कोरोना : रिकवरी दर में उत्तराखंड देश का पांचवां राज्य , आज 45 केस ओर आये यहा से

प्रदेश में शनिवार को 45 और कोरोना संक्रमित मिले, मरीजों की संख्या 3093 पहुंची


उत्तराखंड में अभी तक मतलब शनिवार को 45 और कोरोना संक्रमित के मामले ओर मिले हैं। जिन्हें मिलाकर उत्तराखंड में संक्रमित मरीजों की संख्या 3093 पहुंच गई है। वहीं, 21 संक्रमित मरीजों को इलाज के बाद शनिवार को घर भेजा गया है। 
ओर ये भी जान लो कि
कोरोना : रिकवरी दर में उत्तराखंड देश का पांचवां राज्य, मरीजों के ठीक होने की दर 80 प्रतिशत से अधिक है

आज ऊधमसिंह नगर जिले में 17 संक्रमित मिले हैं
इनमें छह दिल्ली,
एक गुरुग्राम, एक बंगलूरू, एक जयपुर, एक फरीदाबाद, चार संक्रमित संपर्क में और तीन की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। 

देहरादून जिले में आठ संक्रमितों में एक स्वास्थ्यकर्मी, एक बिजनौर, एक बरेली, एक पश्चिम बंगाल, एक दिल्ली, दो संपर्क में और एक कोरोना मरीज की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है।
बागेश्वर जिले में छह संक्रमित कानपुर से लौटे हैं।

उत्तरकाशी जिले में पांच संक्रमितों में चार दिल्ली और एक चंडीगढ़ से आया है।
नैनीताल जिले में चार कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें तीन दिल्ली और हल्द्वानी मेडिकल कालेज में भर्ती एक मरीज में संक्रमण की पुष्टि हुई है।
अल्मोड़ा जिले में दो संक्रमितों की ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है।
हरिद्वार में एक संक्रमित मरीज मध्य प्रदेश से लौटा था। पौड़ी और टिहरी जिले में एक-एक संक्रमित मिले हैं। जिनकी ट्रेवल हिस्ट्री नोएडा व मुंबई की है।वही आज मतलब  शनिवार को पौड़ी, अल्मोड़ा और टिहरी जिले में 21 संक्रमितों को इलाज के बाद घर भेजा गया है। प्रदेेश में अब तक 2502 संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं। 

आज मिले संक्रमित जान लो

ऊधमसिंह नगर     – 17
देहरादून    – 08
बागेश्वर    – 06
उत्तरकाशी    – 05
नैनीताल    – 04
हरिद्वार    – 01
पौड़ी    – 01
टिहरी    – 01

आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मामलों में कमी आई है, लेकिन अभी भी लगातार सावधान रहने की जरूरत है। प्रशासनिक स्तर पर किसी तरह की ढील नहीं होनी चाहिए। कोशिश करें कि कोरोना संक्रमित किसी भी व्यक्ति की जान न जाए। कोरोना मृत्यु दर को कम करने पर विशेष ध्यान दें।

शनिवार को सचिवालय में मुख्यमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से कोरोना संक्रमण की रोकथाम व बचाव कार्यों की समीक्षा की।

सीएम ने कहा कि कोरोना से जंग में लगातार सतर्कता जरूरी है। प्रदेेश की रिकवरी दर 81 प्रतिशत से अधिक हो गई है। मृत्यु दर को कम करने पर विशेष ध्यान दिया जाए। कोरोना के गंभीर मामलों पर जिलाधिकारी और सीएमओ स्वयं नजर रखें।

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कांटेक्ट ट्रेसिंग, सर्विलांस और सैंपलिंग को बढ़ाया जाए। बैठक में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, सचिव स्वास्थ्य अमित सिंह नेगी, आयुक्त गढ़वाल रविनाथ रमन, आयुक्त कुमाऊं अरविंद सिंह ह्यांकी, प्रभारी सचिव स्वास्थ्य डॉ.पंकज कुमार पांडेय, आईजी संजय गुंज्याल, अपर सचिव युगल किशोर पंत, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ.अमिता उप्रेती आदि मौजूद रहे।

अभी आराम का समय नहीं

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले चार माह में कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए काफी काम किया गया। जिससे प्रदेश में कोरोना की रिकवरी दर बढ़ी है, लेकिन अभी आराम का समय नहीं है। सीएम ने कहा कि कोरोना से जंग में आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व अन्य फ्रंटलाइन वर्कर प्रमुख योद्धा हैं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि आशा व आंगनबाड़ी वर्करों को मानदेय का समय पर भुगतान किया जाए।

Leave a Reply