पीएम सर ये शहादते बेकार ना जाये

बोलता उत्तराखंड योगेश  की  शहादत को सलाम करता है ओर ये भी कहता है कि इन जवानों की शहादत की वजह से भरात आप ओर ओर हम सुरक्षित है इनको बार बार सलाम शनिवार को नागालैंड में आतंकी हमले में शहीद योगेश की अंतिम यात्रा में पूरा उमड़ा जनसैलाब योगेश के नारों के साथ पहाड़ के लाल को पहाड़ की जनता नम आंखों से विदाई दी आपको बता दे कि
नागालैंड के जाकमा में उग्रवादी हमले में शहीद चार कुमाऊं रेजीमेंट के जवान 22 वर्षीय योगेश परगाई पुत्र स्व मोहन चंद्र परगाई का पार्थिव शव शानिवार की सुबह हल्द्वानी पहुंचा।                                      बस फिर क्या था शहीद का शव घर पहुचते ही उनके घर के बहार पूरा जनसैलाब उमड़ा पड़ा तो            
शहीद योगेश का शव घर पहुंचते ही परिजनों में कोहराम मच गया उनकी मां तारी देवी और भाभी योगेश के शव को देखते ही बेसुध हो गई। पूरे घर के लोग ओर आस पास के सभी लोगो का रो रो कर बुरा हाल है आपको बता दे कि शहीद जवान योगेश के शव को रानीबाग चित्रशिला घाट में शव अंतेष्टि को ले जाया गया।
आपको बता दे कि मूल रूप से ओखलकांडा के भद्रकोट निवासी शहीद का परिवार दो साल पहले हल्द्वानी के बिठौरिया नंबर एक बिष्टधड़ा में बसा था। योगेश इन दिनों नागालैंड में तैनात थे।
ओर बुधवार की रात को पेट्रोलिंग टीम के साथ गश्त पर गए योगेश को कैंप में वापस लौटते वक्त उग्रवादियों ने गोली मार दी। ओर योगेश शहीद हो गए। बीते रोज शाम को दिल्ली पहुचने के बाद सुबह सात बजे यूनिट के लोग शहीद योगेश के पार्थिव शव लेकर घर पहुंचे। अपने लाल शहीद जवान योगेश के शव को देख परिवार में मातम छा गया हर तरफ आंखों से आंसूओ की गंगा बह रही थी योगेश की बेशुध मां, ओर बड़े भाइयों को किसी तरह लोगों ने संभाला। घर पर आए सभी नाते रिश्तेदार ओर आमजनमानस जो भी पहुंचे सभी लोगों की आंखे नम थी। शव यात्रा के रानीबाग पहुंचने पर सैन्य सम्मान के साथ शहीद को अंतिम विदाई दी गई। राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने भी शहीद योगेश की शहादत को सलाम किया और कहा कि राज्य सरकार शहीद योगेश के परिवार के साथ खड़ा होकर हर सहयोग शहीद के परिवार का करेगी पूर्व मुख्यमंन्त्री हरीश रावत भी शहीद के परिवार से मिलकर उनकी हिमत बड़ाई ओर उनके दुख मैं शामिल होकर उनके परिवार की आगे हर संभव मदद करने की बात कही आपको बता दे कि अभी पिछले दिनों मैं ही राज्य ने अपने 4 लालो को खो दिया है ये राज्य के लाल भारत माता की रक्षा के लिए शहीद हो गए देवभूमि उत्तराखंड शाहदतो की भूमि है वीरों की भूमि है और यही से पैदा होते है भारत माता के वो लाल जो भारत माता की रक्षा करते करते शहीद हो जाते है ओर अपना फर्ज पूरा करते है अब बारी आपकी ओर हमारी है कि हम भी शहीद जवानों के परिवार का हर दुःख मे सहयोग करे जरूरत पड़ने पर उनकी मदद करे उनकी आंखों का तारा तो भारत माता की रक्षा के लिए शहीद हो गया है पर हम ओर आप शहीद के माता पिता के का हर दुख में अगर उनका साथ दे तो यही होगी शहीदों को हमारी सच्ची श्रदांजलि।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here