हमारे व्हॉट्सपप् ग्रुप से जुड़िये

कोरोनावायरस को लेकर देश में जंग जारी है और इससे छुटकारा पाने के लिए हर संभव कोशिश की भी जा रही है लेकिन बड़ी संख्या में इन 2 सालों में हम अपने कई करीबियों को खो चुके हैं लाखों लोग इस कोरोनावायरस की चपेट में आकर अपनी जान गवा चुके हैं ऐसे में उन तमाम लोगों को याद करते हुए देश के प्रधानमंत्री आज भावुक हो गए अपने एक बयान में वह जब कोरोना संक्रमण से हुई मौतों के बारे में” बोले तो उनका गला भर आया । बात पूरी करते-करते ऐसा लगा जैसे उनकी आंखें नम है उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस ने हमारे कई अपनों को हमसे छीना है। मैं उन सभी लोगों को अपनी श्रद्धांजलि देता हूं, उनके परिजनों के प्रति सांत्वना व्यक्त करता हूं।”

दरअसल पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना काल में वाराणसी के चिकित्सकों से बातचीत की है। वाराणसी में प्रधानमंत्री ने कोरोना प्रबंधन को लेकर सीएम योगी और प्रशासनिक अफसरों की तारीफ की है। पीएम इस बातचीत के दौरान भावुक हो गए और उन्होंने कोरोना के कारण जान गंवाने वाले लोगों को श्रद्धांजलि दी। चिकित्सकों को श्रद्धांजलि देते वक्त पीएम के आंसू छलक गए और उन्होंने कहा कि चिकित्सकों का योगदान सराहनीय है।
प्रधानमंत्री ने वाराणसी में ब्रिगेडियर एस बवेजा (डीआरडीओ अस्पताल, प्रमुख, वाराणसी), प्रोफेसर के के गुप्ता (मेडिकल सुपरिटेंडेंट, BHU अस्पताल),डॉ. प्रसन्न कुमार (मंडलीय चिकित्सा अधीक्षक, मंडलीय अस्पताल) और डॉ. असीम मिश्रा (चिकित्सा अधीक्षक, होमी भाभा अस्पताल, वाराणसी) से बातचीत की। इस बातचीत में पीएम ने कहा, ‘इस वायरस ने हमारे कई अपनों को हमसे छीना है। मैं उन सभी लोगों को अपनी श्रद्धांजलि देता हूं, उनके परिजनों के प्रति सांत्वना व्यक्त करता हूं।’

वाराणसी के ऑक्सीजन प्रबंधन की तारीफ
प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं काशी का एक सेवक होने के नाते हर एक काशीवासी का धन्यवाद देता हूं। विशेष रूप से हमारे डॉक्टर्स ने, नर्सेस ने, टेक्निशंस, वॉर्ड बॉयज़, ऐम्बुलेंस ड्राइवर्स, आप सभी ने जो काम किया है, वो वाकई सरहनीय है पीएम ने कहा कि बनारस ने जिस स्पीड से इतने कम समय में ऑक्सीजन और आईसीयू बेड्स की संख्या कई गुना बढ़ाई है, जिस तरह से इतनी जल्दी पंडित राजन मिश्र कोविड अस्पताल को सक्रिय किया है, ये भी अपने आपमें एक उदाहरण है।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here