सरकार यहां सड़क पहुँचा दो ,गांव वाले परेशान हैं

 

  1. सरकार यहां सड़क पहुंचा दो, गांव वाले परेशान हैं !
    प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत गैरसैण में मौजूद हैं और पूरी सरकार भी गैरसैण में मौजूद है। राज्य में एक साल के भीतर भाजपा ने क्या कुछ खास किया वो सरकार उत्तराखंड की जनता को अपने एक साल के कार्यकाल के पूर्ण होने के कार्यक्रम में बता चुकी है। तो वहीं विपक्ष ने भी सरकार के एक साल के कामकाज पर सवालिया निशान खड़े किये हैं। सरकार ने कहा है की हम गांव-गांव को सड़को से जोड़ेंगे, तो हम सरकार को बता रहे हैं की सीमांत विकास खंड जोशीमठ का आज बुरा हाल है, जहां सरकारी स्कुलों में बच्चों की संख्या हर वर्ष घट रही है, वहीं स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया नहीं हैं। भले ही त्रिवेंद्र रावत की सरकार के दौरान पहाड़, मैदान में लगभग एक हज़ार डॉक्टर्स की तैनाती हुई हो लेकिन ये भी अभी सिर्फ 10 प्रतिशत ही है। सड़कें ज़रूर स्वीकृत हुई हैं पर उन पर काम पूरा नहीं हुआ है। .                                           जोशीमठ के नीति घाटी के गांव सड़कों के ना होने से दिनो-दिन खाली हो रहे हैं। यहां की सुखी,तोलमा,रिंगी, लाता आदि गांवो की योजना सिर्फ फाइलों में पास हुई है, असल धरातल पर नहीं। सरकारों ने सड़कों के जाल बिछाने की घोषणाएं तो की लेकिन आज तक काम नहीं हो पाया। कुछ गांवो की स्थिति तो इतनी खराब है की पैदल जाने के रास्तों पर भी डर लगता है।                                   वहीं लोग मजबूरन बाज़ार से पीठ पर बोझा लेकर गांव वापस जाते हैं। अब गांव वालो ने बड़ी चेतावनी देते हुए कहा है की जल्द इस पर कार्य नहीं किया गया तो वह एक बड़े आंदोलन की ओर बढ़ सकते हैं। सरकार को चेताते हुए गांव वालो ने कहा की एक साल पूरे होने पर कार्य में भी सरकार तेज़ी लाए और जल्द से जल्द गांवो को सड़कों से जोड़ा जाए
    – नितिन सेमवाल की रिपोर्ट

2 COMMENTS

  1. भाई साहब जोशीमठ तहसील में अन्य भी बहुत सारे गाँव यथा किमाणा पल्ला डुमक कलगोठ लाँजी पोखनी आदि लोग १० से २५ किमी तक पैदल चलने के लिए मजबूर हैं। कृपया आज भी बड़ी आबादी मीलों पैदल चलने के लिए मजबूर हैं।
    बन्दे मातरम्

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here