कब तक हम अपने घरों के चिराग को बुझतें देखेंगे।
ये सड़क हादसे है कि कम होने का नाम नही लेते।
नोजवान तुम्हारी लापरवाही बोलू या समय का कालचक्र।
जो भी बात हो परिवार तो तुम्हारा
तुम्हारे अपने खून के आंसू आज रो रहे हैं तुम्हारे जाने का गम जिंदगी भर का उनके लिए दर्द है।
कल भी देर रात उत्तराखंड के भगवानपुर से इमलीखेड़ा लौटते समय बाइक सवार दो छात्रों की सड़क हादसे में मौत हो गई दुःखद है बताया जा रहा है कि छात्रों की बाइक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे खड़े ट्रक से जा टकराई। जिसके बाद हादसे में दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। ओर अस्पताल ले जाते समय रास्ते में दोनों ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद दोनों के शव को परिजनों को सौंप दिए थे
परिवार मैं मचे कोहराम, चीख पुकार ने सबकी आंखे रो रो कर लाल कर दी। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, शिवपाल सिंह सैनी महज 21 साल पुत्र ऋषिपाल निवासी हुसैनपुर, थाना मंडावर, बिजनौर और रोहित सिंह राणा महज 22 साल पुत्र धर्म सिंह राणा निवासी खटीमा इमलीखेड़ा के फोनिक्स कॉलेज में बीटेक के छात्र थे। ओर इमलीखेड़ा में दोनों किराये पर कमरा लेकर रहते थे।
जानकारी है कि शुक्रवार को दोनों बाइक से भगवानपुर क्षेत्र में आए थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, दोनों बाइक से शुक्रवार रात लगभग दस बजे इमलीखेड़ा लौट रहे थे। जैसे ही वे सोलानी नदी के पास पहुंचे तो बाइक अनियंत्रित होकर सड़क किनारे खड़े ट्रक से जा टकराई। पुलिस घायल छात्रों को भगवानपुर के सरकारी अस्पताल ले गई, लेकिन डॉक्टरों ने उनकी हालत नाजुक देख रुड़की रेफर कर दिया। पुलिस दोनों को लेकर रुड़की पहुंची, लेकिन सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
वही थानाध्यक्ष संजीव थपलियाल ने मीडिया को बताया कि बाइक सवार दोनों छात्रों में से किसी ने भी हेलमेट नहीं पहना था। घटना के दौरान मौके पर पहुंचे राहगीरों का कहना था कि अगर छात्रों ने हेलमेट पहना होता तो शायद आज जिंदा होते। वहीं, थानाध्यक्ष ने लोगों से अपील की है कि दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट का प्रयोग जरूर करें। चालान से बचने के लिए नहीं बल्कि हेलमेट आपकी जिंदगी बचाने के लिए जरूरी है। बोलता उत्तराखंड कही बार आप लोगो से हाथ जोड़कर कह चुका है फिर कह रहा है कि अपनो को बिन हेलमेट बाइक कभी ना चलाने दे।
ओर जो बिन हेलमेट बाइक चलाते है वे सबक ले।
कि हमारे अपने घर पर इंतज़ार कर रहे है हमारा।
🙏🙏
ख़बर दार ये बिल्कुक भी मत सोचना , बोलना कि हम तो बिन ड्रिंक गाड़ी चलाते है, 30 से 40 की रफ्तार पर चलाते है । ये सब उनके साथ होता है जो तेज़ गाड़ी चलाते है।
उनके साथ होता है जो ड्रिंक करके गाड़ी चलाते है।
जी नही उनके साथ तो जो है वो है ही वो तो जिंदगी हाथ मे लेकर चल रहे है।
पर आप ये समझ लेना कि आप तो बिन पी कर , ओर गाड़ी भी हल्की चलाने वाले हो पर।
पर क्या आपको पता है कि आपके ठीक आगे से या पीछे से आने वाली गाड़ी को चलाने वाले क्या ठीक तरह से गाड़ी चलाते हुए आ रहे है ?
बस यही समझने की ज़रूरत है ।ओर  हैलमेट पहनने की
जो समझ गया जनहित मैं इस ख़बर को शेयर करे।
एक माँ, एक बहन, एक भाई, एक बहु, एक बेटी, एक जवाई, एक दामाद, चाचा , ताऊ, साली , ओर भी कही रिश्ते है और जब ये ख़बर खूब शेयर होगी।
जनहित के लिए तो ये रिश्ता मानवता का कहलाता है।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here