सिडकुल घोटाले में एसआइटी खंगाल रही इन अफसरों की कुंडली

बैकडोर से चहेतों को नियुक्ति दिलाने, नियुक्ति पाने वालों की भी बनाई जा रही सूची

देहरादून। सिडकुल भूमि घोटाले का जिन्न बोतल से बाहर निकलने के बाद इस घोटाले में शामिल रहे लोगों पर फंसदा कसना शुरू हो गया है। भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टाॅलरेंस का बिगुल बजा चुकी सरकार ने इस घोटाले के खिलाफ एसआइटी जांच के आदेश दिये हैं। जिसके बाद सिडकुल घोटाले में संलिप्त अफसरों पर शिकंजा कसना शुरू हो गया है। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक एसआइटी ने 2012 से 2017 के बीच सिडकुल में तैनात रहे आइएएस और पीसीएस अफसरों की सूची बनाने का काम शुरू कर दिया है। किस अफसर के पास क्या दायित्व और अधिकार थे, इसको जांच में शामिल किया जा रहा है। इसी के आधार पर जांच को आगे बढ़ाया जाएगा।
सरकार ने सिडकुल में वर्ष 2012 से मार्च 2017 तक हुए करोड़ों रुपये के निर्माण कार्य, भूखंड आवंटन, नियुक्तियां और खरीद-फरोख्त की जांच एसआइटी को सौंपी है। एसआइटी ने बैठक कर एक-दूसरे के क्षेत्र में आने वाले प्रकरणों पर जांच रिपोर्ट तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी। सूत्रों का कहना है कि इसी रणनीति के तहत एसआइटी सिडकुल में तैनात रहे आइएएस, पीसीएस और दूसरे अधिकारियों की सूची तैयार कर रही है। खासकर घोटाले में सीधे तौर पर संलिप्त अफसरों से एसआइटी पूछताछ भी कर सकती है। इसके अलावा बैकडोर से चहेतों को नियुक्ति दिलाने, नियुक्ति पाने वालों की भी अलग से सूची बनाई जा रही है। वेतन निर्धारण करने वाली कमेटी के नियम और इससे खर्च बजट भी जांच में शामिल किया गया है। जांच कमेटी ने सिडकुल के यूपी निर्माण निगम से जुड़े कार्यों की भी डिटेल खंगालनी शुरू कर दी है। एसआइटी प्रभारी आइजी अजय रौतेला का कहना है कि अभी जांच शुरूआती चरण में है। सूचनाएं एकत्र होने के बाद कुछ कहा जा सकेगा।




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here