निर्धारित तिथियों पर ही खुलेगें चारों धामों के कपाट : श्री आचार्य ममगाईं जी

 


जो तिथियाँ निर्धारित की गयी हैं उन्ही तिथियों पर चारों धामों के कपाट खुलेंगे ।
जी हा चार धाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष श्री आचार्य शिव प्रसाद ममगाई जी ने मीडिया को बताया कि पूरे देश से श्रद्धालुओं के फोन लगातार आ रहे हैं जिनके कुछ तीर्थ पुरोहितों से भी सम्पर्क हुए आपको बता दे कि जो तिथियाँ निर्धारित की गयी उन्हीं पर चारो धाम के कपाट खुलने जा रहे है।

श्री आचार्य शिवप्रसाद ममगाई जी ने बताया कि अभी कोरोना महामारी को देखते हुए 14 तारीख तक यही निर्णय है ।
बाकी आगे स्थितियों को देखते हुए अन्य लोगों को प्रवेश दिया जायेगा लेकिन मुख्य सचिव उत्पल कुमार से उनकी वार्ता हुई है जिसके बाद तय किया गया है कि विधि व्यवस्था पूर्ववत पूजा पद्धति के हिसाब से जैसे यमनोत्री , गंगोत्री , केदारनाथ, बदरीनाथ में परम्पराओं के अनुसार सभी पूजायें होंगी । उन्होंने कहा कि मुख्य पुजारी रावल बेदपाठी पूजा में रहेंगे कोरोनावायरस को देखते हुए ही आगे का निर्णय लिया जायेगा लेकिन फिलहाल पूजा व्यवस्था का ही विचार है जैसे चारधाम समिति के द्वारा हनुमान चालीसा
श्री महंत कृष्ण गिरी महाराज , मनोहर लाल जुयाल ,श्याम सुन्दर गोयल आदियों के द्वारा किया जाता है वह व्यवस्था इस साल भी चारधाम नें की है परन्तु संक्रमण के चलते होना सम्भव नहीं फिर भी सभी जगह ऋषिकेश में गाडू घड़ा का या अन्य रास्तों का उत्सव हो देखकर ही निर्णय लिया जायेगा। अभी सादगी से ही गाडू घड़ा यात्रा ,डोरी यात्रा कम भीड़ के साथ होंगी ।


श्री आचार्य ममगाई जी ने यह भी बताया कि अभी सिर्फ पूजा के लिए ही कपाट खोलने का निर्णय है। उत्तराखंड में इस महीने से चार धाम के कपाट अपने निर्धारित समय पर ही खुलेगे ।
चार धाम के कपाट खुलने की जो तिथि पूर्व निश्चित कर दी गई थी उसी तिथि पर चार धामो के कपाट खोल दिए जाएंगे
साथ ही जिन पुजारी जी की आवश्यकता होगी वही चारों धामों में वही के लोग वहां पर रहेंगे और आगे कोरोनावायरस को देखते हुए यात्रियों सूचित कर दिया जाएगा इसके साथ ही सरकार से जो भी दिशा निर्देश समय समय पर मिलते रहेंगे उसका पालन कराया जाएगा
लेकिन इस समय भी हमारी परंपरा पूर्वत की तरह ही बनी रहेगी

फिलहाल कोरोना वायरस को के चलते सरकार की मंशा ज्यादा भीड़भाड़ करने की नहीं है लिहाजा जो लोग मंदिर से जुड़े हुए हैं वही साधारण पूजा पाठ करते रहेंगे समय-समय पर सरकार द्वारा जो दिशा निर्देश दिए जाएंगे उसकी सूचना श्रद्धालुओं को दे दी जाएगी

श्री गगोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया 26 अप्रैल दिन में 12 बजकर 35 मिनट पर खुलेंगे।
इसी तरह श्री यमुनोत्री धाम के कपाट 26 अप्रैल को ही दोपहर 12 बजकर 41 मिनट में खुलेंगे।
फिर श्री केदारनाथ मंदिर के कपाट 29 अप्रैल को प्रात:  6 बजकर 10 मिनट पर खुल रहे हैं।
जबकि, श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 30 अप्रैल प्रात: 4 बजकर 30 मिनट पर खुलेंगे।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here