भगवान सिंह की रिपोर्ट।

उत्तराखंड की पहली लोको पायलट  अंजली शाह
पौड़ी जिला के रिखणीखाल विकास खण्ड के बामसू गांव की रहने वाली अंजलि शाह उत्तराखंड की पहली महिला ट्रेन चालक बनी हैं। अंजलि ने अपने बचपन का सपना साकार कर उत्तराखंड की पहली महिला ट्रेन चालाक बनने का सपना पूरा कर लिया है। 

अत्यंत साधारण परिवार की अंजलि ने बचपन में ही ठान लिया था कि वह रेल चलाने वाली ड्राइवर बनेगी बस फिर क्या था उसी दिशा में वह मेहनत करने लगी और अंततोगत्वा उसे अपने सपनों का मुकाम हासिल हुआ आज अंजली ट्रेन ड्राइवर लोको पायलट बन चुकी है


वह वर्तमान में असिस्टेंट लोको पायलट   ट्रेनिंग पर हैं। अभी वह ट्रेन के मुख्य चालक की मदद से ट्रेन चला रही हैं। 23 वर्षीय अंजलि शाह ट्रेनिंग के दौरान दो ट्रेन ट्रिप पूरी कर चुकी हैं।


वही आज उत्तराखंड की प्रथम लोको पायलट को किया सम्मानित किया गया
ढालवाला मुनि की रेती गंगा पर्यावरण सुरक्षा समिति द्वारा उत्तराखण्ड की प्रथम लोको पायलट अंजलि शाह को सम्मानित किया गया।विषम परिस्थितियों एवं सरकारी शिक्षण संस्थान मैं अध्ययन करने के बाद अंजलि शाह का उत्तराखण्ड के प्रथम लोको पायलट के रूप मे चयन हुआ तथा वर्तमान मे वह हरिद्वार से बाड़मेर राजस्थान तक ट्रेन लोको पायलट के रूप मे संचालित करती है।इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष दिनेश डबराल ने बताया कि यह उत्तराखण्ड के बालिकाओं के लिए एक उदाहरण है तथा सभी बालिकाओं को अंजलि शाह से प्रेरणा लेनी चाहिए। इस अवसर पर अंजलि की पिता बलबीर सिंह शाह ,माता श्रीमती बबली शाह, बबली जोशी, मधु चौहान,सुनीता चौहान,टीकाराम पुरर्वाल,पूनम चौहान,देवेश उनियाल, धनीराम बिंजोला,गोपाल चौहान रविशास्त्री,हरिश्वरूप उनियाल,सतेंद्र चौहान,अभिषेक शर्मा,डॉ0 सुनील दत्त थपलियाल आदि उपस्थित थे।
बोलता उत्तराखंड की तरफ से पहाड़ की बेटी को सलाम ओर भविष्य के लिए बहुत बहुत सुभकामनाये।

 



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here