पर्यटन विकास के लिए मिले 65 करोड़- बस किमीशन खोरी ना हो!

राज्य के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज अब उत्तराखण्ड मे रामायण, महाभारत और बुद्धिस्ट सर्किट बानने जा रहे है आपको बता दे कि
पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने की केंद्रीय पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस से मुलाकात की  
पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने केंद्रीय पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस से मुलाकात की। सतपाल महाराज ने केंद्रीय पर्यटन मंत्री को उत्तराखंड में चल रही तमाम पर्यटन योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान उनके साथ उत्तराखंड के अल्मोड़ा सांसद और केंद्रीय राज्यमंत्री अजय टम्टा भी मौजूद रहे ।            केंद्रीय पर्यटन मंत्री से मुलाकात के बाद पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बताया कि केंद्र से पर्यटन विकास के लिए 65 करोड़ की सहायता मिली है खास तौर पर अल्मोड़ा क्षेत्र में पर्यटन के विकास के लिए केंद्र सरकार 65 करोड़ की धनराशि देगी, जो कटारमल, जागेश्वर, बागेश्वर में खर्च की जाएगी।  
आपको बता दे कि उत्तराखंड में बुद्धिस्ट सर्किट बनाने की सतपाल महाराज की योजना है। जिसके लिए इसी महीने की 26 तारीख को मैराथन बैठक देहरादून में की जाएगी। जिसके बाद बुद्धिस्ट सर्किट से जुड़े क्षेत्रों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। इसके साथ ही सतपाल महाराज ने बताया कि
प्रदेश में रामायण और महाभारत सर्किट की भी है योजना है
रामायण सर्किट की शुरुआत उत्तर प्रदेश के अयोध्या से होती है, लेकिन उत्तराखंड के ऋषिकेश में भी रामायण से जुड़े क्षेत्र है। ऋषिकेश में ही भरत मंदिर है, जहां पर भगवान राम की खड़ाऊ भरत और शत्रुघ्न लेने आए थे। माता सीता भी उत्तराखंड में ही धरती में समाई थी और वहां वाल्मीकि मंदिर भी है। वही महाभारत सर्किट की सभी महत्वपूर्ण स्थान उत्तराखंड में है, लिहाजा रामायण सर्किट के तहत उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड और महाभारत सर्किल के लिए उत्तराखंड में निर्माण करने की योजना है। पर्यटन मंत्री ने बताया कि
अल्मोड़ा क्षेत्र में कई धार्मिक पर्यटन से जुड़े क्षेत्रों के लिए स्वदेश दर्शन के तहत उनका विकास किया जाएगा। देवधूरी, बैजनाथ कटारमल इनमें शामिल है। इन क्षेत्रों के विकास के लिए हमें आरकेलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया और फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के एनओसी की जरूरत पड़ती है, फिर भी करीब 40% काम किया जा चुका है। सतपाल महाराज ने कहा कि
उत्तराखंड में अभी इंस्टिट्यूट ऑफ़ होटल मैनेजमेंट स्थापित है, लेकिन हम चाहते हैं कि यह केंद्रीय आई एच एम के तौर पर कार्य करें। पूर्व पर्यटन मंत्री जगमोहन जी के कार्यकाल से यह मांग चल रही है। हमारी कोशिश है कि इस मांग पर जल्दी अमल किया जाएगा। कुल मिलाकर पर्यटन के विकास के लिये सतपाल महाराज ने कहा कि केंद्र सरकार की मदद हम उत्तराखण्ड राज्य को पर्यटन प्रदेश बना कर ही रहेगे ओर पूरे राज्य के लोगो को जिसका लाभ मिलेगा एक तरफ लोगो को रोजगार के रास्ते मिलेगे रोजगार मिलेगा तो दूसरी तरफ राज्य सरकार के राजस्व मे इजाफा होगा और इसके साथ ही पौड़ी गढ़वाल से भी आवाज आई है सतपाल महाराज के लिए पौड़ी गढ़वाल की जनता ने भी सतपाल महाराज को याद दिलाया है कि पर्यटन को बढ़वा देने के लिए यमकेस्वर विधानसभा, लैंसडौन, ओर चोबटा खाल विधानसभा पर अगर सतपाल महाराज जी नज़र डालें तो ये तीनो विधान सभाओं मे प्रकति ओर देवी देवताओं के मंदिर कण कण मे समाए है तो पर्यटको को ये वादिया बुला रही है लिहाज़ महाराज जी यहा मूल भूत सुविधा पर्यटको को देने के लिए योजनाएं बनाये ओर यहा का विकास करे जिनमे से एक चोबटा खाल की विधान सभा खुद सतपाल महाराज की है ओर सात ही लोग कह रहे है कि जो 65 करोड़ मिला है पर्यटन के विकास के लिए इसमें कमिश खोरी पर लगाम लगे और हर कार्य गुडवत्ता के साथ हो क्योकि जीरो टालरेश की सरकार से अब जनता उम्मीद यही करती है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here