उत्तराखण्ड 1 बजे तक अपडेट।
जानकारी मौसम से लेकर सड़क हादसे, बादल फटने , तक

पहाड़वासियों पर भारी पड़ रहा है आज रविवार का दिन बादल फटने से तबाही, बस के खाई मैं गिरने से मौत , कुछ घायल तो जहा बादल फटा वहां जान माल का नुकसना 5 लोग लापता।


उत्तराखंड मै लगातार हो रही बारिश से पहाड़ की नदियां कल रात से हो उफान पर है , कई जगह हाईवे बंद ह तो उत्तरकाशी से बादल फटने की सूचना आचुकी है जन जीवन अस्त व्यस्त है पहाड़ों की रानी मसूरी में भी कैंपटी-यमुनोत्री मार्ग भारी भूस्खलन के बाद फिलहाल बंद हो गया है। पुलिस और स्थानीय प्रशासन जेसीबी के माध्यम से सड़क पर आए मलबे को हटाने में जुटा है। तो नई टिहरी और आसपास के क्षेत्रों में भी रातभर से बारिश का सिलसिला जारी है। यमुनोत्री हाईवे ओजरी डबरकोट में भी बंद हो गया है। यमुना नदी के साथ-साथ सहायक नदी -नाले भी उफान पर हैं। चमोली जिले में भी भारी बारिश के चलते बदरीनाथ नेशनल हाईवे लामबगड़ और पीपलकोटी से टंगणी मे अवरुद्ध हो गया है।


तो उत्तरकाशी जिले के मोरी प्रखंड में आराकोट बंगाण क्षेत्र में बादल फटने से भारी तबाही की सूचना है। हिमाचल प्रदेश की सीमा से लगे टिकोची बाजार में भी गदेरे ने तबाही मचाई। कोची में स्कूल समेत कई भवन मलबे में दब गए हैं। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन की टीम मौके पर रवाना हो चुकी है इस भारी बारिश के बाद से अब अलकनंदा, पिण्डर, धोली,नंदाकनी, बालखिला नदियां उफान पर हैं। वहीं, सडकों पर मलबा आने से चमोली में लगभग 20 सडकें भी बंद हैं। उत्तरकाशी में भी जिले के अधिकांश हिस्सो में सुबह से बारिश का सिलसिला जारी है। गंगोत्री राजमार्ग चुंगी-बड़ेथी के पास मलबा और पत्थर आने से बंद हो गया है।

माकुड़ी गांव में सरोजनी देवी पत्नी उपेंद्र सिंह की मलबे में दबने से मौत हो गई। इसी गांव में चतर सिंह का मकान भूस्खलन के मलबे में दफन हो गया। इस घर में परिवार के पांच सदस्य मौजूद थे। जिनका अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है। मौंडा गांव की प्रधान माया देवी एवं अक्षय चौहान ने बताया कि गांव के ऊपरी क्षेत्र में बादल फटने से गदेरे में आए उफान से यहां भारी नुकसान हुआ है।

मंगली देवी पत्नी श्री गुलाब सिंह निवासी दखवाण गांव पट्टी ग्यारह गांव थाना घनसाली टिहरी गढ़वाल उम्र 40 वर्ष  जंगल मे घास लेने गयी थी जिसके ऊपर समय करीब 12 बजे दोपहर पेड़ गिरने से मौके पर ही मृत्यु हो गई।

मौंडा गांव के खक्वाड़ी एवं झोटाड़ी गांव में भी आपदा से भारी नुकसान हुआ है। झोटाड़ी गांव में छत्रपाल चौहान का परिवार घर में ही फंस गया है। आराकोट में नकोट गांव की ओर से आने वाले गदेरे में आए उफान से यहां कई मकानों में मलबा घुस गया।
गदेरे से सटा मकान बहने से यहां रह रहे राइंका आराकोट के शिक्षक बृजेंद्र कुमार(57) एवं उनकी बेटी शीलू(25) के साथ ही एक अन्य महिला के भी बहने की सूचना है। आराकोट में पाबर नदी के किनारे से शिक्षक का शव बरामद होने की सूचना मिल रही है। यहां पाबर नदी का पानी ईशाली गांव को जोड़ने वाले झूला पुल को छूते हुए बह रहा है। जिससे पुल पर भी खतरा मंडरा रहा है।

तो वहीं,  गौरीकुंड से केदारनाथ के बीच भूस्खलन का खतरा देखते हुए यात्रियों को पड़ावों पर रोका गया है। सुबह 8 बजे तक गौरीकुंड से 230 श्रद्धालुओं ने धाम के लिए प्रस्थान किया था। मगर बारिश के चलते रामबाड़ा में मंदाकिनी नदी पर बना पुराना झूला पुल टूटा गया है।
तो त्यूनी में भी टोंस नदी के उफान पर पर आने से कई घर खतरे की जद में आ गए हैं। तहसील प्रशासन ने 35 परिवारों के घरों को खाली कराकर सुरक्षित स्थानों फिलहाल भेज दिया है।


केदारनाथ। गौरीकुण्ड-केदारनाथ पैदल मार्ग पर 2013 की आपदा के बाद नदी की दूसरी छोर से आवागम करने के लिए रामबाड़ा में बनाया गया पैदल पुल मंदाकिनी की तेज प्रवाह के कारण क्षतिग्रस्त हो गया है। लगातार हो रही बारिश के कारण मंदाकिनी नदी अपने उदगम से ही विकराल रूप धारण किए हुए है। मंदाकिनी नदी की भीषण लहरों ने रामबाड़ा के इस पुल के एक काॅलम को पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया है। हालांकि पुल अभी धराशाही नहीं हुआ लेकिन इस पुलस पर अब आवागम करना खतरे से खाली नहीं है। लगातार हो रही बारिश के कारण बादाकिनी नदी निचले इलाकों में ताबाही का कारण बनी हुई है। नदी किनारे वाली आबादी भयभीत है। लगातार मंदाकिनी नदी का जल स्तर बढ रहा है जिस कारण डर का वातावरण बना हुआ है।
तो वही आज सुबह उत्तराखंड के काशीपुर से मुरादाबाद जा रही प्राइवेट बस नाले में गिर गई जिसमे लगभग 30 से अधिक सवारी बैठी हुई थी


अभी तक मिली जानकारी के अनुसार चालक अपना संतुलन खो बैठा जिसके कारण ये बस और पेड से टकराते हुए सीधे नाले में गिर गई। जिसके बाद सवारियों मैं चीख पुकार मचना स्वभाविक था, तत्काल सभी लोगो को बस से निकाल दिया गया है और जो लोग घायल हुए है उन्हें अस्पताल पहुँचा दिया गया है ख़बर है कि चार से पाँच लोगो अधिक चोट आई है जिनकी हालत नाजुक है
:बस नम्बर U.a.0.7 .H.6210 hai

तो उधर पौडीं गढवाल मे नेनीडाड विलोक के – भौन मोटर मार्ग पर एक सडक़ दुर्घटना ओर गई बता दे कि जीएमओ की बस खाई में गिर गई ओर इस बस में सवार 1 की दर्दनाक मौत हो गई जबकी 2 से अधिक लोग घायल हो गए है
ख़बर है कि ये बस अन्दरोली के पास नलणगैर के ऊपर जीएमओयू की यह बस आज सुबह लगभग 7.45 पर 300 फुट गहरी खाई में गिर गई है। ये बस बामणीसैण से कोटद्वार आ रही थी। चालक व एक अन्य को गंभीर चोटें आई हैं।


वही पौड़ी से लेकर हल्द्वानी , चमोली, उत्तरकाशी मैं जन जीवन अस्त व्यस्त है ओर कही सड़के बंद हो चुकी है।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here