लो जी अब कांग्रेस के लिए “खंडूड़ी ” हो गए जरूरी ! ओर एक खंडूड़ी दूसरे खंडूड़ी के लिए नही मांगेगा वोट !

3284

उत्तराखंड में कांग्रेस हाईकमान क्या ये मान रहा है कि उनके पास उत्तराखंड में मजबूत चेहरे नही है लोकसभा चुनाव मे बजाय भाजपा के ! अगर एक हरीश रावत को छोड़ कर बात करे ओर दूसरे प्रीतम सिंह को तो कांग्रेस के पास उत्तराखंड में फिर दूसरी लाइन के नेता लोकसभा टिकट पाने के लिए लाइन मे है।


पाँचो लोकसभा सीट मे अब मजबूत चेहेर कांग्रेस में ये बहुत बड़ी समस्या बन गई है।क्योंकि अधिकांश बड़े नेता इसी मार्च के महीने में 2 साल पहले बीजेपी में चले गए थे ।
क्या ये माना जाए कि राहुल गांधी सूबे की पांच लोकसभा सीटों में दमदार प्रत्याशी खोजे रहे है ।मजबूत से मतलब जिताऊ चेहरे से है ।
कही ये ना हो कि ऐसे में जिताऊ उम्मीदवारों की खोज कांग्रेस को ओर भारी न पड़ जाए ।
आपको बता दे कि उड़ती उड़ती खबर है कि पूर्व सीएम और पौड़ी से मौजूदा सांसद मेजर जनरल (रि.) बीसी खण्डूड़ी के पुत्र मनीष खण्डूड़ी कांग्रेस में जल्द शामिल होने जा रहे हैं । माना जा रहा है कि उनकी राहुल गांधी से मित्रता है और अब इसके चलते कांग्रेस उनको पौड़ी लोकसभा से टिकट भी दे सकती है!
आपको बता दे कि पौड़ी सीट से बीजेपी के वर्तमान सांसद खडूडी जी का स्वास्थ्य खराब है इस कारण जर्नल चुनाव नही लड़ रहै है
वही क्या कांग्रेस हाईकमान को ये लग रहा है कि अगर वे मनीष खंडूड़ी को पौड़ी सीट से टिकट दे दे तो भुवन चन्द्र खंडूड़ी के नाम और काम का फायदा उनके बेटे को मिल जाए और एक पूर्व फौजी का बेटा होने के नाते पूर्व फौजियों के वोट भी मिल जाएं और कांग्रेस भाजपा से इस सीट को छीनने मै कामयाब हो जाये ।स्याद यही सोचा जा रहा है या। कांग्रेस ये उदाहरण देश के आगे रखना चाह रही है की देश के जाने माने युवा कांग्रेस को पसंद कर रहे है और कांग्रेस में शामिल हो रहे है ताकि युवा वोटरों को लुभाया जा सकें।
हम आपको बताते है कि अगर उत्तराखंड कांग्रेस या उनका हाई कमान मनीष खंडूड़ी को कांग्रेस में शामिल कर पौड़ी से चुनाव लड़वाती है तो
पौड़ी सीट से सालो से दावेदारी करने वाले कांग्रेसी नेता ये बर्दाश्त कर लेंगे ये मुश्किल है ।

सभी जानते है कि फिर वो सभी नाम अपने ही प्रत्याशी’को हराने में कोई कसर बाकी नहीं रखेंगे। मतलब भीतरघात से है सर
पूर्व मंत्री राजेंद्र भंडारी और पूर्व विधायक गणेश गोदियाल , सुरेन्द्र नेगी, घिरेंद्र प्रताप, भी टिकट की दौड़ में है ।
अब ये समझ नही आ रहा है कि अगर मान ले कि मनीष खडूडी ने कांग्रेस ज्वाइन कर ली और पौड़ी लोकसभा से टिकट उनको मिल गया तो क्या वे सिर्फ खंडूरी के नाम पर ही वोट मिलने का या जितने का सोच रहे है ! तो ये सबसे बड़ी भूल होगी जब जनता खडूडी है जरूरी को ही कोटद्वार मैं चुनाव हरा चुकी हो ।
पौड़ी लोकसभा सीट को अब भाजपा का गढ़ माना जाता है । ओर इस सीट पर पूर्व सैनिकों का बोल बाला है इसलिए उम्मीद है कि भाजपा भी पौड़ी लोकसभा सीट से किसी अन्य सैन्य पृष्ठभूमि वाले नेता को ही टिकट देगी क्योंकि पौड़ी सीट में पूर्व सैनिक वोट निर्णायक हैं और वे अक्सर पूर्व फौजी को ही वोट करते आए हैं, वो चाहे 5 बार के सांसद खण्डूड़ी हों या टीपीएस रावत। इसलिए या तो बीजेपी कर्नल कोठियाल को टिकट दे सकती है

या फिर किसी अन्य पूर्व फौजी अफसर को । जो होगा तो पौड़ी से लेकिन फ़िलहाल दिल्ली या कहीं और बसा गया हो। जैसे एडमिरल राणा । बहराल भाजपा किसे टिकट देगी ओर कांग्रेस किसे ये सब तो दिल्ली मे लगभग तय ही हो चुका होगा बस अभी माहौल को देखा जा रहा है ।
पर ये बात अगर सच साबित हो गई कि हमारे राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जरनल खडूडी के बेटे मनीष खंडूड़ी ने कांग्रेस का हाथ थामा ओर पौड़ी लोकसभा सीट से वो मैदान मे हुए तो सयोग देखिए अपने बेटे के लिए खंडूड़ी नही माग सकते जनता से वोट , नही माग सकती ऋतु खडूडी अपने भाई के लिए वोट।
क्योकि वो भाजपा के नेता है और उसी के लिए वोट मागगे जिसे भाजपा पौड़ी लोकसभा से मैदान में उतारेगी।
ये राजनिति है इसमें कब कहा पर क्या सयोग बन जाये क्या हो जाये क्या बिगड़ जाए कोई नही जानता ।बस अभी जो सूत्र बोल रहे है उत्तराखंड के लिहाज से वो ये है कि पौड़ी लोकसभा के हिसाब से बोल रहे है वो यही है कि अगर कांग्रेस ने मनीष खंडूड़ी को पौड़ी लोकसभा से उतारा तो ये उसका सबसे बड़ा जोखिम होगा फायदा नही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here