उत्तराखंड में कोरोना मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है
खास कर देहरादून से लेकर हरिद्वार ओर उधम सिंह नगर मे कोरोना का तांडव जारी है
सूत्रों की माने तो अब देहरादून के सरकारी अस्पताल में बेड भर चुके है और वे कोरोना के मरीजों को गेट से ही लोटा रहे है
पर ऐसे में आज
कोरोना से परेशान मरीजों के लिए सुखद ख़बर ये है कि
उत्तराखंड के प्रसिद्ध
श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में अलग बिल्डिंग में कोविड-19 मरीजों के लिए 120 बैड आरक्षित किये गए है

इसके साथ ही अस्पताल को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार, आईसीएमआर से कोविड सैंपल जाॅच करने की अनुमति मिल चुकी है।

ओर अब श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में ही मिलेगी कोरोना जाॅच की रिपोर्ट ( एक बड़ी राहत मिली है )

ओर कल से ओपीडी व भर्ती मरीजों के लिए शुरू होने जा रही है सैंपलिंग की व्यवस्था, जिसके बाद लगभग 10 घण्टे में लैब से रिपोर्ट मिलेगी ।
राहत की बात ये है कि
श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में कोविड-19 मरीजों के उपचार के लिए 120 बैड आरक्षित किये गए है

ओर 100 बैड जनरल व आक्सीजन की आवश्यकता वाले मरीजों के लिए हैं
तो 20 आईसीयू बैड अति गम्भीर रोगियों के लिए आरक्षित हैं।

अब श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल कोविड सैंपलों की जाॅच भी स्वयं मंगलवार से करने जा रहा है
ओर ओपीडी व भर्ती मरीजों को श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल से ही कोविड सैंपल की जाॅच रिपार्ट उपलब्ध हो जाएगी।

गाईडलाइन के अनुसार प्राईवेट लैब में कोविड-19 जाॅच सैंपल की दर 2,400/- रुपये चोबीस सौ रुपये निर्धारित की गई है।

बता दे कि यह जानकरी श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डाॅ विनय राय ने दी।

वही डाॅ विनय राय ने जानकारी दी कि कोरोना मरीजों के लिए अलब बिल्डिंग में कोविड रोगियों के लिए उपचार की व्यवस्था की गई है। दून अस्पताल में बैड फुल हो जाने के बाद अधिकांश कोरोना पाॅजीटिव मरीजों को दून अस्पताल से श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल रैफर किया जा रहा है। इसके अलावा अन्य प्राईवेट अस्पतालों व मेडिकल काॅलेजों से भी रैफर होकर आने वाले मरीजो के लिए अस्पताल में सभी आवश्यक सुविधाएं चाक चोबंद की गई हैं।
वही श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल की इमरजेंसी, रेस्पीरेट्री, आईसीयू व कोरोना वार्ड्स स्टाफ को हाई अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश जारी किए गए हैं।
श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के नोडल अधिकारी डाॅ जगदीश रावत ने बताया कि कोरेना पाॅजीटिव मरीजों के उपचार के लिए जनरल व आईसीयू वाडर्स में अलग अलग टीमें तैनात की गई हैं। अस्पताल में कोविड पाॅजिटिव मरीजों के रिकवरी का रेट 95 प्रतिशत है। कई पाॅजिटिव मरीज़ ठीक होकर डिस्चार्ज हो रहे हैं।

महत्वपूर्ण जानकारी
नाॅन कोविड के लिए अलग व्यवस्था
श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में कोविड-19 मरीजों व नाॅन कोविड मरीजों के उपचार के लिए अलग अलग व्यवस्था की गई है। कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए हर सम्भव प्रयास अस्पताल प्रशासन द्वारा किये गए हैं। नाॅन कोविड मरीजों को जनरल व सुपर स्पेशलिटी की सभी सुविधाएं सामान्य दिनों की भांति उपलब्ध करवाई जा रही हैं।
न्यूरो, काॅर्डियोलाॅजी, यूरोलाॅजी, प्लास्टिक सर्जरी, पीडियाट्रिक सर्जरी, ब्रेस्ट एण्ड एण्डोक्राइन सर्जरी, कैथ लैब एवम् सीटीवीएस, नैफ्रोलाॅजी, डायलसिस, आईसीयू की सुविधाएं पूर्ण रूप से उपलब्ध करवाए जा रहे हैं।
ये भी जान ले

श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के वरिष्ठ
अधिकारियों की  बैठक में लिये गये महत्वपूर्ण फैसले
सोमवार को श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारियों ने बैठक कर कोविड-19 के मद्देनज़र अहम फैसले लिए। कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए अस्पताल के डाॅक्टरों, नर्सिंग स्टाफ व अन्य सहायक स्टाफ की छुट्टी पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई है।
वीआईपी व वीवीआईवी मरीजों के लिए प्राईवेट कमरे आरक्षित कर दिए गए हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here