ख़बर दुःखद है क्योकि एक जान चली गई । बात छोटी हो या बडी पर बच्चों के सर से अब उनके पिता का साया उठ गया आपको बता दे कि ख़बर है कि पति-पत्नी के बीच किसी बात को लेकर हुए विवाद के बाद पत्नी के मायके चले जाने और बच्चों को भूखा देख आहत हुए पति ने घर पर फांसी लगाकर अपनी जान दे दी।

ये व्यक्ति मूलरूप से पिथौरागढ़ का रहने वाला था जिसका नाम नवीन बसेड़ा ओर ये सिडकुल की एक कंपनी में चालक था।
सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मूलरूप से यर पिथौरागढ़ ओर रोडीताली गांव निवासी नवीन बसेड़ा रुद्रपुर के तराई विहार वार्ड 25 में अपनी पत्नी सपना और दो बच्चों के साथ किराये पर रहकर सिडकुल की एक कंपनी में बतौर चालक काम करता था।
ख़बर है कि 11 नवंबर की सुबह किसी बात को लेकर नवीन का पत्नी से विवाद हो गया। इस पर वह पति और बच्चों को छोड़कर मायके चली गई। नवीन ने उसे मनाने की बहुत कोशिश की, लेकिन वह नहीं मानी।
आपको बता दे कि मंगलवार रात करीब दस बजे नवीन जब घर पहुंचा। बेटी हर्षिता (8) और बेटा गोलू (6) भूखे बैठे थे। बच्चों को भूखा देख नवीन को गुस्सा आया और दूसरे कमरे में जाकर नवीन ने पंखे में फंदा लगाकर जान दे दी।
बच्चों ने पिता को पंखे से लटका देखा तो इसकी सूचना पड़ोस में ही रहने वाले ताऊ जीवन सिंह को दी। जीवन ने नवीन को फंदे से उतारा और तुरंत जिला अस्पताल ले गया, जहां जांच के बाद डॉक्टरों ने नवीन को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पति की खुदकुशी की सूचना पर पत्नी भी रुद्रपुर पहुंच गई।
एक हस्ता खेलता परिवार उजड़ गया । पति पत्नी के इस विवाद ने दो मासूमो से उनकी खुशी छीन ली । बात जो भी रही हो पर जो लोग खुद की जिंदगी को इस तरह खत्म कर देते है । वे अपनो को ज़िन्दगी भर दर्द और गम दे जाते है ।बच्चे भूखे थे तो बाहर से लाकर कुछ खिला देता। अब बताओ कोन पालेगा उन मासूमो को ज़िंदगी भर कहा से ओर केसे कोन पूरे करेगा उनकी रोज की मूलभूत जरूरत पुरी!
गुस्से मैं, दुःख तक़लीफ मे सभी को हिमत्त रखनी चाइए । इस प्रकार का कदम कोई भी ना उठाये



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here