी 18 तारीख तक अपने पांचों लोकसभा सीट के प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर देगी तो वही खबर यह है कि राहुल गांधी की रैली के बाद देर शाम तक कांग्रेस महज 3 लोकसभा सीटों पर अपने प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर सकती है,जबकी 2 सीटों पर प्रत्याशियों के नामों का ऐलान भाजपा के पांचों लोकसभा से प्रत्याशियों के नामों के बाद किया जाएगा ऐसा इसलिए माना जा रहा है कि जो सूत्र बोलते हैं कि कांग्रेस भाजपा के घर में सर्जिकल स्ट्राइक करना चाहती है यदि भाजपा से जो टिकट की दौड़ में हो और उसकी छवि अछी हो ओर पूरी लोकसभा सीट मै वो मजबूत हो मगर भाजपा अगर उसे टिकट नहीं देती है किसी और को मैदान में खड़ा कर देती है तो कांग्रेसी भाजपा के घर में सर्जिकल स्ट्राइक कर उसको कांग्रेस उसी लोकसभा सीट से टिकट देने की कोशिश करेगी ।
माना ये भी जा रहा है कि भाजपा के पास सभी मजबूत चेहरे है और एक सीट पर दो से तीन मजबूत चेहरा है अब ऐसे में अगर बात करें तो कांग्रेस के पास सिर्फ हरीश रावत , प्रीतम सिंह के अलावा मजबूत चेहरा पार्टी में दिखाई नहीं देता
आपको बता दे इससे पहले कांग्रेस से लोकसभा के चुनाव मैदान में कूदने से लेकर हर मोर्चे पर विजय बहुगुणा , यशपाल आर्य, हरक सिंह रावत, सुबोध उनियाल, सतपाल महाराज , साकेत बहुगुणा, जैसे नेता कमान सभालते थे पर अब ये सब नेता पिछले 2 साल पहले ही दल बदलकर चुनाव जीतकर भाजपा की सरकार मै मंत्री है किसी जमाने मे ये सब कांग्रेस की पहली लाइन के नेता हुवा करते थे
जब से ही इन नेताओं ने कांग्रेस को छोड़ा है तब से कांग्रेस की पहली पंक्ति की लाइन के दिग्गज नेता कम हो गए हैं जिसकी कमी कांग्रेस को इस लोकसभा चुनाव में खलती भी दिखाई दे रही है खबरों में सिलसिला यही रुकने का नाम नहीं ले रहा है माना जा रहा है कि कल पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद खंडूरी के पुत्र मनीष खंडूरी राहुल गांधी की रैली में कांग्रेस का दामन थाम लेंगे वहीं खबर यह भी है कि भाजपा के एक सांसद ने कांग्रेस से संपर्क साधा है और उत्तराखंड के एक पोट्रल समाचार के अनुसार ये वही सांसद है जिसने जर्नल खडूडी को हरवाया, सीएम त्रिवेन्द्र का टिकट कटवाया ओर ये सांसद को अब अपना टिकट कटने का डर सता रहा है इसलिए इस भाजपा के सासंद ने कांग्रेस से संपर्क साधा है उत्तराखंड का एक पोर्टल इस ख़बर को लिख रहा है यही नही उस पोट्रल ने ये भी लिखा है कि ये सांसद सीएम त्रिवेंद्र रावत के धुर विरोधी माने जाते है और इन्होंने ही डोईवाला से त्रिवेंद्र का टिकट कटवाया था फिर त्रिवेंद्र को रायपुर से चुनाव लड़ना पड़ा और जैसे खडूडी को हरवाया वैसे ही त्रिवेंद्र को भी हरवाया था।
बहराल बोलता उत्तराखंड इस ख़बर की पुष्टि नही करता ये ख़बर उत्तराखंड क्व पोट्रल मै वायरल हो रही है
ओर यदि इस बीच किसी भाजपा के सांसद ने अपना बयान दिया तो उसे छापा जाएगा ।हमने भाजपा के कही सांसदों से फोन पर बात करते हुए पूछा कि कोन कांग्रेस के संपर्क मे है और कौन भाजपा से कांग्रेस में जा रहा है तो सबने यही कहा कि सब अफवाहे उड़ाई जा रही है फ़र्ज़ी बाते है
यही नही बोलता उत्तराखंड ने जब ये पूछा कि वो कोन सांसद है जिसने खडूडी ओर त्रिवेंद्र को हरवाया था तो इस पर भी यहीं जवाब मिला है कि ये सब कांग्रेस की तरफ से माहौल खराब करने के लिए फ़र्ज़ी बाते उड़ाई जा रही है आप सब इन बातों पर धयान ना दे
बहराल सबके अपने दांव पेंच है और कोई भी राजनीतिक व्यक्ति जल्दी से मीडिया के आगे सच बया नही करता बस इतना ही कहेंगे कि जब तक टिकट फाइनल भाजपा और कांग्रेस दोनों में ही नही होते तब तक ये अफवाएं उड़ती रहेगी।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here